Watch PHOTOS:विकास के साथ परेशानी का तोहफा,अप्रोच रोड नहीं होने से राहगीर परेशान,जान हथेली पर रख कर रहे पुल पार

लोरमी–राज्य और केंद्र सरकार के संयुक्त प्रयास से  ग्रामीण भारत को शहरी भारत से जोड़ने सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है।  ग्रामीण क्षेत्रों से साथ ही शहरी क्षेत्रों में  स्टेट और नेशनल हाइवे सड़क निर्माण का कार्य तेजी से चल रहा है। एडीबी का लोरमी से कोटा मुख्य मार्ग पर सड़क निर्माण का कार्य चल रहा है। कई जगहों पर पूल का भी निर्माण किया जा रहा है। लेकिन पुल निर्माण में आ रही सुस्ती के चलते निर्माण कार्यों में काफी देरी हो रही है। जिसके चलते लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।सड़क निर्माण एक निश्चित अवधि में पूरा किया जाना था। लेकिन कार्य धीमी गति से होने के कारण कारण कई जगहों के पूल का निर्माण कार्य अधूरे हैं। यद्यपि ठेकेदार पूल निर्माण कार्य के साथ एप्रोच रोड बनवा तो रहा है कि लेकिन गति इतनी धीमी है कि गाड़ियों के आवागमन में काफी परेशानी हो रही है।

बरसात शुरू होने के साथ परेशानी कुछ ज्यादी ही बढ़ गयी है। कई जगहों में पानी भर जाने से परिवहन कार्य बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। पिछले कई दिनों से लोरमी में जमकर बारिश होने से क्षेत्र में जलभराव की स्थिति है। लोरमी कोटा मुख्य मार्ग में निर्माणाधीन पूल के पास बनाये गए एप्रोच रोड के ऊपर से पानी का तेज बहाव हो रहा है। जिसके कारण पूल के दोनों तरफ गाड़ियों की लंबी कतार लग गयी है। आम जनता को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। पानी का तेज बहाव होने के बाद भी स्कूली छात्र और राहगीर जान जोखिम में डालकर पूल पार कर रहे है। आसपास के किसानों के खेतों में लगी फसल भी चौपट हो गयी है।

मालूम हो कि पहले भी तेज बारिश से पुल का एप्रोच रोड बह गया था। घटना के बाद आज तक पुल का निर्माण पूरा नही किया जा सका है। मामले में साइट इंजीनियर का कहना है कि जल्द ही पुल का निर्माण पूरा कर लिया जायेगा। सवाल उठना लाजिम है कि बारिश का मौसम शुरू हो चुका है। क्षेत्र में लगातार बारिश भी हो रही है। सारे निर्माण अधूरे हैं। आवागमन का वैकल्पिक साधन नहीं होने से आने वाली परेशानी को लेकर ना तो शासन गंभीर है और ना ही शासन के अधिकारी। ऐसे में ठेकेदार कब तक पुल का निर्माण करेगा कहना मुश्किल है। क्योंकि देरी में ही ठेकेदार को फायदा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *