दिल्ली में सोमनाथ को मिला सम्मान.. मूर्धन्य व्यंग्यकार ललित की पुस्तक का हुआ विमोचन..साहित्यकारों ने दी बधाई

दिल्ली— देश की सुपरिचित व्यंग्यकार डॉ लालित्य ललित की श्रेष्ठ व्यंग्य रचनाओं का संचयन और संपादन छत्तीसगढ़ बिलासपुर के वरिष्ठ साहित्यकार डॉ सोमनाथ यादव ने मार्गदर्शन में किया गया। संचयन का विमोचन राजधानी दिल्ली में विश्व पुस्तक मेले मे प्रोफेसर अवनीश कुमार,अध्यक्ष वैज्ञानिक और तकनीकी शब्दवाली आयोग,भारत सरकार के साथ जाने माने पत्रकार राहुल देव और देश के प्रसिद्ध व्यंग्यकार डॉ प्रेम जनमेजय ने किया।
 
          विमोचन समारोह के दौरान उपस्थित अतिथियों ने डॉ लालित्य ललित को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि लालित्य ललित वर्तमान समय के बेहतरीन व्यंग्यकार में से एक है। जिनकी विसंगतियों पर पकड़ हम पाठकों को अचंभित करती है। अतिथियों ने संपादक डॉ सोमनाथ यादव की जमकर तारीफ की। अतिथियों ने बताया कि डॉ सोमनाथ छत्तीसगढ़ के जाना पहचाना नाम है। साहित्य,लोक साहित्य और लोककलाओं पर उन्होने अनेक पुस्तक लिखे है। उनके सतत प्रयास से साहित्य को नय़ी गति मिली है। कला संरक्षण, संवर्धन में उन्होने बहुत काम किया है। पिछले 30 साल से लोककला साहित्य को दिए गए उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। 
 
                मालूम हो कि लालित्य ललित की गिनती इस समय देश के मूर्धन्य व्यंग्यकारों में होती है। ललित राष्ट्रीय पुस्तक न्यास भारत के छत्तीसगढ़ के नोडल अधिकारी भी है। विमोचन अवसर पर प्रमुख रूप से छत्तीसगढ़ बिलासपुर से बिलासा कला मंच के संयोजक डॉ सुधाकर बिबे,संरक्षक राजेन्द्र मौर्य,अध्यक्ष महेश श्रीवास, रायपुर पुस्तक मेला के संयोजक नागेश दुबे,भारत भास्कर रायपुर के संपादक संदीप तिवारी, जबलपुर से वरिष्ठ व्यंग्यकार रमेश सैनी, रमाकांत ताम्रकार, जय प्रकाश पांडेय, दिल्ली से वरिष्ठ साहित्यकार रणविजय राव, सुनील जैन राही समेत अनेक साहित्यकार, पुस्तक प्रेमी मौजूद थे।
 
               बिलासपुर के शिष्ठ मंडल ने डॉ लालित्य ललित को शुभकामनाएं दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *