एसडीएम की कांग्रेस नेता ने की शिकायत

IMG-20160829-WA0094बिलासपुर— कांग्रेस नेता प्रेमचंद जायसी ने मस्तूरी अनुविभागीय अधिकारी पैकरा के खिलाफ कलेक्टर से शिकायत की है। जायसी ने लिखित शिकायत में बताया है कि पैकरा असामाजिक तत्वों के कहने पर पेन्ड्री स्थित सखी रश्मि स्व सहायत समूह के राशन दुकान को बन्द कर एक तरफा कार्रवाई की है। राशन दुकान बंद होने से ग्रामीणों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जायसी ने बताया कि अनुविभागीय अधिकारी ने छत्तीसगढ़ सिविल सेवा आचरण अधिनियम का उल्लंघन किया है। इसलिए दोषी अधिकारियों के अलावा पैकरा के खिलाफ कार्रवाई की जाए।

                               भारी संख्या में लोगों के साथ कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर कांग्रेस नेता प्रेमचंद जायसी ने अनुविभागीय अधिकारी पैकरा और खाद्य अधिकारी की शिकायत की है। जायसी ने बताया कि एसडीएम पैकरा ने असामाजिक तत्वों के इशारे पर पेन्ड्री स्थित राशन दुकान को बंद कर दिया है। सखी रश्मि स्व सहायता समूह को परेशान किया जा रहा है। किसी को लाभ पहुंचाने के लिए ऐसा किया जा रहा है।

                जायसी के अनुसार असामाजिक तत्वों ने इसके पहले भी अनुविभागीय अधिकारी से राशन दुकान संचालन में लापरवाही की शिकायत की थी। जांच के बाद राशन दुकान को दोषमुक्त कर दिया गया था। लेकिन पैकरा ने एक पक्षीय कार्रवाई करते हुए राशन दुकान बंद करवा दिया। जिसके चलते असमाजिक तत्वों के हौसले बुलंद हैं। राशन नहीं मिलने से ग्रामीण परेशान हैं।

                                जायसी ने बताया कि परिवार के किसी एक सदस्य के मौत हो जाने के बाद राशन अन्य सदस्यों को दिया जाता है। चूंकि परिवार के सदस्यों के पास नीला कार्ड है। असामाजिक तत्वों ने एसडीएम पैकरा से शिकायत की थी कि राशन दुकान से मृतक व्यक्ति को राशन दिया जा रहा है।  सच्चाई यह है कि नीले कार्ड पर हर महीने सात किलो चावल मृतक के परिवार को मिल रहा है। परिवार के एक सदस्य के मरने से राशन वितरण बंद करना नियम के खिलाफ है।

                                           जायसी ने बताया कि गांव के कई सदस्य गुलाबी कार्डधारी हैं। परिवार को एक कार्ड में 35 किलो चावल मिलता है। परिवार के मुखिया की मौत भी हो चुकी है। बावजूद उन्हें नियमानुसार आज भी 35 किलो चावल दिया जा रहा है। लेकिन स्वसहायता समूह से राशन दुकान हथियाने के फिराक में कुछ लोगों ने बिना सोचे समझे शिकायत कर दी है। एसडीएम पैकरा ने एक तरफा कार्रवाई करते हुए राशन दुकान बंद कर दिया। जायसी के अनुसार  यह सब भाजपा नेता के इशारे पर किया जा रहा है। उन्होने कहा कि मृतक परिजनों ने शपथ पत्र भी दिया है कि मरने वाला व्यक्ति उनके परिवार का सदस्य है। सदस्य के मौत के बाद मृतक का परिवार राशन दुकान के सहारे गुजर बसर कर रहा है। मृतक के परिवार के अन्य दो सदस्य आज भी जिन्दा हैं।

                         जायसी ने बताया कि यदि एसडीेएम पैकरा और खाद्य अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है तो वे लोग उग्र आंदोलन करेंगे।

loading...

Comments

  1. By Jitendra Chaturvedi

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...