सेवा निकेतन : दिव्यांगों को व्हील चेयर प्रदत्त JSPL फाउन्डेशन के ‘आशा द होप’ द्वारा

रायपुर।आज जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड ने एक सादे कार्यक्रम में सेवा निकेतन के राष्ट्रीय स्तर के दो क्रिकेट खिलाड़ियों को स्पोर्ट्स व्हीलचेयर प्रदान किया। ये क्रिकेट खिलाड़ी छत्तीसगढ़ में अपनी टीम के साथ विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लिए हैं। इनमें से सुनील राव जो छत्तीसगढ़ व्हीलचेयर क्रिकेट टीम के कप्तान भी है । स्पेशलिस्ट इस बैट्समैन पोषण ध्रुव को आज जिंदल के द्वारा व्हील चेयर प्रदान किया गया। व्हील चेयर जो दी गई है वह स्पोर्ट्स व्हील चेयर है जो खेल के लिए काम में ली जाती है।

सुनील राव तथा पोषण ध्रुव जो भारतीय व्हील चेयर क्रिकेट टीम के सदस्य हैं , और छत्तीसगढ़ व्हील चेयर क्रिकेट टीम में सुनील कप्तान है। भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व करते वक्त उन्होंने अपील किया कि , जो प्रैक्टिस वह अपनी पुरानी व्हीलचेयर में कर पा रहे थे वह अब संभव नहीं है। इस भाव को उन्होंने जिंदल स्टील के प्रतिनिधि के साथ व्यक्त किया जिंदल स्टील ने इस बात को  स्वीकार कर मदद करने का निश्चय किया ।

JSPL फाउन्डेशन के ‘आशा द होप’ द्वारा उत्कृष्ट सेवा  ने इस तरह इन्हें स्पोर्ट्स व्हीलचेयर देकर इनके खेल भावना को बढ़ाया है। वैसे भी, जिंदल स्टील स्पोर्ट्स की गतिविधियों को संचालित करने तथा खेल भावना के लिए विख्यात है। व्हील चेयर प्रदान करने के साथ ही JSPL  फाउन्डेशन ने अपनी इस भावना को पुनः स्थापित किया है। 

JSPL फाउन्डेशन  भी इसी प्रकार, प्रतिवर्ष वयैक्तिक संस्थागत मान्य पुरस्कारों को दे कर अपनी सेवा भावना को अभिव्यक्त की है एवं श्रेष्ठ कार्यों को नवाजा है। दोनों खिलाड़ियों ने व्हील चेयर प्राप्त करने के बाद उपस्थित जनों से बात कर अपनी भावना की अभिव्यक्ति के लिए एक सुंदर सा खेल प्रदर्शित भी किया । जिसमें उन्होंने व्हीलचेयर की उपयोगिता को बताया व्हील चेयर की उपयोगिता बताने के समय उन्होंने एक बॉल की फील्डिंग का प्रदर्शन किया। जिससे उपस्थित सभी जन अभिभूत हुए तथा इस व्हीलचेयर की आवश्यकता को भलीभांति जान पाए।

जिंदल के वरिष्ठ अधिकारियों में  प्रदीप टण्डंन अध्यक्ष, सूर्योदय दुबे कार्मिक प्रमुख बृजमोहन सिंह सुरक्षा प्रमुख, योग प्रशिक्षक प्रेम सिंह तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर कर्मचारियों सहित उपस्थित रहे जिन्हें व्हीलचेयर प्राप्त हुई है वह अत्यधिक प्रसन्न थे एवं धन्यवाद जिंदल कह रहे थे।  इस परिपेक्ष में यह बताना भी आवश्यक है कि अंत में सभी ने एक दूसरे को मकर संक्रांति की बधाई एवं शुभकामनाएं प्रेषित की। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *