गरिमा के साथ मनाया गया संविधान दिवस…SECL और रेल प्रशासन ने किया पाठ…कमिश्नर ने भी लिया संकल्प

बिलासपुर–-संंविधान निर्मात्री समिति ने 2 वर्ष 11 माह 18 दिन में भारत के लिए बेहतरीन और शक्तिशाली संविधान का निर्माण किया। संविधान की कुछ उपबंधों को 26 नवम्बर 1949 को स्वीकार किया गया। संविधान सभा में पारित होने के बाद भारतीय संविधान को विधिवत रूप से 26 जनवरी 1950 को अंगीकृत किया गया। संविधान पारित होने की तारीख से भारतवर्ष में ‘‘संविधान दिवस‘‘ के रुप में मनाया जाता है। इसी क्रम में आज देश के कोने कोने में संविधान दिवस प्रस्तावना पाठ के साथ हर्षो उल्लास के साथ मनाया गया।

कमिश्नर और कलेक्टर कार्यालय में पाठ

संविधान दिवस पर कमिश्नर और कलेक्टर कार्यालय में अधिकारियों और कर्मचारियों नेे भारतीय संविधान की प्रस्तावना का सामूहिक पठन किया। संभागायुक्त कार्यालय में सभी कर्मचारियों ने प्रस्तावना का पाठ कर रहे संभागायुक्त की बातों को दुहराया। महावर ने उपस्थित लोगों को बताया कि भारत के संविधान सभा ने 26 नवंबर 1949 ईसवीं (मिति मार्गशीर्ष शुक्ला सप्तमी संवत् दो हजार छह विक्रमी) के दिन संविधान के मसौदे को स्वीकार किया था।  भारत सरकार ने संविधान को विधिवत रूप में 26 जनवरी 1950 को लागू किया गया। महावर ने बताया कि भारत सरकार के निर्देश पर 26 नवंबर 2018 को संपूर्ण भारत में संविधान दिवस के रूप में मनाया जा रहा है।
                    जिला कलेक्टर कार्यालय में भी अधिकारियों और कर्मचारियों ने भारतीय संविधान की प्रस्तावना का सामूहिक पाठ किया। संभागायुक्त और कलेक्टर कार्यालय में प्रस्तावना पाठ सुबह 11 बजे किया गया। इस दौरान कमिश्नर कार्यालय में सभी अधिकारी और कर्मचारी मौजूद थे।कलेक्टोरेट कार्यालय में प्रस्तावना पाठ के समय डिप्टी कलेक्टर अवध टंडन समेत अन्य अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे।
एसईसीएल में मनाया गया संविधान दिवस

भारत रत्न डाॅ. बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर की जन्मशती के अवसर पर एसईसीएल में अधिकारी और कर्मचारियों ने संविधान की प्रस्तावना का पाठ किया गया।  26 नवम्बर 2018 को एसईसीएल मुख्यालय प्रशासनिक भवन आगन्तुक कक्ष में अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक ए.पी. पण्डा, निदेशक तकनीकी (संचालन) कुलदीप प्रसाद, मुख्य सतर्कता अधिकारी बी.पी. शर्मा, महाप्रबंधक (उत्पादन) आर.के. निगम, महाप्रबंधक (कार्मिक-प्रशासन) ए.के. सक्सेना, विभिन्न विभागाध्यक्षों, विभिन्न श्रमसंघ पदाधिकारियों, अधिकारियों-कर्मचारियों की उपस्थिति में भारतीय संविधान की प्रस्तावना की शपथ ली।                अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक श्री ए.पी. पण्डा ने प्रस्तावना को पढ़ा। इस दौरान सभी लोगों ने संकल्प के साथ प्रस्तावना के एक एक शब्द को दुहराया। सभी ने एक स्वर में कहा ’’हम, भारत के लोग, भारत को एक संपूर्ण प्रभुत्व-संपन्न समाजवादी, पंथनिरपेक्ष लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त कराने के लिए, तथा उन सब में व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखंडता सुनिश्चित करने वाली बंधुता बढ़ाने के लिए दृढ़संकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में आज तारीख 26 नवंबर, 1949 ई0 को एतद् द्वारा इस संविधान को अंगीकृत, अधिनियमित और आत्मार्पित करते हैं’’।

संविधान दिवस पर रेलवे में शपथ

संविधान दिवस पर मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय के प्रांगण में संविधान की प्रस्तावना का पाठ किया गया। इस दौरान सभी अधिकारियों ने संविधान में निहित तथ्यों को अपनाने का संकल्प लिया। इस दौरान डीआरएम आर.राजगोपाल विशेष रूप से मौजूद थे।

26 नवम्बर, 2018 को ‘‘संविधान दिवस‘‘ पर सुबह 11 बजे मंड़ल रेल प्रबंधक कार्यालय प्रांगण में मंडल रेल प्रबंधक आर.राजगोपाल, अपर मंडल रेल प्रबंधक सौरभ बंदोपाध्याय समेत उपस्थित  आलाधिकारी और कर्मचारियों ने प्रस्तावना का पाठ कर संकल्प लिया कि संविधान में निहित तथ्यों को अपनाते हुए काम करेंगे। इस दौरान सभी लोगों ने नागरिकों को संपूर्ण प्रभुत्व-संपन्न समाजवादी पंथनिरपेक्ष लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समानता प्राप्त कराने तथा उनमें व्यक्ति की गरिमा, राष्ट्र की एकता और अखंडता सुनिश्चित करने वाली बंधुता बढाने संविधान की की शपथ ली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *