नईदिल्ली।देश में सभी मेडिकल पाठ्यक्रमों में नामांकन के लिए राष्‍ट्रीय प्रवेश परीक्षा (राष्‍ट्रीय योग्‍यता व प्रवेश परीक्षा) को अनिवार्य बना दिया गया है। विदेशों में चिकित्‍सा की पढ़ाई करके प्रारंभिक चिकित्‍सा योग्‍यता (एमबीबीएस) की डिग्री लेने के बाद भारतीय छात्रों को देश में प्रैक्टिस शुरू करने के लिए फॉरेन मेडिकल ग्रेज्‍युएट एग्‍जाम (एफएमजीई) में सफल होना