TOP 20 में जगह नहीं..फिर भी बिलासपुर को मिली खुशी की वजह…टॉपर ने कहा बनूंगी IAS..हेलीकाफ्टर यात्रा को लेकर रोमांचित हूं

Editor
3 Min Read

बिलासपुर—-प्रदेश का दूसरा बड़ा शहर यानि बिलासपुर का नाम इस बार दसवी टाप मेरिट लिस्ट में नहीं दिखाई दिया। शायद शिक्षा विभाग शर्मिन्दा हो…लेकिन यह सच है..कि इस बार टाप टेन नहीं बल्कि टाप 20 में भी एक भी छात्र को स्थान नहीं मिला है। शायद पहली बार ऐसा देखने को मिला है कि टाप मेरिट में एक भी बच्चा बिलासपुर जिले से नहीं है। वैसे पिछले दो तीन साल में बिलासपुर शहर ना ही सही लेकिन बिलासपुर जिले से दो तीन बच्चों का नाम टाप मेरिट में देखने को मिलता रहा। लेकिन इस बार एक भी छात्र या छात्रा का नाम मेरिट में नहीं है। बावजूद इसके बिलासपुर वाले इस बात को लेकर खुश है कि कवर्धा की बेटी ने दसवी की परीक्षा में आठवा स्थान हासिल किया है। खुशी की वजह भी है…मेरिट टॉप टेन में आठवा स्थान हासिल करने वाली बेटी का ननिहाल बिलासपुर स्थित ओमनगर में है। 

Join Our WhatsApp Group Join Now

बिलासपुर को इस बार दसवी बोर्ड परीक्षा टाप टेन ही नहीं बल्कि टॉप 20 में भी मेरिट में जगह नहीं मिली है। इस बात को लेकर जिला शिक्षा विभाग जरूर शर्मिन्दा होगा। लेकिन बिलासपुर के लोगों ने खुश होने की वजह भी ढूंठ लिया है। कवर्धा की बेटी भूमि वारते ने दसवी की मेरिट लिस्ट में आठवां स्थान हासिल किया है। भूमि वारते की सफलता को लेकर बिलासपुर वासियों को खुशी की वजह भी है।

भूमि का ननिहाल बिलासपुर शहर स्थित ओमनगर में है। भूमि परीक्षा देने के बाद ननिहाल छुट्टी मनाने आयी है। बुधवार को जैसा ही पता चला कि उसने 97.67 प्रतिशत अंक हासिल कर प्रदेश में आठवा स्थान हासिल किया है। नाना नानी और माता पिता की खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा।  

बातचीत के दौरान भूमि ने बताया कि बचपन से यानि सोचने समझने की उम्र से उसने आईएएस बनने का सपना देखा है। लक्ष्य को ध्यान में रखकर वह लगातार पढ़ाई करती है। मुझे उम्मीद थी कि वह अच्छा स्थान हासिल करेगी। लेकिन उम्मीद नहीं थी कि प्रदेश में उसे आठवां स्थान मिलेगा। मेरी सफलता में माता पिता के साथ बड़ी बहन और स्कूल के शिक्षकों का अहम योगदान है।

भूमि ने मुख्यमंत्री के साथ हेलीकाफ्टर से घूमने के सवाल पर कहा कि वह इस बात को सोचकर बहुत रोमांचित है। आज तक उसने हेलीकाफ्टर नहीं देखा है। मुख्यमंत्री के साथ हेलीकाफ्टर का सफर गर्व की बात है। मुझे इस दौरान मुख्यमंत्री के करीब होने का भी अवसर मिलेगा। भूमि ने बताया कि लक्ष्य को हासिल करने के लिए सकारात्मक सोच का होना बहुत जरूरी है। वह आईएएस बनकर वह अपने माता पिता के सपनों को जरूर पूरा करेगी।

 

close