रतनपुर राशन दुकान आवंटन में धांधली..कांग्रेसियों ने खोला भाजपा नेता के खिलाफ मोर्चा..अग्रीमेन्ट में लगाया धांधली का आरोप..FIR दर्ज की मांग.. अपने नेताओं पर जताया आक्रोश

बिलासपुर—-रतनपुर में राशन दुकान आवंटन को लेकर भारी गड़बड़ी की शिकायत सामने आ रही है। बताया जा रहा है कि रतनपुर वार्ड क्रमांक 2 में दुकान अलॉट करते समय शर्तों की अनदेखी की गयी है। जानकारी के अनुसा रदुकान का अलॉट कांग्रेस के एक बड़े नेता की  सिफारिश पर हुई है। एग्रीमेन्ट के समय भी  नियमों को ताक पर रखा गया है। बहरहाल राशन दुकान भाजपा नेता को को आवंटित होने के बाद  कांग्रेस नेताओं में ना केवल भयंकर आक्रोश है बल्कि अपने सीनियर नेता के खिालफ भी मोर्चा खोल दिया है।

               जानकारी के अनुसार रतनपुर में राशन दुकान आवंटन के बाद स्थानीय कांग्रेस नेताओं में जमकर नाराजगी सामने आ रही है। कांग्रेस नेताओं ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि सालों साल दरी उठाने के बाद अब अपने ही सरकार में अपमानित होना पड रहा है। हमारे बड़े नेता ही हमारे साथ अन्याय कर रहे है। कोटा साया विधायक ने अपने लेटरपैड पर ऐसे समूह को राशन दुकान आवंटित करवाने  में सहयोग किया है जिसके पास ना तो महिलाओं का कोई समूह है और ना ही शर्तों का पालन ही करता है। बावजूद इसके भाजपा नेता के इशारे पर  विनायक समूह को राशन दुकान आवंटित किया गया है। अब वही भाजपा नेता ने समूह को भारी भरकम राशि देकर दुकान को ना केवल खरीद लिया है। बल्कि दामोदार की जगह खुद एग्रीमेन्ट कर 420 का अपराध किया है। 

            स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि उन्हें अपनो ने धोखा दिया है। मंत्री के पास कांग्रेस नेता कोटा साया विधायक ने अपने लेटरपैड पर विनायक महिला समूह को राशन दुकान दिलाने की सिफारिश की। विभोर सिंह ने विनायक महिला समूह के साथ लेटरपैड़ में दमोदर क्षत्री के लिए दुकान की मांग की। यह जानते हुए भी कि दमोदर क्षत्री एक समय जनता कांग्रेस जोगी के लिए काम किया है। बाद में कूद फांदकर कांग्रेस में शामिल हुए है। यह जानते हुए भी कि विनायक महिला समूह बताए गए शर्तों का पालन नहीं करता है। बावजूद इसके एसडीएम और खाद्य इंस्पेक्टर पर दबाव बनाकर वार्ड क्रमांक दो के लिए राशन दुकान का आवंटन दामोदार क्षत्री के नाम करवाया गया।

दुकान दामोदर का..अग्रीमेन्ट मुन्ना ठाकुर 

             स्थानीय कांग्रेस नेताओं ने बताया कि विनायक महिला समूह या दामोदर को दुकान आवंटित नहीं किया जाना चाहिए था। दबाव में आकर एसडीएम ने दुकान आवंटित किया। यह जानते हुए भी  किविनायक महिला समूह शर्तों का पालन नहीं करता है।

                  नाम नहीं छापने की शर्त पर एक कांग्रेस नेता ने बताया कि नियमानुसार दुकान आवंटित होने के बाद दामोदर को अग्रीमेन्ट करना चाहिए था। लेकिन उसके स्थान पर मु्न्ना ठाकुर ने नियम और शर्तों को अंधेरे में रखकर एग्रीमेन्ट किया है। मुन्ना ठाकर और दामोदार ने 420 का अपराध किया है। स्थानीय खाद्य निरीक्षक की अहम भूमिका है। हम कलेक्टर कार्यालय का घेराव कर वार्ड क्मांक 2 राशन दुकान आवंटन को निरस्त किए जाने की मांग करेंगे। साथ ही दोनों के खिलाफ 420 का अपराध दर्ज किए जाने के लिए दबाव बनाएंगे।   

अनुशंसा के बाद आवंटन

               एएफओ अशोक सवन्नी ने बताया कि कोरोना संक्रमित होने के बाद पिछले एक महीने से छुट्टी पर हूं। नियमानुसार किसी भी समूह का जिंदा पंजीयन के बाद क्रियाशील होना जरूरी है। एसडीएम के अनुशंसा के बाद ही राशन दुकान का आवंटन किया जाता है। मामले में क्या कुछ सही या गलत है इसकी जानकारी उन्हें नहीं है।

समूह प्रमुख को करना होगा अग्रीमेन्ट

                     नियमानुसार समूह प्रमुख को ही अग्रीमेन्ट करना होता है। यदि किसी दूसरे ने अग्रीमेन्ट किया है तो विधि की खिलाफ माना जाएगा। शिकायत सही पाए जाने पर दुकान आवंटन प्रक्रिया को  निरस्त किया जा सकता है।

कलेक्टर और एसडीएम से करें शिकायत

             खाद्य नियंत्रक हिजकिएल मसीह ने बताया कि यदि किसी को राशन दुकान आवंटन को लेकर शिकायत है तो इसके लिए शिकायत कर्ता को लिखित आवेदन कलेक्टर और एसडीएम के सामने पेश करना चाहिए। फिलहाल  हम पता लगाएंगे कि क्या गलत और क्या सही है। फिलहाल  अभी तक किसी को दुकान आवंटित नहीं किया गया है।

दुकान आवंटन में चरा नोट का जादू

                                स्थानीय कुछ कांग्रेस नेताओं ने बताया कि दुकान दामोदर क्षत्री को आवंटित किया गया है। नियमानुसार दुकान आवंटन के लिए कोटा साया विधायक को दामादोर के नाम की सिफारिश करना ही नहीं चाहिए था। बावजूद इसके किया गया। दामोदर की जगह भाजपा नेता ने अग्रीमेन्ट होने की जानकारी है। ऐसा किया जाना नियम के खिलाफ है। हम गलत एग्रीमेन्ट करने वाले के खिलाफ कलेक्टर से कानूनी कार्रवाई की मांग करेंगे।

                  कांग्रेस नेताओं ने यह भी कहा कि पन्द्रह साल तक हमने दरी उठाया। अब नोट के सहारे राशन दुकान हथियाया जा रहा है। किसी भी सूरत में बर्दास्त नहीं करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *