कांग्रेसियों का जंगी प्रदर्शन..सुरक्षा घेरे को तोड़कर किया सांसद बंगले का घेराव..विजय ने कहा-सुधर जाए केन्द्र..नेताओं ने बताया..देश को दो,बेच रहे..दो,खरीद रहे

बिलासपुर—- कांग्रेस नेताओं ने आज जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष की अगुवाई में नेहरू चौक में रेल परिवहन बन्द किए जाने के खिलाफ जंगी प्रदर्शन किया। सैकड़ों की संख्या में रैली निकालकर कांग्रेस नेता और कार्यकर्ताओं ने रैली निकालकर सांसद अरूण साव  के बंगले का घेराव किया। सुरक्षा व्यवस्था को धता बताकर कांग्रेस नेता सांसद अरूण साव के घर के सामने पहुंच गए। इस दौरान जमकर नारेबाजी कर रेल यात्रियों को होने वाली असुविधियों को लेकर नाराजगी जाहिर किया। 

                   रैली और घेराव के पहले जिले के दिग्गज नेताओं ने नेहरू चौक पर कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इस दौरान विधायक शैलेष पाण्डेय ने महंगाई के खिलाफ पैरोडी भी सुनाया। मंच को विजय पाण्डेय, विजय केशरवानी, शैलेष पाण्डेय,अटल श्रीवास्तव, प्रमोद नायक, अरूण सिंह चौहान, राजेन्द्र शुक्ला, अरविन्द शुक्ला, सियाराम कौशिक,आदित्य दीक्षित, महेश दुबे ने जमकर भाषण दिया। इस दौरान मंच के नीचे से कार्यकर्ताओं की नारेबाजी भी शुरू रही। 

 सुरक्षा चक्र को कार्यकर्ताओं ने तोड़ा

               नेहरू चौक में भाषणवाजी के बाद जिले के दिग्गज नेताओं समेत हजारो कार्यकर्ता रैली में शामिल दिग्गज नेताओं के साथ हजारों कार्यकर्ताओं ने हाथ में झण्डा लेकर अरूण सावन के निवास की तरफ कूच किया। आवास के पहले ही बनाए गए पुलिस बेरिकेट्स को कार्यकर्ताओं ने तोड़ दिया। इसके बाद सैकड़ों उत्साही कार्यकर्ता अरूण साव के बंगले के सामने पहुंच गए। कुछ कार्यकर्ताओं ने दीवार फांदकर झण्डा भी फहरा दिया। 

एसडीएम को ज्ञापन

              भारी हो हल्ला और हंगामे के बीच एसडीएम को विजय केशरवानी समेत सभी वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं ने प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया। विजय ने बताया कि सांसद अरूण साव एक दिन पहले कहते हैं कि 42 रेल गाड़ियों का परिवहन शुरू हो जाएगा। रेल मंत्रालय ने हरी झण्डी दिखा दिया है। दूसरे दिन 68 गाड़ियों के पहिए रोक दिए जाते हैं। ऐसे संवेदहनहीन केन्द्र सरकार को सत्ता में रहने का अधिकार नहीं है।

क्या कहा नेताओं ने

            विजय केशरवानी ने पत्रकारों को बताया कि हमने क्रमिक धरना प्रदर्शन कर रेल परिवहन का पहिया रोकने का विरोध किया। कई बार ज्ञापन भी दिया गया। बावजूद इसके रेल प्रशासन ने छत्तीसगढ़ की गरीब जनता,बेरोजगार युवको और व्यापारियों के साथ अन्याय किया है। परिवहन रोकने के साथ ही स्टेशनों का स्टापेज बन्द कर दिया गया है। एक तरफ सांसद सांव कहते हैं कि उनके कहने पर रोकी गयी गाड़ियों को शुरू किया गया। उन्हे बताना चाहिए अब किसके आदेश पर रेल के पहियों को रोका गया है। यदि जनता की मांग को पूरा नहीं किया गया तो रेल रोको आँदोलन के लिए मजबूर होना पड़ेगा। 

       प्रमोद नायक ने बताया कि हम सांसद को ज्ञापन देने आए। लेकिन सांसद ने यहां भी संवेदनहीनता का परिचय देते हुए बंगला से गायब हो गए। हमारी मांग है कि सांसद छत्तीसगढ़ की गरीब जनता की परेशानियों को सदन में रखे..और दूर भी करें। बिलासपुर की धरती केवल कोयला परिवहन करने के लिए ही नही है। यदि मांग को गंभीरता से नहीं लिया गया। और प्रदर्शनकारियों पर दर्ज एफआईआर को नहीं हटाया गया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

         धरना प्रदर्शन के दौरान नगर विधायक ने कर चले हमेे फिदा जाने तन साथियों का पैरोड़ी सुनाया। विधायक ने कहा कि एशिया कि सबसे बड़ी खदान छत्तीसगढ़ के कोरबा में है। गेवरा में इतना कोयला है कि उसे 100 सालो तक नहीं निकाला जा सकता है। लेकिन मोदी सरकार अपने दो लोगों के लिए अफ्रीका से कोयला मंगवा रही है। दरअसल देश को मोदी और शाह नहीं..बल्कि अडानी और अंबानी चला रहे है। पाण्डेय ने बताया कि केन्द्र सरकार ने पहले तो महंगाई बढ़ाकर गरीबों का पेट काटा है। अब रेल के पहियों को रोककर पैर काट रही है। देश के संसाधनों को दो लोग बेच रहे और दो लोग खरीद रहे है। हम इसे हरगिज बर्दास्त नहीं करेंगे। देश को गुलाम बनाने की साजिश को कामयाब नहीं होने देंगे।                  


https://m.youtube.com/watch?v=VJVgPRMjcxM

https://m.youtube.com/watch?v=VJVgPRMjcxM

Leave a Reply

Your email address will not be published.