VIDEO-निषाद पार्टी राष्ट्रीय सचिव संजय ने सभी,आरोप से किया इंकार..कोयला की हेराफेरी करने वाले दीपक से कोई सम्बन्ध नहीं..फंसा रही सरकार

BHASKAR MISHRA
3 Min Read

बिलासपुर--निषाद पार्टी के राष्ट्रीय सचिव डॉ.संजय सिंह राजपूत का कार्यकर्ताओं ने चकरभाठा एअरपोर्ट पर आतिशी स्वागत किया। फूल माला से स्वागत के बाद कार्यकर्ताओं ने बाइक रैली निकाली। इस दौरान जिन्दाबाद के नारे भी लगाए। राष्ट्रीय सचिव अपने वाहन से सीधे शनिचरी पहुंचकर बिलासा दाई की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। इस दौरान उपस्थित करीब दो दर्जन कार्यकर्ताओं को संबोधित भी किया।उन्होने कहा यदि कांग्रेस को साल 2023 में सरकार बनाना है तो निषाद पार्टी से हाथ मिलाना होगा। उत्तर प्रदेश में भाजपा को झुकना पडा। निषाद पार्टी के सहयोग से उत्तर प्रदेश में योगी आदित्य नाथ की सरकार बनी।

             इस दौरान संजय सिंह प्रदेश सरकार पर निशाना भी साधा। उन्होने निषाद समाज केसाथ अन्याय हो रहा है। यह सच है कि वह पहले कांग्रेस पार्टी में थे। फिर भाजपा के साथ हो लिए। और अन्त में निषाद पार्टी में गरीबों की सेवा करने के लिए प्रवेश किया।

                      कांग्रेस और भाजपा में तवज्जों नहीं मिली क्या इसलिए निषाद पार्टी में चले गए। संजय सिंह ने कहा कि  निषाद समाज बहुत गरीब है..इसलिए सेवा करने पार्टी में प्रवश किया। राजपूत समाज कब से शोषण का शिकार हो गया। सवाल के जवाब में संजय सिंह ने कहा कि भगवान राम और निषादराज में पारिवारिक सम्बन्ध है। इसलिए हमारी जिम्मेदारी है कि समाज के साथ भी  न्याय हो।

      कोयला हेराफेरी में आपका भाई दीपक जेल में है। क्या दबाव बनाने के लिए पार्टी का सहारा लिया है। संजय ने पहले तो कौान दीपक का सवाल किया। फिर उन्होने बताया कि दीपक के साथ उनका कोई सम्बन्ध नहीं है। उनका अलग व्यवसाय है..और हमारा अलग काम है। हम समाज सेवक हैं। फिलहला उन्हें नहीं मालूम की वह जेल में है। 

           यह कैसे सम्भव है कि भाई जेल में है और उन्हें नहीं मालूम…। निषाद पार्टी के राष्ट्रीय सचिव ने बताया कि आज आया हूं..सारी जानकारी मिल जाएगी। क्या दीपक को छुड़ांएंगे..उन्होने कहा कि सरकार अन्याय और षड़यंत्र कर रही है। उसे जो करना है करे..हमें कोई मतलब नहीं।

        कोयला और जमीन हेराफेरी में आपका भी नाम है। सवाल के जवाब में संजय ने बताया कि सरकार जितनी चाहे मनमानी करे। हमारे खिळाफ कहीं कोई आरोप नहीं है।

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close