डीजीपी अवस्थी का 1 हजार जवानों से वर्चुअल संवाद..कहा..आपकी त्याग और तपस्या को सलाम..जाबाजों को दिया जाएगा छत्तीसगढ़ वारियर सम्मान

रायपुर—नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों को छत्तीसगढ़ वॉरियर प्रशस्ति पत्र दिया जाएगा। यह बातें प्रदेश के डीजीपी डीएम अवस्थी ने कही। एलान के साथ ही डीजीपी अवस्थी ने सुदूर नक्सल प्रभावित इलाकों के कैम्पों में तैनात करीब  1 हजार से अधिक जवानों से वर्चुअल संवाद भी किया। डीजीपी ने जवानों को रिचार्ज करते हुए कहा कि दीपावली के बाद प्रत्येक कैम्प में एक एक जवान से मुलाकात करेंगे।
 
                 डीजीपी डीएम अवस्थी नेे गुरूवार को अभिनव पहल करते हुए बस्तर के सभी जिलों में स्थित कैम्पों में तैनात जवानों से वर्चुअल सवाद किया। डीजीपी ने कहा कि नक्सल मोर्चे पर तैनात असाधारण कार्य के लिए जवानों को पुलिस मुख्यालय की तरफ से छत्तीसगढ़ वॉरियर प्रशस्ति पत्र से नवाजा जाएगा। डीजीपी ने बताया कि हमारे जवानों की वीरता और साहस का कोई मोल नहीं है। नक्सल मोर्चे पर तैनात जवानों को उल्लेखनीय कार्यों के लिये आउट ऑफ टर्न प्रमोशन के साथ अन्य सम्मान मिल जाते हैं लेकिन कई ऐसे जवान हैं जिन्हें यह  सम्मान नहीं मिल पाता है। ऐसे में पुलिस मुख्यालय की ओर से असाधारण वीरता का प्रदर्शन करने वाले जवानों को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा।
 
                          पुलिस के जवान हर दिन , हर पल लड़ाई लड़ते हैं। आप सभी दीवाली  के त्यौहार पर अपने परिवार से दूर नक्सल मोर्चे पर मुस्तैदी से तैनात हैं। दीपावली के बाद प्रत्येक कैम्प में आकर आप सभी से मुलाकात करूंगा। आपकी हर समस्या का तत्काल निदान किया जाएगा।
 
               बताते चलें कि पहला मौका है कि प्रदेश के डीजीपी के सामने सुदूर वनांचल स्थित नक्सल प्रभावित इलाकों से जुड़े करीब 1 हजार जवानों ने अपनी बातों को रखा। दीवाली से पहले अपने मुखिया से रूबरू होने और समस्याओं का तत्काल निराकरण होने की बात पर जवानों ने खुशी जाहिर की।  डीजीपी ने वर्चुअल मुलाकात में सुकमा के फुलबागड़ी कैंप, दंतेवाड़ा के पालनार  कैंप , पुलिस लाइन , बीजापुर  के गुदमा  कैंप , बस्तर  के तिरिया कैंप , बास्तानार कैंप , कोंडागांव के मर्दापाल कैंप , कांकेर के अरगूर कैंप , नारायणपुर  के एसपी  ऑफिस और राजनांदगाव के मानपुर थाना, गातापार थाना से जवानों से बातचीत की।
 
                              इस अवसर पर अवस्थी ने कहा कि नक्सल प्रभावित इलाकों में तैनात जवानों के त्याग और कर्तव्यनिष्ठा को मैं सलाम करता हूं।  नक्सल मोर्चे पर महिला कमांडो भी उल्लेखनीय कार्य कर रहीं हैं। डीजीपी के सामने जवानों ने आवास, स्थानान्तरण, अग्रिम राशि और अन्य मांगो को पेश किया। वहीं डीजीपी ने भी समस्या का तत्काल निराकरण कर आदेश भी जारी कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *