संत का दावा…अमित जोगी होंगे बर्खास्त…राज्य आयोग ने भेजा केन्द्रीय निर्वाचन को पत्र…

SANT NETAMबिलासपुर—जोगी की जाति के  मामले के मुख्य सूत्रधार संत कुमार नेताम ने बताया कि मेरी मांग पत्र को राज्य निर्वाचन आयोग ने भारत सरकार मुख्य निर्वाचन को भेज दिया है। संतराम के अनुसार  प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष, राज्य निर्वाचन आयोग और भारत सरकार निर्वाचन आयोग को अमित जोगी की विधायकी को निरस्त करने  पत्र दिया था।सीजीवाल, राज्य चुनाव आयोग ने सूचित किया है कि शिकायती मांग को दिल्ली स्थित निर्वाचन आयोग को पास भेज दिया गया है।

डाउनलोड करें CGWALL News App और रहें हर खबर से अपडेट
https://play.google.com/store/apps/details?id=com.cgwall

                      मालूम हो कि आज जाति मामले में जोगी की स्टे याचिका पर सुनवाई होनी थी। मुख्यन्यायाधीश छुट्टी पर हैं इसलिए मामले में आज सुनवाई नहीं हुई। इसलिए सुनवाई 24 अगस्त को होगी।सीजीवाल को जोगी जाति मामले में मुख्य सूत्राधार संतकुमार नेताम ने बताया कि हाईपावर कमेटी ने जोगी को आदिवासी नहीं माना  है। इसी को आधार मानकर रायपुर स्थित निर्वाचन कार्यालय, प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष और भारत निर्वाचन आयोग को पत्र लिखा था।

                        नेताम के अनुसार पत्र में मरवाही विधायक अमित जोगी की विधायकी को निरस्त करने को कहा है।  जब हाईपावर कमेटी ने अजीत जोगी को आदिवासी मानने से इंकार कर दिया है। ऐसी सूरत में अजीत जोगी के  पुत्र अमित जोगी आदिवासी क्षेत्र से विधायक नहीं हो सकते हैं।

               संतकुमार नेताम के अनुसार अजीत जोगी आदिवासी नहीं हैं। जाहिर सी बात है कि पुत्र होने के कारण अमित जोगी भी आदिवासी नहीं हैं। मरवाही विधानसभा आदिवासी के सुरक्षित हैं। मैने तीनों जगह पत्र लिखकर मरवाही विधायक को बर्खास्त करने की मांग की है। रायपुर राज्य निर्वाचन आयोग ने  व्यक्तिगत रूप से पत्र का जवाब दिया है। राज्य निर्वाचन आयोग ने केन्द्रीय निर्वाचन आयोग को बर्खास्तगी वाला मांग पत्र भेज दिया है।

                                 सीजी वाल को संतकुमार नेताम ने बताया कि जोगी जाति मामले में पूर्व वकील से अनापत्ति प्रमाण पत्र मिलने के बाद दूसरे अधिवक्ता मामले में पैरवी करेंगे।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...