भगवान परशुराम की उतारी गयी आरती..समाज ने की विश्वबंधुत्व की कामना..घर घर जलाए गए मंगल दीप

तखतपुर–( टेकचंद कारड़ा)– नगर समेत आस पास के क्षेत्र में विप्र समाज ने  भगवान परशुराम को जयंती पर श्रद्धाभाव के साथ याद किया। समाज के लोगों ने  जयंती पर अपने घरों में भगवान परशुराम की प्रतिमा की पूजा अर्चना की।  रंगोली सजाकर दीप जलाए। और देश दुनिया के लिए आशीर्वाद भी मांगा।
 
            भगवान परशुराम जंयति को धूमधाम से मनाया गया। विप्र समाज के लोगं ने अपने घरों के देहरी पर खुशियों भरा दीप जलाए। भगवा की पूजा अर्चना कर विश्वबंधुत्व की कामना की। पंडित जितेंद्र शुक्ला ने बताया कि वैशाख शुक्ल पक्ष तृतीय को अक्षय तृतीया कहा जाता है।
 
              अक्षय तृतिया को ही भगवान परशुराम की जयंती मनाई जाती है। भगवान परशुराम भगवान विष्णु के  छठवें मानस अवतार है। भगवान विष्णु के इस अवतार को आवेश अवतार भई कहा जाता है।
 
                बताते चलें कि भगवान परशुराम जयंति को हर साल बड़े ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस बार पूरा विश्व कोरोना वायरस की चपेट में है। हमारा देश और छत्तीसगढ़ भी कोरोना के प्रकोप से अछूते नहीं है। कोरोना से बचने के लगातार उपाय किए जा रहे हैं। इसी क्रम में शासन प्रशासन ने लाकडाउन के साथ निर्देश दिया है कि किसी भी प्रकार का धार्मिक आयोजन नहीं किए जाएंगे।
 
           कोरोना के प्रकोप और शासन के निर्देशों का ध्यान रखते हुए इस बार सभी विप्र समाज ने अपने घरों में ही भगवान परशुराम की पूजा अर्चना विधि विधान की। आरती के बाद समाज के लोगों अपने छत पर ध्वज फहराया। ऐसी मान्यता है कि अक्षय तृतिया के दिन दान देने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है।आज से ही लोग  मिट्टी के घड़े का पानी पीना शुरू करते हैं।साथ ही पानी से भरा घड़ा भी दान करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *