भीषण गर्मी से 5 दिनों तक राहत, दिल्ली समेत इन राज्यों में बारिश

उत्तर और पश्चिम भारत के राज्यों में अगले 5 दिनों तक भीषण गर्मी से लोगों को राहत ( NO heatwave) मिलेगी. पिछले कुछ दिनों के दौरान हुई बारिश के चलते तापमान नीचे आ गए हैं. मौसम विभाग ( IMD) के मुताबिक 5 दिनों तक तापमान बढ़ने की कोई आशंका नहीं है. राजधानी दिल्ली-एनसीआर समेत पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में  बंगाल की खाड़ी से आ रही पूर्वी हवा के चलते गर्मी बढ़ने के आसार नहीं हैं. वहीं कश्मीर से लेकर उत्तराखंड तक एक वेस्टर्न डिस्टरबेंस ( Western disturbence) बना हुआ है. इसके चलते इन राज्यों में हल्की बारिश होने की संभावना है. दूसरी ओर, दिल्ली-एनसीआर समेत आसपास के राज्यों में फिलहाल कोई मौसमी सिस्टम नहीं है. इसलिए फिलहाल मानसून पूर्व फुहारों की उम्मीदें कम है. अरब सागर से आ रही हवाओं की वजह से गुजरात में भी तापमान नहीं बढ़ेंगे. मौसम विभाग के अनुमानों के मुताबिक राजस्थान के कुछ हिस्सों में गर्मी बनी रह सकती है. जोधपुर और जैसलमेर के आसपास तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के आसपास बने रहेंगे.

स्काईमेट वेदर ( Skymet Weather) के अनुमानों के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान पूर्वोत्तर और दक्षिणी के राज्यों जैसे असम के पूर्वी हिस्सों, अरुणाचल प्रदेश, केरल और दक्षिण तटीय कर्नाटक में हल्की से मध्यम स्तर की बारिश हो सकती है. सिक्किम, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, बिहार के कुछ हिस्सों, पूर्वी मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और लक्षद्वीप में भी हल्की से मध्यम बारिश संभव है. जम्मू कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, दक्षिण और पूर्वी उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और तेलंगाना में हल्की बारिश हो सकती है.

उत्तर पूर्वी राज्यों में मौसम सुहावना

वहीं देश के पूर्वी राज्यों में खासकर बिहार पर एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बना हुआ है. वहां से एक टर्फ रेखा तेलंगाना तक आ रही है. इसलिए इन राज्यों में भी तापमान नहीं बढ़ेंगे और सुहावना मौसम बना रहेगा. मौसम के इस बदलाव के चलते बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश और ओडिशा में हल्की से मध्यम बारिश होती रहेगी. वहीं उत्तर-पूर्व भारत में भी पिछले 24-48 घंटे के दौरान बारिश में भारी कमी आई है और अगले कुछ दिनों तक लोगों को इससे राहत मिलने वाली है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *