जांजगीर-चांपा जिले में बन सकता है प्रदेश का सबसे अच्छा गौठान,CM के कृषि सलाहकार प्रदीप शर्मा ने की गोधन न्याय योजना की समीक्षा

जांजगीर-चांपा/मुख्यमंत्री के कृषि सलाहकार प्रदीप शर्मा ने आज कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में गोधन न्याय योजना की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि जांजगीर जिले में गौठानों को और बेहतर बनाने तथा नियमित गोबर खरीदी की जरूरत है। प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा अनुसार ग्रामीणों के जीवन स्तर को संवारने और गांव में ही आजीविका का साधन विकसित करते हुए रोजगार उपलब्ध कराने में आप सभी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। इसके लिए अधिकारियों को भी सक्रिय होकर कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने सभी गौठानों में गोबर खरीदी करने और गायों की संख्या के अनुसार गोबर खरीदी की मात्रा बढ़ाने की दिशा में कार्य करने के निर्देश दिए और यह भी कहा कि जिले में विकास की बहुत संभावनाएं हैं, आप सभी के प्रयास से यहाँ प्रदेश का सबसे अच्छा गौठान भी बन सकता है।

 मुख्यमंत्री के कृषि सलाहकार श्री शर्मा ने गौठानों को बेहतर बनाने और गोबर की खरीदी को बढ़ाने के लिए बेसलाइन बनाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सचिव को निर्देशित करे कि वे घर-घर जाकर गायों की संख्या को एप्लीकेशन में दर्ज करें। हर गांव में नोडल अधिकारी बनाकर कार्य किया जाए। 20 जुलाई तक रोका-छेका करें, फिर गोबर की खरीद प्रारंभ करे। सरकार की मंशा है कि छोटे किसानों और पशुपालकों को लाभान्वित करते हुए आर्थिक स्तर सुधारना है। इसलिए इनके हित में कार्य करना सुनिश्चित करें।

उन्होंने कहा कि गौठान समिति का अध्यक्ष उन्हें बनाए, जिन्हें कार्य करने में रूचि हो और जिनकी बात गांव के लोग सुनते हो। सरकार ग्रामीणों को पैसा देना चाहती है। रोजगार के साधन विकसित करना चाहती है। उपकरण मुहैया कराना चाहती है। ऐसे में अधिकारियों का कर्तव्य बनता है कि सरकार की इस महत्वपूर्ण फ्लैगशिप योजना को सफल बनाने की दिशा में कार्य करें। श्री शर्मा ने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने मेें गौठानोें की अहम भूमिका है। इसलिए जिले के सबसे बड़े गांव को चिन्हित कर स्कील मैंपिंग करें। उन्होंने कहा कि सबसे अच्छा गौठान बनायेंगे तो देशभर से लोग देखने आयेंगे। उन्होंने ग्राम गौठान समिति की ट्रेनिंग करने के निर्देश दिए।

बैठक में कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा ने इस योजना को राज्य सरकार की सबसे महत्वकांक्षी योजना बताते हुए कहा कि जो भी गौठान है, वह सक्रिय होनी चाहिए। गौठानों में गायें नियमित आनी चाहिए। गोबर खरीदी नियमित होनी चाहिए। गौठानों में आजीविका के साधन विकसित हो। कलेक्टर ने कहा कि गोधन न्याय योजना माननीय मुख्यमंत्री जी की सर्वाेच्च प्राथमिकता वाली योजना है, जांजगीर-चांपा कृषि प्रधान जिला है। हम सभी मिलकर जिले में आदर्श गौठान बना सके, इस दिशा में कार्य किया जायेगा। उन्होंने कहा कि हमारे जिले के गौठान संसाधनयुक्त है, अब बस कार्य करने की आवश्यकता है। यदि हम अच्छा काम करेंगे तो इस जिले में प्रदेश का सबसे बढ़िया और अच्छा गौठान बन पायेगा। बैठक में जिला पंचायत सीइओ श्रीमती फरिहा आलम सिद्धकी, डीएफओ श्री सौरभ सिह ठाकुर सहित जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

मास्टर ट्रेनर्स को दिए आवश्यक निर्देश
    मुख्यमंत्री के कृषि सलाहकार श्री प्रदीप शर्मा ने जिला पंचायत सभाकक्ष में ग्राम गौठान समिति के एन.जी.ओ. के मास्टर ट्रेनर्स को संबोधित करते हुए कहा कि गांव का भ्रमण कर गौठान समिति को प्रशिक्षित करें। उन्होंने कहा कि यदि बेहतर कार्य करने वाले एनजीओ ग्रामीण औद्योगिक पार्क में कोई मशीन लगाना चाहते हैं तो सरकार द्वारा मदद का प्रावधान है। इसके माध्यम से स्व-सहायता समूह को आत्मनिर्भर बनाया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि ग्रामीणों के साथ बेहतर तालमेल एवं समन्वय बनाकर गौठानों को ग्रामीण औद्योगिक पार्क के रूप में विकसित करने की दिशा में कार्य किया जाना चाहिए। श्री शर्मा ने एनजीओ को 10 किमी के दायरे में कार्य करने और शासकीय अधिकारियों को गंभीरता पूर्वक कार्य करने के निर्देश दिए। बैठक में शाकम्भरी बोर्ड के अध्यक्ष रामकुमार साहू, जिला पंचायत फरिहा आलम सिद्दीकी सहित अन्य अधिकारी एवं एनजीओ के सदस्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *