कालिदास को विद्वानों ने किया याद..बताया साहित्य जगत का सूरज..कहा..योग्य शिक्षक ही नहीं महान दार्शनिक थे कालिदास

बिलासपुर—शासकीय बिलासा कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय, संस्कृत विभाग में कालिदास जयंती समारोह का आयोजन  गरिमामय वातावरण में किया गया। इस दौरान अतिथियों ने कालिदास के जीवन और साहित्यिक पहलुओं पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि संस्था प्रमुख डॉ. एस. आर. कमलेश शामिल हुए। विशिष्ट अतिथि डॉ. डी. एस ठाकुर ने भी कार्यक्रम में शिरकत किया।

                         कार्यक्रम में सुमधुर सरस्वती वन्दना छात्रा ख्याति टंडन ने पेश किया।  प्राचार्य एसआर कमलेश ने संस्कृत विषय की महत्ता पर प्रकाश डाला। साहित्य जगत में उनके योगदान को विस्तार के साथ उपस्थित लोगों के सामने रखा।

              कार्यक्रम में एम.ए. स्नातकोत्तर की छात्राओं ने यज्ञवेदी के माडल को प्रदर्शित किया। एक से बढकर एक मनमोहक यज्ञवेदियाँ को देखते ही अतिथियों ने जमकर सराहा। हिन्दी विभागाध्यक्ष ने महाकवि कालिदास के नाटक अभिज्ञानशाकुन्तलम् के दृश्यों का वर्णन किया। संस्कृत विभागाध्यक्ष डॉ. सीमा पाण्डेय ने महाकवि कालिदास को योग्य शिक्षक, मनोवैज्ञानिक, पर्यावरणविद्, दूरदर्शी, नीतिशास्त्रज्ञ, चित्रकार, प्रेमी और सफल पिता बताया। छात्राओं ने संस्कृतगीत का गायन किया। अतिथि प्राध्यापक गिरिजा गुप्ता ने कार्यक्रम का सफल संचालन किया गया। धन्यवाद ज्ञापन ज्योति डहरिया ने किया। 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *