मंत्री गोपाल ने आप प्रत्याशियों को दिया जीत का टिप्स..कहा..सरकार बनाने का सुनहरा मौका..लिखेंगे नया इतिहास

रायपुर—छत्तीसगढ़ में 2018 का विधानसभा चुनाव नया सवेरा लेकर आने वाला है। प्रदेश के सर्वांगीण विकास की एक नयी यात्रा आरंभ होने वाली है। छत्तीसगढ़ में ईमानदार सरकार बनाने का सुनहरा अवसर है।  हम सबका सपना और संकल्प जल्द ही पूरा होने वाला है। यह बातें आम आदमी पार्टी के छतीसगढ़ प्रभारी दिल्ली सरकार के केबिनेट मंत्री गोपाल राय ने रायपुर में प्रत्याशियों के प्रशिक्षण शिविर में कही।
              रायपुर में आम आदमी पार्टी प्रत्याशियों का प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया। शिविर को दिल्ली सरकार के कैबनेट मंत्री और प्रदेश प्रभारी गोपाल राय ने संबोधित किया। चुनाव जीतना का टिप्स भी दिया। गोपाल राय ने कहा कि चुनाव की रणभेरी बज चुकी है। 12 नवंबर को पहले चरण का मतदान होगा। हमे आज से ही जुट जाना है। आम आदमी पार्टी का प्रदेश तेज़ी से जनाधाऱ बढ़ा है। लोगों के लिए अबूझ पहेली है। राय ने चुनाव के दौरान की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों के तकनीकी पहलुओं पर विस्तार से जानकारी दी।
                  गोपाल राय ने चर्चा के दौरान  नामांकन , प्रचार वाहनों की अनुमति अभियान का संचालन, बूथ मैनेजमेंट समेत चुनावी गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होने कहा कि चुनाव हमारे लिए बड़ा अवसर लेकर आया है। हमें नया छत्तीसगढ़ बनाने का मौका देगा। हमारी छोटी सी चूक लक्ष्य तक पहुँचने से रोक सकती है।
              प्रशिक्षण सत्र में आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार कोमल हुपेन्डी ने अहम ज़िम्मेदारी दिए जाने के लिए प्रदेश समिति, राष्ट्रीय समिति समेत पार्टी के सभी सहयोगी साथियों का आभार जाहिर किया। हुपेन्डी ने कहा कि पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं के विश्वास को टूटने नहीं देंगे। पूरी ऊर्जा छतीसगढ़ के विकास के लिए लगायेंगे। सरकार बनती है तो हुपेन्डी नहीं बल्कि आप सभी लोग मुख्यमंत्री होंगे।
               मंच पर उपस्थित प्रदेश संयोजक डॉ संकेत ठाकुर, अनुसूचित जाति विभाग प्रदेश प्रमुख प्रभाकर ग्वाल , महिला विंग प्रदेश प्रमुख दुर्गा झा , किसान मोर्चा प्रदेश प्रमुख शत्रुघ्न साहू , प्रदेश सचिव उत्तम जायसवाल, प्रदेश सह संगठन मंत्री भानु चन्द्रा, सूरज उपाध्याय, रवि मानव,कोषाध्यक्ष अनिल सिंह , व्यापार प्रकोष्ठ अध्यक्ष नरेंद्र दुग्गड़ , मीडिया समन्वयक उचित शर्मा समेत सभी लोकसभाओं के केन्द्रीय पर्यवेक्षक विशेष रूप से मौजूद थे। इस दौरान घोषित प्रत्याशी और चुनाव प्रबंधन टीम भी शिविर में मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *