CG खुलासा-बाल गृह से फरार बालक की हत्या,चोरी की रकम 13 लाख बनी हत्या की वजह

दुर्ग।दुर्ग बाल संप्रेषण गृह से भागे बालक की बिलासपुर में मिली लाश की गुत्थी को दुर्ग पुलिस ने सुलझा लिया है। बाल संप्रेषण गृह से फरार बालक की हत्या उसी के साथियों ने चोरी की रकम को लेकर हुए विवाद के चलते चाकू और पत्थर पटक कर दी थी। इस मामले में पुलिस ने पांच को गिरफ्तार किया है। ये पूरा मामला 1 मई का है। दुर्ग पुलगांव बाल संप्रेषण गृह से दीवाल फांदकर 7 संघर्षरत बालक फरार हो गए थे, जिसके बाद फरार बालकों में संघर्षरत राहुल साहू निवासी चिंगराज पारा सरकंडा की लाश बिलासपुर अमरव्या चौक स्थित श्मशान घाट के पास मिली थी। मृतक के गले में और शरीर में गहरे जख्म के निशान थे। बालक की शिनाख्त होने के बाद दुर्ग पुलिस ने बिलासपुर पुलिस की मदद से इसकी जांच शुरू की।

जांच के दौरान पुलिस को पता चला कि,बाल गृह से भागे गए सभी सात बालक सुपेला संजय नगर शीतला तालाब के पास आये थे। यहां पर सुपेला निवासी राहुल सिंह, मनीष, अभिमन्यु दास, शेख आशिफ व श्याम से उनकी मुलकात भी हुई थी। इस जानकारी के बाद पुलिस ने राहुल, मनीष सहित उसके साथियों को हिरासत में लेकर सभी से पूछताछ की गईं। पूछताछ में सभी ने पुलिस को बताया कि कुछ समय पहले उन्होंने बड़ी चोरी की थी और चोरी के 13 लाख रुपये को अमरव्या चौक स्थित शमशान घाट में छुपा दिए थे।

1 मई को बाल संप्रेषण गृह से भागे गए सभी 7 बालक अपने अन्य साथियों से संजय नगर शीतला तालाब के पास मिले और फिर एक स्कार्पियो किराए में कर टोटल 13 लोग बिलासपुर रकम लेने के लिए निकल पड़े। यहां पहुंचने के बाद जब रकम खोजने पर भी नहीं मिली तो सभी का एक दूसरे के साथ विवाद शुरू हो गया। देखते ही देखते विवाद इतना बढ़ा कि राहुल साहू की चाकू और पत्थर पटक कर उसकी हत्या कर दी। हत्या की इस घटना के बाद सभी ने उसके शव को घसीट कर वहीं पर छुपा दिया और फिर फरार हो गए थे।पुलिस ने इस मामले में पांच को गिरफ्तार किया है। वहीं 2 नाबालिग को बाल संप्रेषण गृह भेजा गया है। वहीं चार नाबालिग और एक आरोपी श्याम निवासी सुपेला की तलाश जारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *