केरल ने बढ़ाई देश की चिंता,24 घंटे में कोरोना के 32 हजार से ज्‍यादा नए केस

दिल्ली।केरल में कोरोना को लेकर स्थिति लगातार गंभीर बनी हुई है. पिछले 24 घंटों में राज्य में कोरोना 32803 नए मामले सामने आए हैं जबकि 173 लगों की मौत हो गई है. इसके अलावा 21610 लोग कोरोना से ठीक भी हो गए हैं. इसी के साथ राज्य में एक्टिव मामलों की संख्या 2,29,912 हो गई है जबकि 20961 कोरोना से मौत हो गई है. इसके अलावा अब तक 3838614 लोग कोरोना से ठीक हो गए हैं.

राज्य में स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए नई टेस्टिंग स्ट्रैटजी भी शुरू की जा रही है. पिछले 24 घंटों में 1,74,854 लोगों के कोरोना के लिए सैंपल टेस्ट किए गए हैं. राज्य में टेस्ट पॉजिटिविटी रेट फिलहाल 18.76 फीसदी है.

क्या लॉकडाउन ही एकमात्र उपाय?

मीडिया रिपोर्ट मुताबिक, केंद्र सरकार भी केरल को लेकर काफी गंभीर है. सरकार को स्थिति पर काबू पाने के लिए केवल लॉकडाउन की एक बेहतर उपाय दिख रहा है.केरल में संक्रमण को रोकने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने वैसे तो कई तरह के सुझाव दिए हैं, लेकिन सबसे अधिक लॉकडाउन पर काम करने को कहा है. इसके लिए उन जगहों को चुनने को कहा है जहां सबसे अधिक केस हैं. इन जगहों पर पूरी तरह से या आंशिक लॉकडाउन लागू करने की सलाह दी गई है.

एक्शन मोड में राज्य सरकार

उधर राज्य सरकार स्थिति को नियंत्रण में करने की कोशिशों में जुटी हुई है. इसी कड़ी में नाइट कर्फ्यू लागू करने के बाद अब सीरो स्टडी शुरू होने जा रही है. जानकारी के मुताबिक वायरस के खिलाफ लोगों की प्रतिरक्षा का निर्धारण करने और महामारी के प्रसार के जोखिम का आकलन करने के लिए एक सिरोप्रवैलेंस अध्ययन करने का निर्णय लिया गया है.

केरल के स्वास्थ्य मंत्री जॉर्ज ने कहा कि राज्य में कोविड -19 सिरोप्रवलेंस स्टडी करने की अनुमति दी गई है. “सिरोप्रेवलेंस स्टडी यह पता लगाने के लिए की जा रही है कि कितने वैक्सीनेट या कोरोना के कॉन्टैक्ट में आने वाले लोग वायरस के खिलाफ प्रतिरक्षा प्राप्त करने में सक्षम हैं. इससे यह पता लगाना भी संभव होगा कि कितने और लोग जोखिम में हैं.

जॉर्ज ने कहा कि सिरोप्रवलेंस स्टडी से राज्य की तरफ से किए जा रहे कोरोना के खिलाफ उपायों को मजबूत करने में मदद मिलेगी. “पिछली ICMR सिरोप्रेवलेंस स्टडी में पाया गया था कि केरल में, 42.07 प्रतिशत लोगों ने कोविड -19 के खिलाफ प्रतिरक्षा हासिल कर ली थी. केरल में राज्य में संक्रमित लोगों की संख्या सबसे कम थी. तब से, राज्य ने टीकाकरण में काफी प्रगति की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *