मेरा बिलासपुर

सिम्स का दूसरा नाम मौत फैक्ट्री,जनता कांग्रेस ने लगाया आपराधिक लापरवाही का आरोप

20.1बिलासपुर—-जनता कांग्रेस के नेताओं ने सिम्स का घेराव कर मौत बांटने का आरोप लगाया है। विश्वम्भर गुलहरे ने बताया कि सिम्स का दूसरा नाम बिलासपुर जिले की मौत फैक्ट्री है। देखने में आ रहा है कि सिम्स के सभी डॉक्टर मरीजो को अपने हाल में छोड़कर छुट्टी पर चले गए हैं। जिसके कारण पिछले तीन दिनो में सिम्स में पांच मौतें हो चुकी हैं। गुलहरे के अनुसार मामले में जब डीन डॉ. विष्णुदत्त गेंदले से मिलने पहुंचे तो महोदय जनता कांग्रेस कार्यकर्ताओं का सामना करने से पहले ही नदारद हो गए। हमने डीन कक्ष का घेराव कर चेतावनी को चस्पा कर दिया है।

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ शहर जिलाध्यक्ष विश्वंभर गुलहरे और ग्रामीण जिलाध्यक्ष संतोष दुबे ने बताया कि सिम्स में मौत बांटा जा रहा है। दूर क्षेत्र से लोग यहां इलाज करवाने आते हैं। यहां अव्यवस्था इतना ज्यादा है कि मरीज बच जाए तो अपने भाग्य से। डाक्टरों पर किसी का नियंत्रण नहीं है। डीन दोषी डॉक्टरों को संरक्षण देकर लापरवाही को बढ़ावा दे रहे हैं।  दोनों नेताओं ने कहा कि यदि व्यवस्था में सुधार नहीं होता है तो जनता कांग्रेस पार्टी डीन समेत सभी पर एफआईआर दर्ज करवाने आंदोलनर करेगी।

                        जनता कांग्रेस नेता समीर अहमद बबला और जीतू ठाकुर ने बताया कि लगातार मौत से आम जनता में सिम्स के प्रति भय है। समीर ने कहा कि सिम्स के डॉक्टर जानबूझकर लापरवाही करते हैं। इसका फायदा निजी चिकित्सालयों को मिलता है। क्योंकि सिम्स के डॉक्टरों का निजी चिकित्सालयों से सांठ गांठ होता है। लेकिन गरीब जनता के इतने रूपए नहीं होते हैं कि वह निजी चिकित्सालय में इलाज करवा सके। जिसके कारण उसकी सिम्स में मौत हो जाती है। समीर ने कहा कि यदि कमीशनखोर अपनी हरकतों से बाज नहीं आते हैं तो उन्हें जनता कांग्रेस नेताओं के विरोध का सामना करना पड़ेगा।

नाराज सांईभक्तों ने किया चक्काजाम..

            जिला शहर प्रवक्ता विक्रांत तिवारी ने कडे़ शब्दो में डीन को लिखित चेतावनी दी है। दोषी डॉक्टरो को तत्काल हटाया नहीं गया तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। सिम्स घेराव कार्यक्रम में विश्वंभर गुलहरे, संतोष दुबे, समीर अहमद, जीतू ठाकुर, रसीद बख्श, विकास दुबे, विक्रांत तिवारी, अंकित गौरहा, समेत बड़ी संख्या में युवा और वरिष्ठ नेता मौजूद थे।

Back to top button
CLOSE ADS
CLOSE ADS