पॉवर प्रबंधन की हिदायत..बल्ब बन्द करें..घरेलु उपकरण नहीं..मांग में 300 MW की होगी गिरावट..

बिलासपुर—छत्तीसगढ़ स्टेट पावर कंपनी ने प्रेस नोट जारी कर बताया कि सभी उपभोक्ता कोविड के खिलाफ एक साथ मिलकर लड़ें। रात्रि ठीक 9 बजकर 9 मिनट घर की सभी लाइटें कुछ मिनट के लिए बन्द रखें। लेकिन इस बात का ध्यान जरूर रखेें की घर की अन्य यंत्रों को आफ नहीं करना है। इससे एक नई तरह की समस्या खड़ी हो जाएगी। बावजूद इसके पावर कम्पनी के कर्मचारी अपनी सेवाओं के साथ प्रत्येक समस्या के लिए तैयार है।
 
                  प्रधानमंत्री के आह्वान पर रविवार की रात 9 बजे घरों के रोशनी बन्द रहेगी । पावर कम्पनी के जिम्मेदार अधिकारियों ने बताया कि लेकिन इस दौरान उपभोक्ताओं को इस बात का ध्यान रखना है कि घर के किसी उपकरणों बन्द नहीं करेंगे। इसके अलावा कम्पनी का स्पष्ट निर्देश है कि स्ट्रीट लाइट और सार्वजनिक स्थानों की की लाइट हमेशा की तरह जलती रहेंगी।
 
                        कोरोना वायरस से पैदा हुई वैश्विक महामारी को लेकर शासन प्रशासन लगातार चिंतित है। महामारी से निपटले के लिए लगातार प्रयास भी किए जा रहे हैं। महामरी को लेकर बने  भय और निराशा को दूर करने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार विभिन्न उपायों के साथ देशवासियों को कोरोना से लड़ने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। 3 अप्रैल को प्रधानमंत्री ने अपने संदेश में सभी  देशवासियों को 5अप्रेल की रात ठीक 9 बजे घरों की  लाइटें  9 मिनट के लिए बंद करने को कहा है। उन्होने इस दौरान लोग अपने घरों की बालकनी में एक दीया, टार्च की रोशनी या मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाने का भी आव्हान किया है।
 
                              पावर कम्पनी के अधिकारियों ने बताया कि रविवार की रात एकदम से एक साथ लाइट बंदी से बिजली की मांग और  आपूर्ति के मध्य संतुलन  बनाए रखने की जरूरत होगी।  पावर ग्रिड स्टेबिलिटी बनाए रखने के लिए शनिवार को फोरम ऑफ लोड डिस्पेचर्स ने  देशभर के स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर के अधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक में चर्चा की।
 
              बैठक में विद्युत प्रणालियों की सुरक्षा और सुदृढ़ता को बनाए रखने के साथ नेशनल ग्रिड स्टेबिलिटी को मापदंड के अनुरूप स्थिर रखने के संबंध में दिशा निर्देश दिए गए। इस दौरान केवल घरों की लाइटें ही सीमित समय के लिए बंद  करने की बात कही गयी। स्ट्रीट लाईट और अन्य पब्लिक प्लेस की लाईटें हमेशा की तरह जलती रहेंगी।  ऐसी कॉलोनी या सोसाइटी जहां विद्युत आपूर्ति का कंट्रोल किसी एक मेन स्विच से होता है।  उसे बंद करके एक साथ कॉलोनी के सभी घरों की विद्युत आपूर्ति को बंद नहीं करने की समझाइश भी गयी।
 
             पावर कंपनी प्रबंधन ने स्पष्ट किया है कि घरेलू प्रकाश के लिए जलाए जाने वाले बल्ब ट्यूबलाइट को ही बंद रखा जाए। अन्य घरेलू उपकरण  फ्रिज, कूलर, एसी, टीवी, ओवन, वाशिंग मशीन आदि का उपयोग सामान्य दिनों की तरह किया जाए।  छत्तीसगढ़ स्टेट पावर   जनरेशन, ट्रांसमिशन, एवं डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी के अधिकारियों कर्मचारियों को सजगता बरतने के निर्देश कंपनी प्रबंधन ने दिए। बताया गया कि इस दौरान एक एक पल की मॉनिटरिंग की जाए। साथ ही विभिन्न राज्यों के लोड डिस्पैच सेंटर आपस में कोऑर्डिनेशन बनाकर रखेंगे।
 
             प्रबंधन ने बैठक में बताया कि एक साथ बिजली बंद रखने पर छत्तीसगढ़ में एक आकलन के मुताबिक 300 मेगावाट विद्युत मांग में गिरावट आएगी। पावर सेक्टर के एक्सपर्ट्स इंजीनियर्स ने सुझाव दिए है  कि उपभोक्तागण  अपने अपने घरों की केवल लाइटें ही बंद करें। पावर सेक्टर के एक्सपर्ट्स टीम का कहना है कि प्रधानमंत्री के संदेशों का पालन स्वेच्छा से करते हुए देश- प्रदेशवासी अपने अपने घरों में प्रकाश देने वाले उपकरणों को ही बंद रखे।         

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...