मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहाः बर्दास्त नहीं कालाबाजारी..औद्योगिक जगत जिम्मेदारी निभाएं..3 अस्पतालों को दुरूस्त रखने का दिया निर्देश

कोरबा/ बिलासपुर— कोरोना महामारी के चलते देश विदेश का जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। कोविड-19 के खिलाफ राज्य सरकार ने युद्ध स्तर पर राहत और बचाव कार्य शुरू किया है। आम नागरिकों की दैनिक आवश्यकताओं की पूर्ति को लेकर प्रशासन लगातार सक्रिय है। यह बात छत्तीसगढ़ के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कोरबा जिला प्रशासन के अधिकारियों और विभिन्न औद्योगिक प्रतिष्ठानों के अधिकारियों की अत्यावश्यक बैठक के दौरान  कही।
 
                छत्तीसगढ़ के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन मंत्री जय सिंह अग्रवाल ने कोरबा स्थित  कार्यालय डी-1 के परिसर में जिले के प्रशासनिक अधिकारियों और औद्योगिक प्रतिष्ठानों के अधिकारियों के साथ की। बैठक में कोरबा कलेक्टर किरण कौशल, पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीणा और अपर कलेक्टर संजय अग्रवाल शामिल हुए। मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कहा कि कोरोना वायरस के मद्देनजर लाॅक डाऊन से प्रदेश और जिले का जनजीवन बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। इसका मुकाबला हमें मिलकर करना है। 
 
             बैठक में मंत्री ने कोरबा जिला प्रशासन की तैयारियों और व्यवस्था का जायजा लिया। कलेक्टर किरण कौशनल ने बताया गया कि आम नागरिकों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए सभी पहलुओं पर गंभीरता से नजर रखी जा रही है। भीड़ को नियंत्रित करने कोरबा नगर पालिक निगम क्षेत्र के अन्तर्गत संचालितविभिन्न साप्ताहिक बाजारों में प्रतिदिन सब्जी और फल की दुकाने लगाने की अनुमति प्रदान की गयी है। बाजार के संचालन की समयावधि दोपहर 1 बजे तक ही निर्धारित किया गया है। 
    
            कलेक्टर ने मंत्री को बताया कि दोपहर एक बजे के बाद किसी भी दुकान का संचालन नहीं किया जाएगा।थोक की दुकानें और मंडी सुबह 9 बजे से खुल जाएंगी। फुटकर बिक्रेताओं को असुविधा न हो..इस बात का विशेष ध्यान रखा गया है।
 
                किरण कौशल ने राजस्व मंत्री को बताया कि उपचार व्यवस्था  लेकर प्रशासन गंभीर है। 100 बिस्तर वाले जिला चिकित्सालय में मरीजों के लिए इलाज की समुचित व्यवथा की गयी है। कलेक्टर ने जानकारी दी कि डीएमएफ निधि से 5 नग वेंटीलेटर और कुछ अन्य आवश्यक उपकरणों की खरीदी के आदेश दिए गए हैं। एसईसीएल. से   भी 25 लाख रूपये की सहायता राशि मिली है। 
 
             राजस्व मंत्री जयसिंह अग्रवाल ने कलेक्टर निर्देश दिया कि आश्यकता पड़ने पर जिला प्रशासन के पास कम से कम 500 मरीजों के उपचार की व्यवस्था होनी चाहिए। जय सिंह अग्रवाल ने कहा कि आवश्यकता पड़ने की स्थिति में ई.एस.आई. हाॅस्पिटल, श्रृष्टि हाॅस्पिटल और श्री बालाजी ट्रामा सेंटर को तैयार रखा जाए। बुनियादी सुविधाओं का जायजा लेकर दुरूस्त किया जाए। जरूरत पड़ने पर 3 कि.मी. की परिधि को सैनिटाईज कराने की व्यवस्था भी की जाए। 
 
            बैठक में मंत्री ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों के मद्देजनर जिला प्रशासन सुनिश्चित करे कि कोई भी व्यक्ति भूखा न रहे। जरूरत मंद को राशन उपलब्ध हो। बाहर से आकर मजबूरी में फंसे लोगों भोजन की व्यवस्था करें। उद्योगों में लगभग 10 हजार मजदूर अभी भी कार्यरत हैं। उनके सामने अनेक प्रकार की समस्याए होंगी। उनकी परेशानियों को गंभीरता से लेकर दूर किया जाए। 
 
    राजस्व मंत्री ने जिला प्रशासन को निर्देश दिया कि कालाबाजारी को बर्दास्त नही किया जाएगा। दुकानदारों को सख्त निर्देश दिया जाए कि वाजिब कीमतों पर ही सामानों की बिक्री हो। साथ ही आश्वासन दिया जाए कि किसी प्रकार के सामानों की कमी भी नहीं होगी। बाहर से आने वाले भूसा अथवा पैरा कुट्टी के ट्रकों को नही रोका जाए। ताकि दुग्ध व्यवसाय से जुड़े व्यापारियों की दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़े।
 
                 जयसिंह अग्रवाल ने निर्देश दिया कि भोजन व्यवस्था के लिए कोरबा अंचल स्थित समस्त औद्योगिक प्रतिष्ठानों को युद्धस्तर पर तैयारी करें। इस दौरान बैठक में उपस्थित समस्त औद्योगिक प्रष्ठिानों के अधिकारियों को मंत्री ने कहा कि विषम परिस्थितियों से निपटने के लिए जिला प्रशासन के निर्देशों का अनुपालन गंभीरता से करें। साथ ही मंत्री ने बैठक में मौजूद औद्योगिक प्रतिष्ठानों के अधिकारियों से कहा एकजुटता से  विषम परिस्थिति से निपटा जा सकता है। सभी लोग अधिक से अधिक जिम्मेदारियों का वहन करें ।
 
 
             बैठक के दौरान जयसिंह अग्रवाल ने विधायक निधि से क्षेत्र की जरूरतों के लिए 50 लाख रूपये देने का एलान किया। बैठक में इस दौरान कोरबा नगर पालिक निगम के महापौर राजकिशोर प्रसाद, कोरबा के प्रतिष्ठित व्यवसायी महेश भावनानी, कोरबा अग्रवाल सभा के अध्यक्ष और कोरबा जिला उद्योग संघ अध्यक्ष श्रीकांत बुधिया, एस.ई.सी.एल. के महाप्रबंधक एस.के. पाल, एस.ई.सी.एल कुसमुण्डा के महाप्रबंधक रंजन प्रसाद साहू, एनटीपीसी के मानव संसाधन सह महाप्रबंधक एस.एस. दास सी.एस.ई.बी. कोरबा के मुख्य अधियंता एस.के बंजारा, कोरबा थर्मल पाॅवर स्टेशन के मुख्य अभियंता एस.के.मेहता, मुख्य अभियंता पी.के. जैन, लैंको  से डी.के तिवारी, आई.ओ.सी.के उत्कर्ष दीप, ए.सी.बी.आई.एल. के वािरष्ठ महाप्रबंधक संजय मालवीय और बालको के सह महाप्रबंधक अजय शर्मा मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *