BJP ने Eknath Shinde को क्यों बनाया मुख्यमंत्री? एक तीर से साधे कई निशाने

दिल्ली।महाराष्ट्र में बड़ा उलटफेर हो गया है. भाजपा ने शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) को मुख्यमंत्री बनाने का ऐलान किया है. एकनाथ शिंदे के नाम के ऐलान के साथ बड़े-बड़े दिग्गजों का महाराष्ट्र को लेकर अनुमान पूरी तरह से गलत साबित हुआ. खुद भाजपा और शिवसेना के बड़े नेताओं को भी यह अनुमान नहीं था कि एकनाथ शिंदे अब महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री होंगे. एकनाथ शिंदे के मुख्यमंत्री बनने के ऐलान के बाद जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने इस खबर को उद्धव ठाकरे के लिए बहुत बुरी खबर बताया. सियासी पंडितों भी यही मान रहे हैं कि भाजपा ने यूं ही संख्या बल ज्यादा होने के बावजूद देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री नहीं बना दिया है बल्कि एक तीर से कई निशाने साधे हैं. आइए आपको बतातें है भाजपा द्वारा एकनाथ शिंदे को सीएम बनाने के क्या हैं मायने.

शिवसैनिक न कर पाएं विरोध
भले ही शिवसेना के ज्यादातर विधायकों ने अलग रास्ता अपना लिया हो लेकिन संगठन पर अभी भी ठाकरे परिवार की पकड़ है. अगर भाजपा नेतृत्व सीएम पद के लिए देवेंद्र फडणवीस या फिर किसी अन्य नेता के नाम का ऐलान करता तो यह उद्धव के हाथ में हथियार होता और उनको लेकर शिवसैनिक निराश हो सकते थे. अब महाराष्ट्र का मुख्यमंत्री एक शिवसैनिक ही है, उन्हें शिवसेना के लोग जानते हैं. क्योंकि उद्धव पर अपनी सरकार के दौरान आसानी से कार्यकर्ताओं के मौजूद न होने के आरोप लगते रहे हैं, ऐसे में एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाकर भाजपा ने शिवसैनिकों को नाराजगी जताने से रोकने की पूरी कोशिश की है.

मराठा और हिंदू वोटरो ंका बंटवारा रोकना
इस फैसले के जरिए भाजपा ने शिवसेना में बने एकनाथ शिंदे गुट को और मजबूत करने का काम किया है. अब एकनाथ शिंदे का अगला कदम शिवसेना पार्टी पर अपना नियंत्रण करना होगा. इसके जरिए भाजपा महाराष्ट्र में मराठा वोटरों को भी साधने का प्रयास करेगी. चुनाव में अगर भाजपा शिवसेना के बगैर जाती तो निश्चित ही उसे मराठा वोटों के अलावा हिंदुत्व के वोटों का बंटवारा भी झेलना पड़ता.

महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे भले ही मुख्यमंत्री बना दिए गए हैं लेकिन राज्य में देवेंद्र फडवीस सुपर सीएम की भूमिका में नजर आएंगे. देवेंद्र फडणवीस ने न सिर्फ 5 सालों तक सरकार चलाई है बल्कि उनके नेतृत्व में भाजपा ने दोबारा से चुनाव भी जीता था. उन्हें न सिर्फ सरकार चलाने बल्कि चुनाव लड़कर जीतने का भी अनुभव है. उद्धव ठाकरे की सरकार को गिराने में भी सबसे अहम भूमिका उनकी ही नजर आ रही है. ऐसे में अब निश्चित ही वो महाराष्ट्र के सुपर सीएम की भूमिका में नजर आएंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *