प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज ने अधिकारियों को दो टूक कहा – कार्य शैली बदलें , योजनाओं में देरी हुई तो तबादले के बाद भी जिम्मेदार माने जाएंगे अफसर

बिलासपुर।जिले के प्रभारी मंत्री ताम्रध्वज साहू ने मंथन सभाकक्ष में विभिन्न विभागों की समीक्षा बैठक ली। बैठक में श्री साहू ने अधिकारियों को राज्य और केंद्र सरकार की योजनाओं को तेजी से लागू करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की मंशा दलगत राजनीति से ऊपर उठकर जनहित के कार्य करने की है। योजनाओं के क्रियान्वयन में देरी होने पर स्थानांतरित अधिकारी की भी जिम्मेदारी तय की जाएगी। उन्होंने कहा कि योजनाएं समय पर पूरी करें और गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखें। सभी विभाग अनुशासित होकर कार्य करें। यदि लापरवाही की शिकायत मिलती है तो सख्त कार्रवाई की जाएगी।

श्री साहू ने कहा कि अधिकारी अपनी कार्यशैली में बदलाव लाएं। फाइलों को चर्चा के नाम पर अनावश्यक रूप से पेंडिंग न रखें। यदि किसी विषय पर चर्चा करना ही है तो तुरंत फोन पर चर्चा कर फाईल को आगे बढ़ाएं। किसी काम के लिये इस्टीमेट ऐसा बनाएं कि बार-बार रिवाईज न करना पड़े।

बैठक में मंत्री ने जिला पंचायत सीईओ को निर्देश दिये कि गोठान में बारिश के मौसम में वृक्षारोपण करें। फलदार और छायादार वृक्ष अधिक लगाएं। वन विभाग के अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि गांवों में फलदार वृक्ष लगाकर स्व सहायता समूहों को देखभाल के लिये सौंप दें। जिससे फल आने पर वे आय कर सकें।

वृक्षारोपण का कार्य जनपद स्तर पर अभियान के रूप में करें। जिसमें गांव के स्कूली बच्चों, नागरिकों और जनप्रतिनिधियों की सहभागिता हो।

ताम्रध्वज साहू ने नगर निगम आयुक्त को निर्देशित किया कि शहर की नालियों का गंदा पानी अरपा नदी में जाने से बचाएं। ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर नालों के पानी को साफ कर उपयोग करें। उन्होंने सीवरेज के कार्य को जल्द पूर्ण करने के लिये कलेक्टर को विशेषज्ञों से बात करने के निर्देश दिये।

मंत्री साहू ने महिला बाल विकास विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि शहर मेंजमीन उपलब्ध न होने की स्थिति में स्कूलों की जमीन पर आंगनबाड़ी भवन बनाना प्रस्तावित करें। मुहूर्त के अनुसार सभी ब्लॉकों में सामूहिक विवाह का आयोजन करें।

उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि जिन ब्लॉक में रेस्ट हाऊस नहीं है वहां का प्रस्ताव बनाकर भेजें। उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को सिंचित क्षेत्रों में नाले-नालियों की मरम्मत मनरेगा से करने के निर्देश दिये। बारिश के बाद सभी नहरों में मरम्मत का कार्य प्राथमिकता से करें।

ताम्रध्वज साहू ने विद्युत विभाग के अधिकारियों को ट्रांसफार्मरों की क्षमता बढ़ाने के निर्देश दिये। कस्बों में दोहरी विद्युत लाईन लगाने के लिये सर्वे करें। जिससे यदि एक लाईन में फॉल्ट हो तो दूसरी लाईन से सप्लाई की जा सके। पुराने हो चुके तारों को तुरंत बदलें और नये तारों की गुणवत्ता पर ध्यान दें। पीएचई के अधिकारियों से कहा कि जहां भी पेयजल समस्या है वहां यदि पाईप लाइन विस्तार करके पानी लाया जा सकता है तो व्यवस्था करें।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों को जर्जर स्कूलों की मरम्मत कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कई स्कूलों में शिक्षकों की कमी है। ऐसी स्थिति को अधिक शिक्षक संख्या वाले स्कूलों से समायोजन कर ठीक करें।

बैठक में बिलासपुर विधायक शैलेष पांडे ने सकरी-कोटा रोड में ठेकेदार द्वारा वृक्षारोपण न कराये जाने की बात कही। जिस पर मंत्री ने कलेक्टर को आवश्यक कार्रवाई करने के निर्देश दिये।शैलेष पांडे ने कहा कि शहर का जलस्तर बहुत नीचे चला गया है। जिसके लिये मिशन मोड पर वृक्षारोपण की आवश्यकता है।

बैठक में बिलासपुर विधायक शैलेष पांडेय, बिल्हा विधायक धरमलाल कौशिक, तखतपुर विधायक रश्मि सिंह, बेलतरा विधायक रजनीश सिंह, मस्तूरी विधायक डॉ कृष्णमूर्ति बांधी, अन्य जनप्रतिनिधि और सभी अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *