मध्य भारत का पहला इमर्सिव डोम नया रायपुर में

dome_film   ♦फिल्म का निर्माण जनसम्पर्क विभाग द्वारा कराया गया

   ♦सेन्ट्रल पार्क में निर्मित इमर्सिव डोम मध्य भारत का पहला डोम

रायपुर।मध्य भारत के पहले इमर्सिव डोम  में अब रौनक बढ़ने लगी है। हमर छत्तीसगढ़ योजना के तहत रायपुर भ्रमण  के लिए आने वाले जनप्रतिनिधि भी हर एक दिन के अंतराल में छत्तीसगढ़ के विकास पर केन्द्रित ‘हमर छत्तीसगढ़’ फिल्म देख रहे हैं। आज विकास प्राधिकरण की बैठक में शामिल होने वाले विधायकों, जिला पंचायत के अध्यक्षों ने भी इस फिल्म को देखा। इनमें प्रमुख रूप से संसदीय सचिव रूप कुमारी चौधरी, शिवरतन शर्मा, देवजी भाई पटेल,रोशनलाल अग्रवाल,संतोष उपाध्याय,नवीन मारकण्डेय, विमल चोपड़ा शामिल हैं। सभी जनप्रतिनिधियों ने राज्य के बारह वर्षों के विकास पर केन्द्रित इस फिल्म के फिल्मांकन और तकनीक की प्रशंसा की।

                           इस फिल्म में राज्य में पिछले बारह वर्षों में छत्तीसगढ़ की विकास की यात्रा के विभिन्न पड़ावों और राज्य शासन की जनकल्याण की विभिन्न योजनाओं  और राज्य की समृद्ध लोक संस्कृति की मनोरम झांकी को इस फिल्म में प्रदर्शित किया गया है। इस फिल्म का निर्माण जनसम्पर्क विभाग द्वारा कराया गया है। साथ ही नया रायपुर के सेन्ट्रल पार्क में निर्मित इमर्सिव डोम मध्य भारत का पहला डोम है, जो जर्मन तकनीक से बना है और इसमें 360 डिग्री में फिल्म दिखाई जाती है, जिससे फिल्म देखने वालों को फिल्म के पात्रों के साथ स्वयं के होने का अहसास होता है।

                   हमर छत्तीसगढ़ फिल्म के अलावा इमर्सिव डोम में व्यावसायिक फिल्मों का भी प्रदर्शन होता है। हमर छत्तीसगढ़ योजना के अन्तर्गत आने वाले जनप्रतिनिधियों को एक दिन के अंतराल में सोमवार, बुधवार और शुक्रवार को फिल्म दिखाई जाती है, जबकि आम नागरिक सप्ताह में सोमवार से शुक्रवार तक प्रतिदिन शाम 7 बजे से 7.30 तक और रात्रि 8 बजे से 8.30 बजे तक इस डोम में फिल्म देख सकते हैं।इसके अलावा शनिवार और रविवार सहित शासकीय अवकाश के दिनों में शाम 5 बजे, 6 बजे, 7 बजे और रात्रि 8 बजे 5-डी फिल्म का आनंद ले सकते हैं।

 

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...