किसी एक ही संघ से नही अपितु साझे मंच के साझे प्रयास से हुई पुरानी पेंशन बहाली,वीरेंद्र दुबे ने बताया-महासम्मेलन का मांग समय

रायपुर।प्रदेश में ओल्ड पैशन स्कीम लागू करने की खुशी में एक शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का सम्मान समारोह, आभार प्रदर्शन साथ ही साथ वेतन विसंगति की मांग एवं OPS संबंधित सभी प्रकार की विसंगतियों को सरकार के समक्ष रखने निर्णय लिया है। शिक्षक नेता वीरेंद्र दुबे का कहना है कि पुरानी पेंशन की बहाली NOPRUF की मांग किसी एक ही संघ से नही साझे मंच के साझे प्रयास से हुई है।इसलिए प्रदेश कर्मचारियों के साझे मंच से भव्य महासम्मेलन कर मुख्यमंत्री का आभार प्रकट करने से कर्मचारियों की एकता का शक्ति प्रदर्शन भी सरकार के सामने हो जाता है। एकला चलो की नीति से केवल स्वार्थ सिद्धि होती है कल्याण नहीं होता है।

एक प्रेस नोट में शिक्षक नेता वीरेन्द्र दुबे ने बताया कि हमे मिली जानकारी के मुताबिक आगामी किसी कार्यक्रम के लिये अभी मुख्यमंत्री निवास से कोई आधिकारिक समय नही मिला है। NOPRUF पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री से मुलाकात का समय मांगा है। हालाकि की ओ पी एस की घोषणा के NOPRUF के राष्ट्रीय महासचिव वीरेंद्र दुबे,राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संजय शर्मा व अन्य प्रदेश संयोजको के साथ मुख्यमंत्री निवास में मुख्यमंत्री से मुलाकात हो चुकी है पर अब हम सभी हमारे संगठनों के साथ मिल कर भव्य महासम्मेलन कर आभार प्रकट करने के लिए समय चाहते है।इसी सिलसिले में हमारे पूर्व शिक्षक साथी
छत्तीसगढ़ शासन में संसदीय सचिव चंद्रदेव राय द्वारा मुख्यमंत्री के मंशानुरूप सभी शिक्षक संगठनों के साथ मीटिंग कर आभार सम्मेलन हेतु आमराय ली जावेगी तत्पश्चात एक तिथि का निर्धारण होगा।

NOPRUF के राष्ट्रीय महासचिव वीरेंद्र दुबे ने कहा कि जो गलती संविलियन आभार के समय कुछ संगठनों ने धिक्कार रैली व सम्मेलन बहिष्कार कर माहौल खराब किया था,वैसी कोई अप्रिय स्थिति इस बार के आभार सम्मेलन में न बने। किसी एक सन्गठन द्वारा श्रेय लेने का प्रयास पुरानी पेंशन की लड़ाई में सम्मलित प्रत्येक कर्मचारी का अपमान है।पुरानी पेंशन साझे मंच के प्रयास से मिला है,तो मुख्यमंत्री का अभिनंदन भी साझे मंच से किया जाना चाहिए।

वीरेंद्र दुबे में कहा है कि छल कपट की राजनीति हर जगह अच्छी नहीं होती,कुछ संगठनों को यह बात अच्छी तरह समझ लेनी चाहिए कि आज तक हमे जो भी मिला एकजुटता के बल पर मिला है आगे भी एकजुट होकर ही अन्य मांगों के लिए संघर्ष करते रहना है। इसलिए गन्दी राजनीति करने से पहले सौ बार सोचना चाहिए। हम संसदीय सचिव चंद्रदेव राय के द्वारा आहूत बैठक में अवश्य हिस्सा लेंगे और आम सहमति के हिसाब से कार्य करेंगे क्योंकि छत्तीसगढ़ शालेय शिक्षक संघ हमेशा ही एकता का पक्षधर रहा है।

छत्तीसगढ़ शालेय शिक्षक संघ के प्रांतीय महासचिव धर्मेश शर्मा,कार्यकारी अध्यक्ष चंद्रशेखर तिवारी और प्रांतीय मीडिया प्रभारी जितेंद्र शर्मा ने जानकारी दी कि हमारा सन्गठन हमेशा ही सर्वहित के साथ खड़ा होता है,हम,श्रेय की नही अपितु कार्यसिद्धि हेतु तत्पर रहते हैं। एकता में ही शक्ति है और इसी सिद्धांत पर हमेशा शालेय शिक्षक संघ अपने व्यक्तिगत हित को परे रख सर्वदा सर्वहित को सर्वोपरि रखकर कार्य करता है।हमारे संगठन के समस्त पदाधिकारी पुरानी पेंशन हेतु सामूहिक आभार प्रदर्शन सम्मेलन के पक्षधर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *