नई दिल्ली में हुआ बिलासपुर का सम्मान…मिले 4 राष्ट्रीय अवार्ड…निगम आयुक्त ने कहा..जनसहयोग की जीत..महापौर ने थपथपाया जनता का पीठ

बिलासपुरः–नगर पालिक निगम बिलासपुर को श्रेष्ठ और अनुकरणीय कार्यों के लिए स्काॅच आॅर्डर आॅफ मेरिट अवार्ड से सम्मानित किया गया है। नई दिल्ली स्थित कांस्टिट्यूशन क्लब में यह सम्मान अवार्ड सेरेमनी में निगम आयुक्त सौमिल रंजन ने लिया। बिलासपुर को यह अवार्ड स्काॅच ग्रुप के चेयरमैन समीर कोचर के हाथों मिला।

                    नगर पालिक निगम के चार कार्यों के लिए प्रमुख रूप से डोर टू डोर कचरा कलेक्शन,स्वच्छता सेल्फी,सोशल मीडिया में चलाए गए ‘आवाज़’ अभियान और स्मार्ट एलईडी लाइट के बेहतर प्रयोग के लिए स्काच अवार्ड हासिल हुआ है। चारों इनोवेटिव कार्यों को स्काॅच ग्रुप ने जमकर सराहना की है। इसके अलावा अन्य निकायों की भी सेरेमनी ताऱीफ हुई है।

           मालूम हो कि स्काॅच आर्डर आॅफ मेरिट अवार्ड देश भर में इनोवेटिव कार्यों के लिए निकाय एवं विभागों के कार्यों के मूल्यांकन के बाद सर्वश्रेष्ठ संस्थान को दिया जाता है। स्काॅच आर्डर आॅफ मेरिट अवार्ड के पहले त्रिस्तरीय मूल्यांकन किया जाता है। देश भर के नगरीय निकायों और अन्य विभागों के साथ नगर निगम बिलासपुर ने भी अभियान में हिस्सा लिया था। प्रथम चरण में चारों कार्यों के दस्तावेजों की जांच की गयी थी। द्वितीय चरण में नई दिल्ली में भारत सरकार के उच्च अधिकारियों की मौज़ूदगी में नगर पालिक निगम बिलासपुर ने बेहतर प्रजेंटेशन के साथ जिले की उपलब्धियों को पेश किया। आखिरी और निर्णायक चरण में पब्लिक फीडबैक के माध्यम से रिपोर्ट तैयार किया गया। स्काॅच आर्डर आॅफ मेरिट के वेबसाइट में इन सभी चारों कार्यों को अपलोड किया गया था। बिलासपुर के काम को देश के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों ने सराहा और प्रोत्साहित किया।

क्या है चार प्रमुख अभियान और काम

डोर टू डोर कचरा कलेक्शन

 मालूम हो कि बिलासपुर शहर देश का पहला शहर है जहां नगर निगम डोर टू डोर कलेक्शन शत-प्रतिशत करता है। निगम प्रशासन शहर में उत्पन्न कचरे को वैज्ञानिक तरीके निपटान करने के लिए जनवरी 2017 में मेसर्स दिल्ली एमएसडब्ल्यू से अनुबंध कर पूरे शहर के शत-प्रतिशत घरों से कचरा उठाने का जिम्मा दिया। अगस्त तक मेसर्स एम एस डब्ल्यू दिल्ली ने डोर टू डोर कचरा कलेक्शन कर शहर को स्वच्छ सर्वेक्षण में अव्वल स्थान पर पहुंचाया। इस दौरान कमिश्नर ने बेहतर परिणाम के लिए जरूरी दिशा निर्देश भी दिया।

स्वच्छता सेल्फी

                   पिछले साल दिसंबर 2017 में नगर निगम बिलासपुर ने स्वच्छता एप के माध्य़म से प्रचार-प्रसार के लिए स्वच्छता सेल्फी प्रतियोगिता का आयोजन किया था। एक सप्ताह तक चली  प्रतियोगिता में लगभग 200 लोगों ने कचरे के साथ सेल्फी लेकर भारत सरकार को दिया। सबसे ज्यादा शिकायत दर्ज कराने वाले को पुरस्कार से नवाजा गया। कचरा फैलाने वालों को  दंडित भी किया। भारत सरकार ने निगम के इस इनोवेटिव प्रैक्टिस को काफी सराहा।

सोशल मीडिया की आवाज़

                     नगर निगम ने बीते अक्टूबर-नवंबर महीने में स्वच्छता के लिए सोशल मीडिया में अनूठा अभियान चलाया था। निगम ने कार्यक्रम के नाम को दिया था। अभियान में सार्वजनिक या निजी जगहों पर किसी को डस्टबिन की आवश्यकता होने पर नगर निगम के ट्विटर और फेसबुक पर कंप्लेन करने से 24 घंटे के भीतर डस्टबिन पहुंचाया गया। अभियान के माध्यम स्वच्छता संबधित शिकायत पर कार्रवाई भी गयी थी।

एलईडी लाइट

                 बीते वर्ष अगस्त महीने में  शहर के सोडियम वेपर लाइट को LED लाइट में बदला गया। ऐसा करने के बाद निगम की बिजली खपत आधी हो गयी। स्ट्रीट लाइट के तीन करोड़ रुपए प्रतिमाह का खर्च घटकर आधा हो गया। एलईडी की दूधिया रोशनी में शहर भी जगमग उठा।

                  सम्मान मिलने के बाद महापौर किशोर राय ने शहरवासियों और निगमकर्मियों को बधाई दी है। उन्होने कहा कि इस उपलब्धि से हमें नई ऊर्जा मिली है। भविष्य में बेहतर कार्य करने की प्रेरणा मिली है।

        निगम आयुक्त सौमिल रंजन चौबे ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि हमारे लिए सम्मान की बात है कि प्रयासों को राष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया। इस उपलब्धि शहरवासियों के सहयोग के बिना संभव नहीं था। अभियान को आगे बनाएं रखेंगे।

                 अवार्ड सेरेमनी में आयुक्त सौमिल रंजन चौबे के अलावा उप अभियंता श्रीकांत नायर,हर्षित आजमानी भी मौजूद थे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...