नन्ही रूबी से सांसद ने कहा..लाकडाउन के बाद जरूर मिलुंगा..पूछा कहां से सीखी इतनी बड़ी बात

बिलासपुर—सांसद अरूण साव ने दिल्ली से सीपत की नन्ही रूबी से बातचीत की है। सांसद ने रूबी को कोरोना पीड़ितों के लिए मुख्यमंत्री राहत कोष में 11 सौ 12 जमा किए जाने पर बधाई दी। रूबी से सांसद ने जमकर बातचीत की। बातचीत के दौरान रूबी भावुक हो गयी। सांसद ने रूबी के भाई और चाचा से भी संवाद कियE। उन्होने कहा कि लाकडाउन खत्म होने के बाद रूबी से जरूर मिलुंगा।

                  जानकारी हो कि कक्षा आठ की छात्रा रूबी सीपत की रहने वाली है। मात्र 12 साल की है। उसने बुधवार को सीपत तहसील कार्यालय पहुंचकर तहसीलदार संध्या नामदेव को 11 सौ 12 रूपए दिए। और मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करने को कहा। रूबी ने बताया कि उसके पिता की साल पहले किसी बड़ी बीमारी से मौत हो गयी है। नहीं चाहती कि किसी के मम्मी पापा की मौत हो। मैने और उसके भाई ने दो साल से कुछ रूपए गुल्लक में जमा किए थे। गुल्लक तोड़ने के बाद कुल 11 सौ 12 रूपए इकठ्ठा हुए है। चाहती हूं कि इन रूपयों से कोरना पीड़ितों का इलाज हो। नन्ही बच्ची की बात सुनकर तहसीलदार संध्या नामदेव रो पड़ी।        

                                खबर की जानकारी सांसद अरूण साव को भी मिली। उन्होने दोपहर को रूबी से मोबाइल पर बातचीत की। सांसद ने रूबी से पूछा की इतने कम उम्र में देश और दुनिया की बात और सेवा की बात कहां से सीखी। रूबी ने बताया कि चाचा ने बताया कि कोरोना बहुत खतरनाक बीमारी है। इससे लोगों की मौत हो रही है। किसी को घर से बाहर नहीं निकलना है। चूंकि मेरे पिताज की मौत ऐसी ही बीमारी से हुई थी। इसलिए मैने और भाई ने गुल्लक तोड़कर इकठ्ठा रूपय़ों को मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करने का फैसला किया है। इसके बाद रूबी भावुक हो गयी। और इसके बाद उसने मोबाइल को भाई को दी दी। सांसद अरूण साव ने ऋषभ और उसके चाचा हेमंत से बातचीत की। उन्होने कहा कि जैसे ही लाकडाउन खत्म होगा। रूबी और ऋषभ से जरूर मिलुंगा।    

loading...
loading...

Comments

  1. By Manish agrawal

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...