मिलजुल कर बनाएंगे शहर को स्मार्ट–अमर

swkkkkkkबिलासपुर—ई.राघवेन्द्र राव सभा भवन सभागार में आज स्वच्छता समारोह और स्मार्ट सिटी चैलेंज विषय पर जनसंवाद का आयोजन किया गया। जनसंवाद में नगर विधायक और नगरीय प्रशासन मंत्री अमर अग्रवाल के अलावा महापौर किशोर राय, कमिश्नर सोनमणि वोरा, कलेक्टर अन्बलगन पी. निगम आयुक्त रानू साहू समेत  कई गणमान्य लोग मौजूद थे। जनसंवाद में स्वच्छता अभियान और स्मार्ट सिटी परिकल्पना को कैसे साकार किया जाय।  इस विषय पर आम लोगों ने अपने अपने सुझाव दिए। मंत्री अमर अग्रवाल ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि स्वच्छता अभियान को एक साल हो गया है लेकिन जिस गति के साथ हमें इस अभियान को आगे बढ़ाना था। वह गति आज तक नहीं मिली।
                                   अमर अग्रवाल ने कहा कि अच्छी बात यह है कि हमने स्वच्छता अभियान को लेकर पहल  कर दिया है और संपूर्ण स्वच्छता को लेकर संकल्प भी ले लिया है। लेकिन जब तक इसे स्वाभाविक रूप से नहीं लिया जाएगा। तब तक अभियान को सफलता नहीं मिलने वाली है। मंत्री अमर अग्रवाल ने कहा कि स्वच्छता अभियान को साकार करना ना सिर्फ शासन की जिम्मेदारी है बल्कि इसकी सफलता में आम लोगों की भी भागीदारी बनती है।
                                                               उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए अमर ने  कहा कि हमने 100 स्मार्ट सिटी में शामिल होने का संकल्प लिया। जन प्रयास से सूची में अपना स्थान भी बनाया। अब बात टाप-20 की है तो जन सहयोग से उसमें भी स्थान हासिल करने का प्रयास किया जाएगा। अमर ने कहा कि  जब हमने 100 के लिए प्रयास किया तो लोगों को लगता था कि स्थान बनाना असम्भव है। बताना चाहुंगा कि प्रदेश में घोषित दो शहरों में बिलासपुर का स्थान रायपुर से ऊपर है। मंत्री ने कहा कि स्मार्ट शहर की परिकल्पना लोगों के स्मार्ट सोच के साथ शुरू होती है।  यह कम गर्व की बात है कि हमें भारत के 100 शहरों में शुमार किया गया। अब 20 शहरों में शुमार किया जाएगा। यदि लोग मिल जुलकर अपने उत्तरदायित्व का निर्वहन करें।
                         मंत्री अमर अग्रवाल ने कहा कि  स्मार्ट सिटी के लिए सबसे पहले शहर की मूलभूत समस्याओं को दूर किया जाना जरूरी है। बिलासपुर में धीरे- धीरे ही सही लेकिन यातायात व्यवस्था को दुरूस्त किया जा रहा है। लगातार कार्रवाईयां चल रही हैं। लोगों को इस दिशा में अपनी जिम्मेदारियों का भी निर्वहन करना होगा। उन्होंने कहा कि पानी की बिलासपुर में कमी नहीं है। लेकिन मैनेजमेंट को इस दिशा में ध्यान देना होगा। मैनेजमेंट से अभिप्राय केवल निगम या सरकार से नहीं बल्कि आम लोगों से भी है। उन्होंने कहा कि नागुपर में पानी कम है लेकिन सभी को उपलब्ध है यह मैनेजमेंट से ही संभव हुआ। वहां मीटर सिस्टम से पानी पर निगरानी रखा जाता है। मै चाहता हूं कि यहां के लोग पानी का सदुपयोग करें। उम्मीद है कर भी रहे हैं।

                          स्मार्ट सिटी के संदर्भ में अमर ने कहा कि बिलासपुर की जनता कैसा शहर चाहती है। इसके लिए सुझाव एवं विचार आमंत्रित है। उन्होंने कहा कि नगर में इसके लिए कई फ्लाई ओवर और ओवर ब्रिज निर्माण की आवश्यकता है। यहां जल निकासी की समस्या की व्यवस्था के साथ लोगों के घरों में पीने के पानी की समुचित व्यवस्था करनी है। 24 घण्टा बिजली.पानी एवं स्ट्रीट लाईट जलते रहने की व्यवस्था भी होनी चाहिए। नागरिकों की समस्यायें एवं सुविधाये ई.गर्वनेस के माध्यम से घर बैठे आन लाईन व्यवस्था होनी चाहिए। उन्होंने जनसंवाद में अपने शहर की कल्पना को साकार करने संवाद करने पर जोर दिया।

                                             लोगों को संबोधित करते हुए अमर ने कहा कि बिलासपुर की सबसे बड़ी समस्या सालिड वेस्ट मैटेरियल को लेकर है। इसका निदान होना बहुत जरूरी है। यह समस्या भी जल्द ही दूर हो जाएगी। इसके लिए आम लोगों को सहयोग करना होगा। कचरा निर्धारित स्थान पर डंप करना होगा। उसे फिर उठाकर सुनिश्चित जगह निगम पहुंचाएगा। नालियों या फिर सड़क पर कचरा फेंकने से स्मार्ट सिटी की परिकल्पना पूरी नहीं होगी।
                                            बिजली की हमारे पास कमी नहीं है। यदि अनावश्यक खर्च ना हो तो किसी को शिकायत नहीं मिलेगी कि हमारे क्षेत्र में बिजली है। रही बात रूपए जनरेट करने की तो वह भी हो जाएगा। आम नागरिक, निगम, राज्य सरकार मिलकर इससे भी मुकाबला करेंगे। अंत में अमर अग्रवाल ने कहा कि स्मार्ट सिटी बनने या बनाने के लिए सबसे पहले हमें सोच से स्मार्ट बनना होगा। सिर्फ मशविरा देना ही नहीं बल्कि इस अभियान को सफलता तक पहुंचाने केलिए हाथ भी लगाना होगा।
                                   उन्होंने कहा कि आज गांधी जयंती है। गांधी जी दुनिया में सफाई के सबसे बड़े आइकान हैं। हमें प्रधानमंत्री के उद्देश्यों को साकार करने और साफ सफाई व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिए कंधे से कंधे मिलाकर चलना होगा। मंत्री ने कहा कि हमारी नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि अपने घर की तरह समाज और स्थान,शहर को भी साफ सुथरा रखें।
                                    अमर अग्रवाल ने कहा कि सफाई अभियान सामुहिक सोच का विषय है। मिलजुलकर सब संभव हो जाता है। स्मार्ट बनने की पहली ईकाई सफाई है। बिना सफाई के स्मार्ट सिटी की परिकल्पना नहीं की जा सकती है। इसलिए जितना जिम्मेदारी सरकार की है उतनी ही जिम्मेदारी आम लोगों की भी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *