VIDEO-बुखारी पेट्रोल पम्प विवाद..जब PM से नहीं मिला जवाब..तो रविश कुमार को लिखा पत्र.. जाजोदिया ने कहा..हर बार 2 मिनट वाला जवाब

बिलासपुर—- लिंक रोड स्थित बुखारी पेट्रोल पम्प विवाद सामने आया है। जमीन  मालिक विमल जाजोदिया ने बताया कि बाप दादा की गलती को अब नहीं दुहराना है। जमीन लीज की तारीख डेढ़ साल पहले खत्म हो गयी है। अब हमें अपनी जमीन चाहिए। बावजूद इसके भारत पेट्रोलियम अपना पेट्रोल स्टेशन हटाने को तैयार नहीं है। मैं जमीन पाने के लिए प्रधानमंत्री, पेट्रोलियम मंत्री,बीपीसीएल से लेकर टेरेटरी मैनेजर के सामने गिड़गिड़ा चुका हूं। लेकिन  अभी तक न्याय नहीं मिला है। जमीन भी खाली नहीं किया जा रहा है।
                 जमीन मालिक विमल जाजोदिया ने बताया कि  थक चुका हूं। समझ में नहीं आ रहा है कि क्या  करूं। अब अहसास हो रहा है कि हमने लीज पर जमीन देकर बहुत बड़ा पा़प किया है। न्याय नहीं मिला तो..आत्मघाती कदम उठाने से भी गुरेज नहीं करूंगा। विमल ने बताया कि मामले को लेकर एनडीटीवी के स्टार पत्रकार रविश कुमार को भी पत्र लिखा है। देखें आगे क्या होता है। 
              सीजी वाल को जमीन मालिक विमल जाजोदिया ने बताया कि साल 1963 में उनके दादा ने बुखारी पेट्रोल संचालन के लिए लिंक रोड़ स्थित जमीन बीपीसीएल को 20 साल की लीज पर दिया। फैसला शहर विकास को लेकर लिया गया। क्रम लगातार 20-20 साल के लिए जलता रहा। साल 2001 में फिर से बीस साल के लिए लीज को लेकर समझौता हुआ। विमल जाजोदिया के अनुसार 2001 में जमीन लीज पर नहीं देना चाहते थे। बावजूद इसके बीपीसीएल के निवेदन पर अंतिम बार लीज पर देने का फैसला लिया गया। 
 8 साल नहीं कराया लीज
             जाजोदिया ने बताया कि साल 1993 में लीज खत्म होने के बाद नया एग्रीमेन्ट नहीं किया गया। हमने प्रयास किया कि जमीन बीपीसीएल जमीन खाली करे। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। और करीब 8 साल तक बिना लीज की जमीन पर पेट्रोल पम्प का संचालन किया गया। लेकिन बीपीसीएल के निवेदन पर कि इस बार 20 साल की लीज के बाद जमीन खाली कर देंगे। करार 31 दिसम्बर 2020 को खत्म हो गया है। बावजूद इसके जमीन अभी तक खाली नहीं हुआ है। 
 पेट्रोल पम्प का अवैध संचालन
             जाजोदिया ने बताया कि लीज खत्म होने के बाद लायसेंस भी खत्म हो जाता है। जानकारी के लिए आरटीआई लगाया हूं। मामले में लगातार पेट्रोल कम्पनी गुमराह कर रही है।
 न्याय के लिए इन्हें लिखा पत्र..
          जाजोदिया के अनुसार जमीन के लिए अब तक प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, पेट्रोलियम मंत्री हरदीप पुरी, बीपीसीएल,कन्ट्रोलर ऑफ एक्सप्लोसिव रायपुर, पीएम  ग्रेवांस..रिटेल हेड रायपुर को पत्र भेजा है। लेकिन कहीं से कोई जवाब नहीं आया
 रविश कुमार को भेजा पत्र
           जाजोदिया ने बताया कि उन्होने एक पत्र एनडीटीवी पत्रकार रविश कुमार को भी पत्र लिखा है। बताया कि पेट्रोलियम कम्पनी की दादागिरी ने उन्हें परेशान कर के रख दिया है। कमोबेस भारत के जमीन लीज देने वाले सभी मालिकों की स्थित ऐसी ही है। लेकिन  पता गलत होने के कारण पत्र लौट आया। 
               विमल ने बताया कि यदि कहीं से न्याय नहीं मिला तो..वह इस बात के लिए मजबूर हो जाएंगे। जिसे सभ्य समाज उचित नहीं समझता है। यह जानते हुए भी जमीन की लीज खत्म हो गयी है। यदि पेट्रोल पम्प में कोई घटना हो जाती है तो उसका जिम्मेदार कौन  होगा।
दो मिनट बाद करूंगा फोन
            रिजनल मैनेजर जैन ने बताया कि मामले में विस्तार से चर्चा करूंगा। फिलहाल बताने की स्थिति में नहीं हू। दो मिनट बाद बैठक खत्म होगी। इसके बाद फोन लगाकर बुलाउंगा। सारी जानकारी दूंगा। 
                     जाजोदिया ने बताया कि रिजनल मैनेजर ही नहीं बल्कि बीपीसीएल के सभी कर्मचारी इसी तरह की बातें करते हैं।कोई ना कोई बहाना बनाकर जवाब देने से बचते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *