बसपा और जनता कांग्रेस की संयुक्त बैठक…अमित जोगी ने कहा…प्रदेश से उठी लहर..दिल्ली में बरपाएगी कहर..होगा कुशासन का अंत

बिलासपुर—बिलासपुर में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे और बसपा की पहली संयुक्त बैठक हुई। जनता कांग्रेस नेताओं ने दावा किया कि बैठक में 500 से अधिक पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया। संयुक्त बैठक के बाद बताया गया कि बसपा सुप्रीमों मायावती और जकांछ सुप्रीमों अजीत जोगी की पार्टी प्रदेश में रमन सरकार के खिलाफ एकजुट होकर लडेगी।

            एक निजी हाटल में सीटों के बटवारे को लेकर अमित जोगी और बसपा नेताओं के बीच गहन बैठक हुई। संयुक्त बैठक में चुनावी अभियान को लेकर गहन चर्चा हुई। बैठक में प्रमुख रुप से बसपा राज्यसभा सांसद और छत्तीसगढ़ प्रभारी अशोक सिद्धार्थ, मरवाही विधायक अमित जोगी, पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष धर्मजीत सिंह, बसपा प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश बाचपेयी, बिल्हा विधायक सियाराम कौशिक,अनिल टाह समेत बसपा के प्रदेश स्तरीय दिग्गज नेताों ने हिस्सा लिया। सभी नेताओं ने बैठक को संबोधित किया। बसपा सांसद अशोक सिद्धार्थ ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी और जनता कांग्रेस विधानसभा चुनाव में एक साथ मिलकर लड़ेंगे। दोनो दलो के बीच ऐतीहासिक गठबंधन से छत्तीसगढ़ के गरीब, दलित, आदिवासी, पिछड़ा वर्ग, अल्पसंख्यक और किसानों, युवाओं  मजबूत क्षेत्रीय विकल्प मिलेगा।

                        कार्यक्रम को मरवाही विधायक अमित जोगी ने संबोधित किया। उन्होने कहा कि बसपा सुप्रीमों मायावती और अजीत जोगी का एक साथ आना छत्तीसगढ़ के ढाई करोड़ जनता के जीवन का एक ऐतिहासिक पल है। छत्तीसगढ़ के गरीबए मेहनतकश अतिपिछड़ा, दलित, आदिवासी, किसानों के साथ स्थानीय युवाओं के जीवन में सकारात्मक बदलाव लाया जाएगा।

       जोगी ने उपस्थित लोगों को बताया कि यह तो केवल शुरुआत है…आगे बड़ा चक्रवात है। अभी हम एक से दो हुए हैं…अब दो से पांच होंगे और एकजुट होकर रमन सरकार के पंद्रह वर्षों के कुशासन का अंत करेंगे। छत्तीसगढ़ में राजनीतिक भूचाल आ गया है। बसपा और जनता कांग्रेस के गठबंधन ने देश के क्षेत्रीय दलों के महागठबंधन की नींव रख दी है। बसपा और जोगी कांग्रेस की छत्तीसगढ़ से उठी लहर दिल्ली में कहर बनकर राष्ट्रीय दलों पर गिरेगी। देश को एक मजबूत वैकल्पिक नेतृत्व देगी।

                  पूर्व विधानसभा उपाध्यक्ष धर्मजीत सिंह ने कहा कि कांग्रेस अप्रासंगिक हो चुकी है। भाजपा चाहती है कि उसका मुकाबला कमजोर कांग्रेस पार्टी से हो। भाजपा के लिए क्षेत्रीय दल बहुत बड़ी धमकी है..और कांग्रेस एसेट हैं। बसपा और जनता कांग्रेस के बीच सीटों को लेकर सारे निर्णयों पर मायावती ने पहले ही मुहर लगा दी है। मायावती और जोगी जी के साथ बैठक में सब कुछ तय हो चुका है। दोनों दलों के बीच बिलासपुर की बैठक 13 अक्टूबर को होने वाली संयुक्त सभा को लेकर है। ये सभा छत्तीसगढ़ की अब तक की सबसे बड़ी और ऐतिहासिक सभा होगी। हम पूर्ण बहुमत से सरकार बनाएंगे।

            बहुजन समाज पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अध्यक्ष ओम प्रकाश बाचपेयी ने कहा कि पिछले 15 वर्षो से छत्तीसगढ़ में विकास के नाम पर विनाश हुआ है। भाजपा के शासन काल में जहां अमीर और अमीर हुआ तो गरीब और गरीब हुआ। शोषण और अत्याचार के खिलाफ छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता ने अब परिवर्तन का मन बना लिया है।

               कार्यक्रम में पूर्व विधायक चैतराम साहू, हरिदास भारद्वाज, चंद्रभान बारमते, प्रहलाद सूर्यवंशी, रोहित डहरिया, ज्वाला प्रसाद चतुवेर्दी, गीतांजली पटेल, संतोष कौशिक, बृजेश साहू, हरिकिशन कुर्रे, संतोष दुबे, विश्वम्भर गुलहरे, मणिशंकर पाण्डे, समीर अहमद, जीतू ठाकूर, गोविंद सेठी, टिकेश प्रताप,दिलीप कोसले, सुरेन्द्र सुर्यवंशी, श्याम टण्डन, योगेश बंजारे, बिनोद शर्मा, राधेश्याम सुर्यवंशी, अजय दिब्य, संदीप यादव, योगेश साहू, बंटी खान, फारुख खान, कैनेथ कालिन्स, बब्लू जार्ज, राज बहादुर, सुहंग दास समेत सैकड़ो पार्टी नेता मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *