2 घंटे में 250 मकान खाली..निगम की कार्रवाई..बेजाकब्जाधारियों ने किया प्रदर्शन..कलेक्टर कार्यालय का घेराव

बिलासपुर—- निगम और जिला प्रशासन ने इमलीभाठा स्थित आईएसडीपी योजना के तहत बनाए गए मकानों से लोगों को बेदखल कर दिया है। मात्र दो घंटे के अन्दर निगम प्रशासन ने 9 ब्लाक के सभई 250 मकानों को खाली कराया है। नाराज लोगों ने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर प्रदर्शन किया। बाद में उन्हें समझाईश के बाद लौटा दिया गया। प्रशासन के अनुसार मकान निगम का है। स्थानीय लोगों ने बिना अनुमति कब्जा किया है। नोटिस जारी होने के बाद भी मकान नहीं छोड़ने पर  कार्रवाई की गयी है। 

               अरपा पार सरकण्डा के ईमलीभाठा बंधवारा और आईएसएसडीपी आवास पर कब्जा करने वालों के खिलाफ निगम प्रशासन ने कार्रवाई की है। बुधवार को संयुक्त कार्रवाई में सभी मकानों को खाली कराया गया। 

               संयुक्त कार्रवाई के दौरान स्थानीय लोगों ने जमकर हंगामा किया। बावजूद इसके किसी की निगम प्रशासन के सामने दाल नहीं गली। नाराज लोग कार्रवाई के खिलाफ एकजुट होकर आवेदन के साथ कलेक्टर कार्यालय पहुंचे। जिला प्रशासन ने सभी समझाकर वापस किया।

             पीड़ितों ने बताया कि अम्बेडकर आवास, बंधवापारा और आईएसडीएसपी आवास लम्बे समय से खाली था। हम लोग पिछले 25 साल से किराये के मकान में रहते थे। गरीब होने के कारण मुश्किल से गुजर बसर चलता है। खाली मकान हमने मरम्मत कराया। साथ ही जिला प्रशासन को आवेदन देकर मकान आवंटित करने की मांग की।

               स्थानीय लोगों की मानें तो मकान खाली कराने से पहले नोटिस नहीं दिया गया। निगम और पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचकर घर से सामान निकाल बाहर फेंक दिया है। ऐसी स्थिति में अब हम लोग कहां जाएं।

 सभी को सामुदायिक भवन रखेंगे

         एसडीएम देवेन्द्र पटेल ने कहा कि मकान को किसी को आवंटित नहीं किया गया है। सभी लोगों के पास घर है। चूंकी पिछले सात आठ महीने से मकान खाली था। इसलिए लोगों कब्जा कर लिया। किसी ने मकान के लिए आवेदन नहीं किया है। फिर भी हमने आवेदन मंगाए है। न्यायसंगत निर्णय लिया जाएगा।

 आस पास के लोगों ने किया कब्जा..दो दिए नोटिस

        निगम अभियंता पीके पंचायती ने बताया कि अम्बेडकर आवास , बंधवारा और आईएचएसडीपी आवास को निगम ने बनाया है। राज्य सरकार के निर्देश पर 9 ब्लाक के सभी 252 मकानों को हितग्राहियों आवंटित किया गया था। बाद में केन्द्र सरकार की योजना के तहत यहां के सभी लोगों को प्रधानमंत्री आवास का एलाट किया गया। इसके बाद सभी मकान को निगम ने फिर अपने कब्जे में ले लिया। 

                  पंचायती ने कहा कि आसपास के लोगों ने खाली मकान देखकर कब्जा कर लिया। इसमें कई ऐसे भी लोग हैं जिन्हें पीएमआवास योजना के तहत मकान नई जगह आवंटित कर दिया गया। अब इन्ही लोगों ने फिर से कब्जा कर लिया है।

           पंचायती ने जानकारी दी कि चार महीने पहले कब्जाधारियों को निगम ने नोटिस दिया है। व्यक्तिगत तौर पर इन्हें बताया कि बिना अनुमति मकान पर कब्जा अपराध है। एफआईआर दर्ज किया जा सकता है। इसलिए मकान को जल्द से जल्द खाली करना होगा। जब लोगों ने मानने से इंकार कर दिया। तो पुलिस के साथ मिलकर इनके खिलाफ कार्रवाई की गयी है। सभी लोग आसपास के रहने वाले हैं। सभी लोग झूठ बोल रहे हैं। आवास के लिए किसी ने आवेदन नहीं किया है।

खाली मकान का क्या उपयोग

            अधिकारियों के अनुसार लोगों ने मकान पर बलात कब्जा किया है। यदि कार्रवाई का विरोध किया गया तो एफआईआर दर्ज किया जाएगा। सूत्रों की माने तो बंधवापारा, अम्बेडकर आवास और आईएचएसडीपी आवास को अरपा तट से विस्थापित परिवारों के बीच आवंटित किया जाएगा।

        बताते चलें कि अरपा तट के दोनो तरफ सड़क और रिवर व्यू का निर्माण किया जाना है। इस दौरान यहां से करीब 350 लोगों को विस्थापित किया जाएगा। विस्थापित लोगों मेे कब्जा से खाली कराए गए मकानों में शिफ्ट किया जाएगा।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...