बैंको में जमा होंगे सूखा राहत के पैसे,बैंको की धीमी रफ्तार पर सीएम ने जताई नाराज़गी

रायपुर।मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जिला कलेक्टरों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि सूखा प्रभावित किसानों के लिए राज्य शासन द्वारा जारी 609 करोड़ 70 लाख रूपए की पूरी मुआवजा राशि उनके बैंक खातों में अनिवार्य रूप से जमा हो जाए। उन्होंने किसानों के खातों में राशि जमा करने में कुछ जिलों के बैंकों द्वारा विलंब किए जाने पर नाराजगी भी जताई।

डॉ. सिंह ने जिला कलेक्टरों से कहा कि वे इसके लिए बैंक अधिकारियों को बुलाकर उन्हें निर्देशित करें।डॉ. सिंह ने कलेक्टोरेट में लोक सुराज अभियान के तहत रायपुर, बलौदाबाजार-भाटापारा और धमतरी जिलों की संयुक्त समीक्षा बैठक में सूखा प्रभावित किसानों को बांटे जा रहे मुआवजे के बारे में भी जानकारी ली।

उल्लेखनीय है कि पिछले खरीफ वर्ष 2017 के दौरान राज्य के 27 में से 21 जिले अल्प वर्षा के कारण सूखे से प्रभावित हुए थे। इन जिलों के 9 लाख 50 हजार से ज्यादा किसानों को राजस्व पुस्तक परिपत्र 6-4 के तहत मुआवजा देने के लिए राज्य शासन द्वारा मार्च 2018 में 609 करोड़ 70 लाख रूपए का आवंटन जिला कलेक्टरों को दिया है, जिनके द्वारा यह राशि किसानों के खातों में जमा करने के लिए बैंकों को जारी कर दी गई है।

अब तक 435 करोड़ रूपए से कुछ अधिक राशि का वितरण हो चुका है। मुख्यमंत्री को समीक्षा बैठक में रायपुर जिले के कलेक्टर श्री ओ.पी. चौधरी ने बताया कि उनके जिले में 21 हजार किसानों के लिए उन्होंने 14 करोड़ 16 लाख रूपए की पूरी राशि बैंकों को जारी कर दी गई है, लेकिन लगभग पांच हजार किसानों के खातों में राशि जमा होना शेष है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि लोक सुराज अभियान के तहत कई जिलों की समीक्षा बैठकों में उन्हें जानकारी मिली कि बैंकों की ओर से किसानों के खातों में मुआवजा राशि जमा करने में देरी की जा रही है। उन्होंने जिला कलेक्टरों को इसके लिए संबंधित बैंकों के अधिकारियों से समन्वय कर उचित व्यवस्था करने के भी निर्देश दिए ।

डॉ. रमन सिंह ने गर्मी के मौसम को ध्यान में रखकर संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिए सभी जिलों में स्वच्छ पेयजल की उपलब्धता बनाए रखने के भी निर्देश दिए। उन्होंने राजधानी रायपुर के कुछ वार्डों में पीलिया की बीमारी को लेकर भी चिंता प्रकट की और अधिकारियों को नगर निगम के साथ समन्वय बनाकर इन वार्डों में स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि पीलिया पीडि़तों का समुचित इलाज किया जाए और जल शुद्धिकरण के साथ-साथ वार्डों की साफ-सफाई का भी पूरा ध्यान रखा जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *