पुलिस की पिटाई से मानसिक दिव्यांग व्यक्ति की मौत, आठ पुलिसकर्मी निलंबित

कर्नाटक शहर में मानसिक रूप से विक्षिप्त एक 50 वर्षीय व्यक्ति की पुलिस की कथित पिटाई से मौत का मामला सामने आया है. आरोप है कि पिछले सप्ताह लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने पर पुलिसकर्मियों की पिटाई से उसकी मौत हो गई. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इनमें से आठ को निलंबित कर दिया गया है. पुलिस महानिरीक्षक प्रवीण मधुकर पवार ने बताया कि मृतक के भाई राबिन डिसूजा की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया गया.उन्होंने कहा कि विराजपेट के पुलिस उप अधीक्षक ने आठ पुलिसकर्मियों के खिलाफ एक रिपोर्ट प्रस्तुत की थी, जिसके आधार पर उन्हें निलंबित कर दिया गया है.पवार ने कहा कि मजिस्ट्रेट द्वारा जांच की जा रही है. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के दिशानिर्देशों के अनुसार हम मामले को सीआईडी को सौंप रहे हैं.

हालांकि, एक पुलिस अधिकारी ने कहा, “डिसूजा को पुलिस ने लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने के लिए रोक दिया गया था. इसके बाद डिसूजा ने एक कांस्टेबल पर किसी नुकीली चीज से हमला किया, जिससे उसका हाथ घायल हो गया. अधिकारी (पीसी संगमेश शिवपुरा) को तीन टांके लगने के बाद अब इलाज चल रहा है. बताया जा रहा है डिसूजा भी ड्यूटी पर मौजूद अन्य लोगों पर हमला करने की धमकी देते हुए थाने में घुस गए थे.

8 जून की रात घर से भागा था

बताया जाता है कि मृतक राय डिसूजा के परिजनों के अनुसार वह मानसिक विकलांग था और अपनी मां के साथ रहता था. उसका भाई राबिन डिसूजा बेंगलूरु में रहता था. आठ जून की रात वह घर से भाग गया था. पुलिसकर्मियों ने उसे घूमते हुए पाया था और लॉकडाउन के नियमों के उल्लंघन के बारे में सवाल किया था और धक्का दिया था. अगले दिन उसकी मां को थाने बुलाया गया जहां उसने देखा की राय बेहोश पड़ा था. उसे इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *