कांग्रेस नेताओं ने कहा..अंत तक लड़ेंगे सफाई कर्मचारियों की लड़ाई..आतिशबाजी के साथ मनाया जश्न…कुर्सी को लेकर नाराज हुई महिला नेत्री

बिलासपुर— 300 कर्मचारियों की मांग एमआईसी से पारित होने के बाद विकास भवन के सामने कांग्रेस पार्षदों और संगठन के नेताओं ने आतिशबाजी  के साथ मिठाई बांटकर जश्न मनाया। इस दौरान सफाई कर्मचारी भी मौजूद थे। सफाई कर्मचारियों ने अभियान में सहयोग देने के लिए कांग्रेस नेताओं को धन्यवाद जाहिर किया। वहीं मांग पूरी होने और 52 दिनों तक क्रमिक हड़ताल टूटने के बाद कांग्रेसियों ने कहा कि लड़ाई और सफलता दोनों ही अभी अधूरी है। मामला अब सरकार के पाले में है। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सामने सफाई कर्मचारियों की मांगों को रखेंगे। पीसीसी से गुहार लगाएंगे कि सफाई कर्मचारियों की मांग को मंत्रालय के सामने रखा जाए। इस दौरान सफाई कर्मचारियों ने कांग्रेस नेताओं का फूल माला से स्वागत भी किया।

                                        एमआईसी ने 300 सफाई कर्मचारियों की मांग को एमआईसी से पास कर दिया है। प्रस्ताव राज्य शासन के हवाले कर दिया है। प्रस्ताव पास होने के बाद 52 दिनों बाद कांग्रेस पार्षदों ने क्रमिक हड़ताल खत्म किया। सोमवार को विकास भवन के सामने कांग्रेसियों ने सफाई कर्मचारियों के साथ अपनी खुशियों को जाहिर किया। इस दौरान कर्मचारी नेताओं ने कांग्रेस के सहयोग और अभियान को अविष्मरणीय बताया। सफाई कर्मचारी नेता ने कहा कि हमारी पीढियां भी कांग्रेस के योगदान को नहीं भूलेंगी। इस दौरान सफाई कर्मचारी महिला भी मौजूद थीं। सभी ने मिलकर विकास भवन के सामने आतिशबाजी की। मिठाई खिलाकर एक दूसरे का मुंह मीठा किया।

                  विकास भवन के सामने आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ नेता अशोक अग्रवाल,एसपी चतुर्वेदी,राजेश पाण्डेय,अरूण तिवारी,शैलेश पाण्डेय,शेख नजरूद्दीन,शैलेन्द्र जायसवाल,रविन्द्र सिंह,समेत कांग्रेस के सभी पार्षद और संगठन के नेता मौजूद थे। कर्मचारियों ने शेख नजरूद्दीन समेत सभी का तिलक लगाने के बाद माला पहनाकर स्वागत किया। इस दौरान कांग्रेस नेताओं ने एक दूसरे को गले मिलकर बधाई दी। 300 सफाई कर्मचारियों के नियमित होने तक लड़ाई जारी रखने का एलान भी किया। कांग्रेसियों ने उपस्थित कर्मचारियों और संगठन के नेताओं के बीच गीतासार कैलेन्डर का भी वितरण किया।

कुर्सी को लेकर झगड़ा

                      जश्न के दौरान कांग्रेस नेत्री और संगठन नेताओं के साथ कुर्सी व्यवस्था को लेकर झगड़ा भी हुआ।यद्यपि मामले को कांग्रेस नेताओं ने भरपूर दबाने का प्रयास किया। लेकिन तब माजरा पत्रकारों के कैमरे में कैद हो चुका था। महिला नेत्री ने कहा कि जब बैठने की व्यवस्था नहीं थी तो महिलाओं को बुलाया ही क्यों गया। लेकिन मामजा इसके पहले गंभीर हो निगम नेता प्रतिपक्ष शेखनजरूद्दीन और शैलेन्द्र ने किसी तरह शांत कराया। महिला नेत्री को कुर्सी देकर लोगों को कुछ भी अनाप शनाफ बातचीत करने के लिए मना भी किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *