अमित जोगी ने बताया..पदयात्रा करूंगा..कहीं से भी चुनाव लड़ूंगा..पढ़ें..विधायक धरमजीत मामले पर क्या कहा…?

बिलासपुर— अमित जोगी ने कहा अलग अलग चरणों में जोगी जन अधिकार यात्रा करूंगा। पहले चरण की पदयात्रा में आठ  विधानसभा होकर गिरौदपुरी धाम में खत्म होगी। पार्टी विधानसभा चुनाव को गंभीरता से लड़ेगी..। किसी दल में विलय या समझौता का सवाल ही नहीं उठता है। चुनाव कोटा ही क्यों मैं कहीं से भी लड़ सकता हूं। प्रेस को अपने संबोधन में जोगी ने कहा कि मैं कहीं से भी चुनाव लड़ सकता हूं।
 
                   अमित जोगी ने कहा कि जोगी कांग्रेस पार्टी 2023 विधानसभा चुनाव को गंभीरता लड़ेगी। दोनो राष्ट्रीय दलों को जनता आजमा चुकी है। दोनो दलों ने वोट के बदले खोट देने का काम किया है। दोनो दलों ने वादाखिलाफी किया है। वर्तमान सरकार ने भी जनता के साथ विश्वासघात किया है।  शराबबंदी, नियमतिकरण, आवास और बेरोजगारों को 2500 रुपये प्रतिमाह दिए जाने का वादा पूरा नहीं किया गया। 2023 विधानसभा चुनाव लगभग 350 दिन रह गए हैं। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे)  इसी माह से अपनी चुनावी तैयारी का आगाज़ करने जा रही है।
 
                      जोगी ने बताया कि जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे)  ‘जोगी जन अधिकार’ पदयात्रा पूरे छत्तीसगढ़ में आयोजित करने जा रही है। यात्रा का नेतृत्व करूँगा..पहले चरण में ‘जोगी जन अधिकार पदयात्रा’ 300 किलोमीटर की होगी। पहले चरण की पदयात्रा  राज्य के छह विधानसभा मस्तूरी, अकलतरा, पामगढ़, जैजैपुर, चंद्रपुर और  बिलाईगढ़ से होकर 18 दिसंबर को बाबा गुरु घासीदास की 266 वीं जयंती के दिन गिरौदपुरी में खत्म होगी। ‘जोगी जन अधिकार पदयात्रा’ के माध्यम से बूथ स्तर पर नए लोगों, विशेषकर युवाओं को पार्टी से जोड़ा जाएगा। ‘
 
                     चुनाव के पहले पार्टी का किसी दल में विलय करेंगे..या सहयोग करेंगे। जोगी ने बताया कि उन्हें पदयात्रा का लम्बा अनुभव है। पदयात्रा का फायदा कांग्रेस को मिला है। इस बार पदयात्रा का फायदा जोगी कांग्रेस को मिलना निश्चित है। किसी दल में विलय या सहयोग देने का सवाल ही नहीं उठता है।
 
           प्रदेश में थर्ड पार्टी कभी प्रासंगिकनहीं रही..अजीत जोगी के रहते हुए भी कांग्रेस पार्टी की प्रचंड बहुमत से जीत हुई।आज जोगी कांग्रेस बहुत ही कमजोर है। सवाल के जवाब में अमित जोगी ने बताया कि हमारी सक्रियता से ही 15 साल से सत्ता में बैठी भारतीय जनता पार्टी को हार मिली है। हमने रिकार्ड तोड़ मत पाया है। चुनाव के पहले बसपा से गठबंधन पार्टी के लिए भारी पड़ा है। इस बात को अजीत जोगी ने भी स्वीकार किया है। इस बार हम चुनाव को गंभीरता के साथ लेते हुए संगठन को मजबूत करेंगे।
 
                  अमित जोगी ने कहा कि भाजपा में या कांग्रेस में जाने का सवाल ही नहीं उठता है। अप्रत्यक्ष रूप से लोरमी विधायक धरमजीत सिंह का जिक्र करते हुए कहा कि..एक सज्जन भाजपा से नजदीकी बढ़ा रहे थे। हमने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया। हमारी पार्टी राष्ट्रीय पार्टियों के खिलाफ बनी है। 
 
                    आपने उनकी पत्नी के साथ अभद्र व्यवहार किया। सवाल के जवाब में जोगी ने कहा कि ऐसा संभव ही नहीं है। सवाल उठता है कि एक महीने तक धरमजीत ने कुछ क्यों नही बोला। जब पार्टी से बाहर निकाले तो उन्होने गलत बयानी करना शुरू कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *