गुण्डरदेही में SDOP की होगी पदस्थापना,भाठागांव बी व पैरी में संचालित दो निजी स्कूलों का होगा शासकीयकरण

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज भेंट मुलाकात कार्यक्रम के तहत विधानसभा क्षेत्र गुण्डरदेही के ग्राम बेलौदी पहुंचे। श्री बघेल ने ग्राम बेलौदी स्थित मां दुर्गा एवं शीतला मंदिर में पूजा अर्चना कर प्रदेशवासियों के सुख-समृद्धि की कामना करते हुए भेंट मुलाकात की शुरूआत की। मुख्यमंत्री ने उपस्थित लोगों से चर्चा करते हुए कहा कि भेंट मुलाकात के पहले चरण में बस्तर और सरगुजा संभाग के लोगों से मुलाकात की। उसके बाद रायगढ़ और अब बालोद जिले में आपके पास गया हूँ। आज आपके बीच पहुंचकर बहुत ही खुशी का अनुभव हो रहा है।

मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर गुण्डरदेही में एसडीओपी की होगी पदस्थापना करने की घोषणा की। इसी प्रकार अर्जुंदा और गुण्डरदेही के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों के लिए भवन और अर्जुंदा में बस स्टेण्ड के निर्माण की मंजूरी दी। गुण्डरदेही विधानसभा क्षेत्र के आदिवासी बाहूल्य गांवों में देवगुड़ी सौन्दर्यीकरण हेतु 50 लाख रूपए, बेलौदी जलाशय के गहरीकरण और विभिन्न सड़कों के मरम्मत की स्वीकृति दी। इसके अलावा भाटागांव, बेलौदी, कुरदी में जिला सहकारी बैंक का एटीएम, भाठागांव बी और पैरी में संचालित दो निजी स्कूलों के शासकीयकरण की भी मंजूरी दी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भेंट मुलाकात कार्यक्रम के तहत मैं यह जानने आया हूँ कि आप लोगों को योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं। मुख्यमंत्री के यह कहने पर सबने उत्साहपूर्वक जोर से कहा कि योजनाओं का लाभ मिल रहा है। मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि मैं जानना चाहता हूं कि क्या कमी रह गई है, उसे भी अब हम दूर करेंगे।
भेंट मुलाकात के दौरान  शत्रुघ्न ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना की तारीफ करते हुए कहा कि मुझे इस योजना का लाभ दो साल से मिल रहा है। इसके अलावा अल्पकालीन कृषि ऋण माफ योजना के तहत 35 हजार का कर्ज माफ हुआ। शत्रुघ्न ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए जोर से कहा ’छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया’।

मुख्यमंत्री को आभार व्यक्त करते हुए डोमार सिंह साहू ने बताया कि अल्पकालीन कृषि ऋण योजना तहत 3 लाख रूपए का कर्ज माफ हुआ है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत अक तक 38 हजार रूपए का लाभ मिला। इस पर मुख्यमंत्री ने डोमार सिंह साहू पूछा कि इतना अतिरिक्त पैसा मिला तो क्या किया? डोमार सिंह ने बताया कि बेटे की शादी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि लड्डू नहीं खिलाये भैया। किसान ने कहा आप तो आये नहीं। कुंवर सिंह आये थे। मुख्यमंत्री ने बहु पूर्णिमा से पूछा, क्या लिया आपके ससुर जी ने, बहु ने कहा कि मेरे लिए कार लेंगे। मुख्यमंत्री ने पूछा मायके कहां हैं। पूर्णिमा ने बताया कि अभनपुर मायके है।

नरेंद्र सिंहा ने मुख्यमंत्री को बताया कि ’चिटफण्ड कंपनी ने मुझे लूट लिया है।’ मुख्यमंत्री को कलेक्टर ने अवगत कराया कि चिटफंड कम्पनियों से लगातार वसूली की कार्रवाई जारी है। मुख्यमंत्री ने बताया कि पहली बार चिटफंड कंपनियों के खिलाफ कार्यवाही की जा रही है। अब तक इन कम्पनियों के कई डायरेक्टर जेल में हैं।

मुख्यमंत्री से नागेश्वरी साहू ने बेलौदी कॉलेज के संबंध में बताया कि यहां अच्छी सुविधा नहीं है, लॉ विषय और भूगोल विषय नही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अच्छी शिक्षा के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। मुख्यमंत्री ने उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम लोगों ने सबसे पहले किसानों की आय बढ़ाने पर कार्य किया है। इसके लिए हमने बड़े फैसले लिए। कोरोना की विपदा भी झेली, फिर भी लोगों के विकास के लिए सतत् प्रयास किया जा रहा है। कोरोना काल में भी अन्नदाता से किया वायदा निभाते रहे।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना का लाभ किसानों को मिलता रहा। आज किसानों से बातचीत की। लगा कि उनके जीवन में कितनी खुशहाली आई है। खेती का रकबा भी बढ़ा। खेती में लोग लौट आये हैं। किसान की जेब में पैसा आया है। इससे खेती किसानी बहुत समृद्ध हुई है। मुख्यमंत्री ने आवारा मवेशियों से हो रही दिक्कत के बारे में बताया कि किस तरह गौठान की संकल्पना को मूर्त रूप दिया गया। गोधन न्याय योजना के तहत गोबर खरीदी आरम्भ हो गई। पहले कहते थे सब गुड़ गोबर हो गया।

अब गोबर गुड़ हो गया है। वर्मी कम्पोस्ट के उपयोग से फसल बढ़िया हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भूरा माहो के लिए भी जैविक कीटनाशक बहुत उपयोगी है। स्वस्थ रहने भी यह बहुत जरूरी है। मुख्यमंत्री ने कहा, आप लोगों के साथ बहुत आनंद आया।
मुख्यमंत्री ने भेंट मुलाकात के पूर्व मंदिर दर्शन के बाद ग्राम की सरपंच कांतिबाई सारथी के घर पहुंचकर उनके दिवंगत पुत्र स्व. श्री भूपेंद्र सारथी (ईशु) के चित्र पर माल्यार्पण कर शोक संवेदना व्यक्त की। स्व. श्री भूपेन्द्र की मृत्यु सप्ताह भर पहले, 12 सितंबर को हो गई थी। इस दौरान दिवंगत श्री भूपेन्द्र की पत्नी शिल्पा और उनके दो वर्षीय पुत्र कान्हा से मुलाकात कर गहरी संवेदना जाहिर की। उन्होंने मासूम कान्हा को अपनी गोद में लेकर उसे पुचकारा भी। दिवंगत की पत्नी को बंधाया ढांढस- जब दिवंगत की पत्नी श्रीमती शिल्पा ने मुख्यमंत्री से भेंट की, तो इस दौरान अपने आंसुओं को रोक नहीं पाईं। मुख्यमंत्री ने शिल्पा को ढांढस बंधाते हुए कहा कि मृतक भूपेन्द्र की कमी तो पूरी नही हो सकती। अब मासूम कान्हा की परवरिश अच्छे से करनी होगी। उन्होंने श्रीमती शिल्पा के सिर पर हाथ रखकर ढांढस बंधाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.