VIDEO:CM ने पूछा-डॉ रमन बताएं क्यों लिया कर्ज..कसम खाया..फिर क्यों नहीं किया शराब बन्द..किसने बनाया दबाव..और युवाओं को झोंका नशे में

बिलासपुर—- मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा रेत के अवैध उत्खनन पर लगाम लगाएंगे। रमन सिंह ने वादा किया था कि शराब बन्द करके रहूंगा। क्या उन्होने किया..हम आज भी दावा कर रहे है कि शराब बन्दी जरूरी है। रमन सिंह ने छत्तीसगढ़ के युवाओं को नशे के दूसरे क्षेत्र में धकेला है। हमारी पुलिस नशे पर लगाम लगाने पूरी तरह से सक्रिय है। हमने कर्ज किसानों को देने के लिए लिया है। रमन सिंह बताएं कि उन्होने 41 करोड़ रूपए का कर्ज किसके लिए लिया…वह क्या बोलेंगे  जब गरीबों का चावल तक डकार गए।

                      आमसभा को संबोधित करने के बाद भूपेश बघेल ने पत्रकारों से बातचीत की। सवाल जवाब के दौरान मुख्यमंत्री पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह पर जमकर निशाना साधा। उन्होने कहा कि वे लोग क्या बात करेंगे..जिन्होने कर्जा लिया..और गरीबों का चावल पर भी डकार गए।

               अरपा से लगाव और रेत के अवैध उत्त्खनन के सवाल पर मुख्यमंत्री ने बताया कि अवैध उत्खनन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी। इस दौरान सीएम ने बताया कि आज बिलासपुर में भूमि पूजन, निर्माण और लोकार्पण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। हमारा लक्ष्य बिलासपुर का तेजी से विकास करना है। पांच सौ करोड़ रूपए से अधिक राशि का कार्य स्वीकृत किया गया है। 

             सवाल जवाब के दौरान केन्द्र सरकार और प्रधानमंत्री पर निशाना साधा। सीएम ने कहा कि प्रदेश को मिलने वाली कम्पनियों से सभी वेलफेयर फण्ड सीएसआर मद की राशि प्रधानमंत्री केन्द्र ले गए। जब फण्ड राज्य को देने की बात आती है…तो केन्द्र सरकार आनाकानी करती है।

                पूर्व मुख्यमंत्री का आरोप है कि कांग्रेस सरकार ने प्रदेश को कर्ज में डुबा दिया है। सवाल के जवाब में भूपेश ने कहा कि रमन को कई बात समझ में नही आती है। पूछते है की नरवा गरवा घुरवा बारी में पैसा कहां आएगा। योजना में उन्हें भ्रष्टाचार नजर आता है। सवाल उठता है कि उन्हें गरीबों के चावल डकारते समय भ्रष्टाचार नजर नहीं आय़ा। हम गोबार का पैसा गरीबों को दे रहे हैं। जबकि  वह गरीबों का  चावल डकार गए..। हम देने का काम कर रहे हैं..वह लूटने का काम कर रहे हैं। 

                 इस दौरान सीएम ने पूर्व मुख्यमंत्री से पूछा कि उन्होने 41 हजार करोड़ किस लिए लिया। कर्ज तो मैने भी लिया…किसानों को देने के लिए लिया…किसानों का कर्ज उतारने के लिए लिया…धान खरीदने के लिए लिया। वह बताए..क्यों लिया।

           धान और चावल उठाव के सवाल पर सीएम ने कहा कि केन्द्र ने ही 60 लाख मीट्रिक टन चावल खरीदने को कहा..अब एफसीआई को क्यों नहीं चावल उठाव की अनुमति दे रहे। हमे मालूम है कि कोरोना काल में फैक्ट्रियां बन्द थी…। धान खरीदी के लिए हमने साढ़े तीन गठान वारदाना की मांग किया था। उन्होने एक लाख 45 हजार गठान देने का वादा किया। लेकिन दिया सिर्फ एक लाख 5 हजार गठान। हमने पीडीएस, किसानों और बाजार से वारदाना लेकर उपयोग कर रहे है। किसान भी वारदाना ला रहे हैं।

              डॉ. रमन सरकार को बार बार निशाना बने रहे।  सरकार को  लिकर, लैण्ड, सैण्ड कोल का कारोबारी कहते हैं। सीएम ने मजा लेते हुए कहा कि रमन सिंह को बताना चाहिए..कि उन्होने ही विधायक दल की बैठक में कहा था कि चुनाव हारना पसंद करूंगा..लेकिन प्रदेश में शराब बन्द करूंगा। सवाल उठता है कि आखिर उन्होने किसके दबाव में शराब बन्द नहीं किया। उन्हें बताना चाहिए कि कौन सा दबाव था…शराब बिक्री को बन्द नहीं किया गया। लेकिन हम चाहते हैं कि छत्तीसगढ़ में शराब बन्द हो।

                 सीएम ने आगे बताया कि रमन सिंह ने शराब बन्द के वजाय छत्तीसगढ़ के युवा और जन सामान्य को दूसरे नशे में धकेल दिया है। हमारी पुलिस और आबकारी टीम लगातार ऐसे ही नशेड़ियों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। अन्त सीएम ने बताया कि छानबीन और जन परामर्श के बाद शराब बन्दी को लेकर निर्णय लिया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *