मेरा बिलासपुर

देर रात्रि करही कछार में रेत माफियों का नंगा नाच…जानकारी के बाद भी न SDM पहुंचे न पुलिस…हाइवा चालकों ने कहा..कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता

बिलासपुर—(डब्बू सिंह ठाकुर)देर रात्रि खबर लिखे जाने तक करीब एक बजे के आस पास कोटा थाना क्षेत्र के करही कछार में अधाधुंध रेत का उत्खनन जारी है। मामले की जानकारी दिए जाने के बाद भी सुचिता की दुहाई देने वाले एडीएम और पुलिस प्रशासन का एक भी नुमाइंदा रेत घाट नहीं पहुचा। और ना ही पकड़ी गाड़ियों को बरामद करने ही कोई आया। लेकिन पकड़े गए दोनो हाइवा चालकों  जरूर बताया कि प्रशासन के आशीर्वाद से ही रेत का उत्खनन और परिवहन हो रहा है। जाहिर सी बात है कि हमारा कोई कुछ उखाड़ नहीं सकता है। चाहे गाड़ी दिन रात्रि खड़ी कर के रख लो।

Join Our WhatsApp Group Join Now

देर रात्रि कोटा थाना क्षेत्र के करही कछार में रेत का अवैध कारोबार जमकर फल फूल रहा है। पिछले एक सप्ताह से एसडीएम और पुलिस प्रशासन को मामले की लगातार जानकारी दी जा रही थी।

बावजूद इसके ना तो एसडीएम प्रशासन की तरफ से कोई एक्शन लिया जा रहा है। और ना ही पुलिस प्रशासन के कान में जूं रेंग रहा है। नतीजन रेत माफिया स्याह काली रात्रि में अपने मंसूुबों को धड़ल्ले से अंजाम दे रहे हैं।

रविवार और सोमवार की दरमियानी रात्रि करीब एक बजे के आसपास स्थानीय पत्रकारों ने पहले तो करही कछार स्थित रेत के अवैध खदान पर धावा बोला। मौके से ही पत्रकारों ने अवैध उत्खनन और परिवहन की जानकारी एसडीएम उर्वशा को दिया। स्थानीय पुलिस को भी रेत के अवैध परिवहन और उत्खनन की जानकारी साझा किया। घंटों बाद भी ना तो राजस्व प्रशासन की टीम पहुंची। और ना ही पुलिस का बंदा ही नजर आया। इस दौरान रेत चोरों ने पत्रकारों को धमकी दिया कि कोई नहीं आएगा। और हुआ ऐसा ही।  एक ड्रायवर ने जान से मारने की धमकी भी दे दिया।

 बातचीत के दौरान दो में से एक हाइवा का ड्रायवर ने बताया कि गाड़ी मालिक का नाम नगोई निवासी संजू साहू है। नगोई निवासी संजू साहू  पैसे वाला है.. पुलिस से लेकर स्थानीय प्रशासन मे उसकी अच्छी धाक है। यदि गाड़ी नहीं जाने दिया तो इसका खामियाजा भुगतना पड़ सकता है। ड्रायवर ने यह भी जानकारी दिया कि करही कछार रेत खदान का अवैध संचालन बेलगना निवासी संजय ऊर्फ पिन्टू केशरवानी करता है।  रेत लेकर वह नगोई तखतपुर जा रहा है।

दूसरे हाइवा के ड्रायवर ने भी अपना नाम सुरेश कुमार ध्रुव बताय। ध्रुव के अनुसार रेत लेकर लोरमी जा रहा है। गाड़ी मालिक का नाम सुरेश और पवन अग्रवाल है। इस दौरान सुरेश ध्रव ने गाड़ी मालिक को फोन लगाकर वस्तुस्थिति से अवगत कराया। ड्रायवर ने गाड़ी रोकने वाले पत्रकार से कहा कि चाहे कुछ भी कर लो..ना तो पुलिस आएगी और ना ही स्थानीय प्रशासन का कोई बन्दा ही आएगा। क्योंकि यह लोग अपने आदमी हैं।

दोनो हाइवा चालकों के अनुसार  रोज रात्रि में रेत का परिवहन करते हैं। रायल्टी पर्ची की कभी जरूरत ही नहीं पड़ती है। क्योंकि खदान और गाड़ी मालिक का नाम ही रायल्टी पर्ची से ज्यादा पावरफृुल है। बहरहाल खबर लिखे जाने तक करही कछार में अधाधुंघ अवैध उत्खनन और रेत परिवहन का काम चल रहा है।

                   

Back to top button
close