मस्तूरी में फिर फूटा गुस्सा,,,विधायक के साथ किया चक्काजाम

road_block_bsp1बिलासपुर—-मस्तूरी देवगांव निवासी युवती के साथ बलात्कार के बाद हत्या का मामला एक पखवाड़े के बाद भी नहीं सुलझा है। हर बार की तरह पुलिस का दावा है कि आरोपियों को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा। स्थानीय लोगों में पुलिस की असफलता पर लगातार आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है। आज दोपहर नाराज ग्रामीणों ने मस्तुरी में मुख्यमार्ग पर एकत्रित होकर चक्काजाम किया। पूर्व मंत्री डॉ कृष्णमूर्ति बांधी और मस्तुरी दिलीप लहरिया समेत सैकड़ों लोगों ने आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की है। पुलिस समझाइश के बाद करीब तीन घण्टे बाद नेता और कार्यकर्ता समेत नाराज ग्रामीणों ने चक्काजाम खत्म किया।

                        मालूम हो कि करीब 16 दिन पहले मस्तुरी थाना क्षेत्र के देवगांव निवासी युवती की लाश 7 जनवरी को खुडुनाला के करीब पायी गयी। सूचना के बाद मौके पर पहुंचकर युवती के शव को पुलिस ने बरामद किया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मे युवती के साथ बलात्कार के बाद हत्या करना बताया गया है। रिपोर्ट के बाद संदिग्धों की तलाश पुलिस ने शुरू की। तमाम उतार चढ़ाव और पुलिस दावों के बीच युवती के आरोपी अभी भी कानून की पकड़ से दूर हैं।

                        इन 16 दिनों में पुलिस केवल कुछ संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ की है। लेकिन मामला आज भी वहीं का वहीं है। जैसा कि 16 दिन पहले था। आरोपियों के गिरफ्तार नहीं होने से मस्तुरी में तनाव की स्थिति है। इस बीच की राजनैतिक संगठनों ने रेंज पुलिस महानिरीक्षक विवेकानन्द सिन्हा और पुलिस कप्तान मयंक श्रीवास्तव से मिलकर निश्चित समय में आरोपियों को पकड़ने की मांंग की। बावजूद इसके पुलिस को अभी कुछ खास सफलता नहीं मिली है।

                 इस बीच पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल ने 9 सदस्यी प्रतिनिधिमंडल का गठन कर जांच रिपोर्ट पेश करने को कहा। प्रतिनिधिमंडल ने शायद रिपोर्ट पेश भी कर दिया। बावजूद इसके अभी तक युवती के परिजनों को न्याय नहीं मिला है। जोगी कांग्रेस ने भी मस्तूरी पहुंंचकर थाने का घेराव किया। पुलिस महकमें को चेतावनी भी दी कि यदि आरोपियों को मकर संक्राति के पहले तक गिरफ्तार नहीं किया जाता है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा। साथ ही एलान किया कि आरोपियों के मिलने के बाद ही युवती का अंतिम क्रिया कर्म किया जाएगा।

                                 स्थानीय पुलिस की लापरवाही और असफलता के बाद पुलिस कप्तान ने जांच के लिए पुलिस आलाधिकारियों का विशेष दल बनाया। बावजूद इसके आरोपियों तक कानून नहीं पहुंचा है।

              बहरहाल आरोपियों की गिरफ्तारी नही होने से गुस्साए मस्तूरी के निवासियों ने आज दोपहर मुख्यमार्ग में धरना देकर चक्काजाम किया। दोपहर को शुरू हुए चक्काजाम करीब तीन घंटे तक चला। चक्काजाम से बिलासपुर जांजगीर मार्ग पर दोनो तरफ हजारों गाड़ियो की कतार लग गयी। यातायात पूरी तरह से चौपट हो गया।

                     एडिश्नल एसपी शहर प्रशांत कतलम, एडिश्नल एसपी ग्रामीण अर्चना झा, मस्तुरी एसडीएम,सीएसपी लखन पटले समेत सैकड़ों पुलिस जवान मौके पर मौजूद होकर चक्काजाम खत्म करने को कहा। पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारियों ने दिलीप लहरिया,डॉ.कृष्णमूर्ती बांधी समेत ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि आरोपियों के करीब पुलिस पहुंच चुकी है। जल्द ही जांच पड़ताल के बाद हिरासत में ले लिया जाएगा।

         ग्रामीणों के आक्रोश को शांत करने में पुलिस को काफी पसीना बहाना पड़ा।

आई जी से की थी मांग

           मामले में आरोपियों को जल्द से जल्द हिरासत में लेने की मांग मरवाही विधायक अमित जोगी, पूर्व विधायक लोरमी धर्मजीत सिंह ने आई जी से की थी। आईजी विवेकानंद सिन्हा ने जोगी और धर्मजीत सिंह से कहा था कि जांच सही दिशा पर है। आरोपी कब तक पकड़े जाएँगे यह बताना मुश्किल है। पुलिस आरोपियों के बहुत नजदीक पहुच चुकी है। इसलिए मैं फिलहाल इस बारे में बयान देकर जल्दबाजी नहीं करना चाहता हूंं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *