जाना था जापान..पहुंच गए चीन..व्यापम ने किया युवाओं से भद्दा मजाक..परीक्षा से चूके सैकड़ों छात्र

बिलासपुर— छत्तीसगढ़ में भर्ती की संस्थाओं का भगवान ही मालिक है। भर्ती संस्थाओं की लापरवाही युवाओं के हितों से जमकर खिलवाड़ करने बाज नहीं आ रही हैं।  मनमानी का दौर जारी है। प्रौद्योगिकी युग में भर्ती संस्थाओं ने ऐसे लोगों को ऑनलाइन का काम थमाया है जिन्हें शायद इस बात की जानकारी नहीं है कि उनकी एक चूक सैकड़ों छात्रों के भविष्य को अंधेरे में झोंकने के लिए काफी है। पीएससी वेव पोर्टल में खराबी के बाद अब  व्यापम के वेवपोर्टल मे खराबी का मामला सामने आया है। इसके चलते सैकड़ों प्रतिभागी सब कुछ ठीक होने के बाद परीक्षा देने से चूक गए हैं।
 
पीएससी के बाद व्यापम ने भी किया मजाक
 
                  पीएससी के वेब पोर्टल में खराबी के बाद पिछले दिनों व्यापम के वेब पोर्टल में खामी का मामला सामने आया है। रविवार को व्यापम ने पूरे प्रदेश में एक साथ अलग अलग केन्द्रों में सीनियर ऑडिटर और असिस्टेंट ऑडिटर की  परीक्षा का आयोजन किया। प्रतिभागियों को व्यापम ने आनलाइन प्रवेश पत्र जारी किया। ठेका एजेंसी ने प्रतिभागियों को सही ठिकाने पर प्रवेश पत्र जारी नहीं करते हुए दूसरे शहरों के परीक्षा केंद्रों को जारी कर दिया। जिसके चलते सैकड़ों परीक्षार्थी परीक्षा देने से चूक गए हैं।
 
चैयरमैन ने नहीं उठाया फोन
 
                मामले में व्यापम के चेयरमैन आलोक शुक्ला से बातचीत का प्रयास किया गया। लेकिन उन्होने फोन नहीं उठाया। मामले को लेकर परीक्षार्थियों में जमकर आक्रोश जाहिर किया है। 
 
सेन्टर का गलत पता ठिकाना
 
            रायपुर के बीरगांव नवीन कन्या महाविद्यालय सेन्टर कोड 2069 में कई परीक्षार्थियों का प्रवेश पत्र जारी किया गया। परीक्षा में शामिल होने वाले केंद्र के सारे अभ्यर्थी निर्धारित समय के पहले ही वीरगांव पहुंच गए। लेकिन उन्हें प्रवेश नही दिया गया। इसके बाद परीक्षार्थियों ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया। इसी दौरान पर्यवेक्षकों के जरिए परीक्षार्थियों को जानकारी मिली कि उनका केंद्र गलत पता पर जारी हुआ है। जबकि उन्हें परीक्षा देने के लिए रावाभाटा स्थित केन्द्र में होना चाहिए था। मैपिंग के अनुसार रावाभाठा केंद्र रायपुर से 5 से 7 किलोमीटर की दूरी पर है।
 
दांव पर लगा युवाओं का भविष्य
 
              विवादों के बीच बात सामने आयी कि प्रवेश पत्र जारी करने वाले ठेका कम्पनी का नाम  प्रकाश भर्ती एजेंसी है। ठेका कम्पनी के कर्मचारियों ने ही प्रवेश पत्र में गलत सेंटर नाम दिया है। जानकारी के बाद तैयारी करने वाले छात्रों ने जमकर आक्रोश जाहिर किया। छात्रों ने बताया कि शासन की लापरवाही से सैकड़ों युवाओं का भविष्य दांव पर लग गया है। मामले में पालक व्यापम से जानकारी लेने की कोशिश करते रहे। लेकिन किसी भी जवाबदार ने जिम्मेदारी के साथ जवाब नहीं दिया। बल्कि जवाबदार लोग सवालों से पल्ला झाड़ते नजर आए।
 
लापरवाही का जिम्मेदार कौन
 
                   एक कोचिंग संचालक ने बताया कि उस इस प्रकार की गतिविधियों से स्पष्ट होता है कि सरकार पीठ थपथपाने के लिए भर्ती कर रही है। भर्ती संस्थाएं विद्यार्थियों की सुविधाओं को नजरअंदाज करते हुए बिना किसी पुख्ता जानकारी के हड़बड़ी में परीक्षाओं का आयोजन कर रही हैं। जिसके कारण युवा वर्ग को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। एक तरफ जहां पीएससी के पोर्टल में खराबी से हजारों युवाओं का भविष्य दांव पर लगा हुआ है। दूसरी तरफ व्यापम के वेवपोर्टल में खराबी और ठेका कम्पनी की लापरवाही के चलते सैकड़ों युवाओं के साथ व्यापम ने ना केवल भद्दा मजाक किया है। बल्कि भविष्य के साथ खिलवाड़ किया है। सवाल है कि आखिर इन सबके लिए जिम्मेदार कौन है। शासन चुप..जिम्मेदार मौन हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *