कुछ इस तरह होंगे भूपेश के मंत्री…सभी संभाग को मिलेगा पद..जातिगत और वरिष्ठता को भी दिया जाएगा ध्यान

बिलासपुर— 25 दिसम्बर को भूपेश बघेल मंत्रीमण्डल का विस्तार होगा। दस मंत्री पद और गोपनीयता की शपथ लेंगे। शपथ कार्यक्रम राजभवन में किया जाएगा। दिल्ली से रायपुर तक लोग बेचैन हैं कि भूपेश बघेल के मंत्रीमण्डल में कि्न-किन चेहरों को जिम्मेदारियां दी जाएगी। फिलहाल पिछले 24 घण्टे में कुछ ऐसी बातें छनकर आ रही हैं जिन्हें नए सीएम अपने मंत्रीमण्डल में स्थान देंगे। चेहरों के नाम कुछ इस प्रकार हो सकते हैं।

                       सूत्रों की मानें तो भूपेश मंत्रीमण्डल में इस बात का ध्यान रखा गया है कि सभी संभाग को मंत्री पद मिले। इसके अलावा मंत्री पद की योग्यता में जातिगत और वरिष्ठता के समीरकरण को भी ध्यान रखा गया है। जानकारी के अनुसार 25 नवम्बर को जो दस चेहरे शपथ लेंगे उनमें बस्तर संभाग से मनोज मण्डावी, लखेश्वर बघेल होंगे। रायपुर संभाग से सत्यनारायण शर्मा,धनेन्द्र साहू, और शिव डहरिया का नाम होगा। दुर्ग संभाग से रविन्द्र चौबे, अनिला भेड़िया और मोहम्मद अखबर को शामिल किया जाएगा। बिलासपुर संभाग से मंत्री उमेश पटेल होंगे। जबकि चरणदास महंत और राम पुकार सिंह को विधानसभा अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनाया जाएगा।

                         मिली जानकारी के अनुसार मनोज मण्डावी को खेल मंत्रालय की जिम्मेदारी दी जा सकती है। लखेश्वर बघेल वन मंत्रालय संभाल सकते हैं। बिलासपुर संभाग के युवा नेता उमेश पटेल को भूपेश बघेल नगरीय निकाय की जिम्मेदारी दे सकते हैं। डॉ.चरणदास महंत को विधानसभा अध्यक्ष और सरगुजा संभाग से आने वाले नेता रामपुकार सिंह को उपाध्यक्ष बनाया जा सकता है।

               जानकारी यह भी मिल रही है कि रायपुर संभाग से सत्यनारायण शर्मा को उच्च शिक्षा मंत्री, धनेन्द्र साहू को भी कोई बड़ा और अहम मंत्रालय दिया जा सकता है। संभाग से अनुसूचित जाति के बड़े नेता डॉ.शिव डहरिया को भी बड़ी जिम्मेदारी मिलेगी। दुर्ग संभाग से रविन्द्र चौबे को स्कूल शिक्षा मंत्रालय दिया जा सकता है।  डौडी लोहरा विधायक अनिला भेड़िया को महिला एवं बाल विकास मत्रालय मिल सकता है। जबकि कवर्धा से रिकार्ड तोड़ जीत हासिल करने वाले अल्पसंख्यक वर्ग के नेता मोहम्मद अखबर भी बड़े मंंत्रालय को संभालेंगे।

                       बताते चलें कि टीएस सिंहदेव सरगुजा और ताम्रध्वज साहू पहले से ही पद और गोपनीयता की शपथ ले चुके हैं। जानकारी यह भी मिल रही है कि यदि कोई बड़ा कारण नहीं हुआ तो दस जनपद से मिले दिशा निर्देशों का अक्षरसः पालन किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *