नया रायपुर में बनेंगे स्मार्ट फोन और कई इलेक्ट्रॉनिक सामान,हुआ एम.ओ.यू.

electronic_nr_mpu_cgरायपुर।मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की अध्यक्षता में सोमवार को उनके निवास कार्यालय में हुए कार्यक्रम में छत्तीसगढ़ सरकार और चार प्रमुख कम्पनियों के बीच 386 करोड़ रूपए के चार औद्योगिक समझौता ज्ञापनों (एम.ओ.यू.) पर हस्ताक्षर किए गए।प्रदेश सरकार की ओर वाणिज्य और उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव एन. बैजेन्द्र कुमार ने और संबंधित कम्पनियों के वरिष्ठ अधिकारियों ने इन समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए।छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम (सीएसआईडीसी) के अध्यक्ष छगन लाल मूंदड़ा सहित संबंधित वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे। समझौता ज्ञापनों के अनुसार इनमें से तीन कम्पनियों ने नया रायपुर स्थित इलेक्ट्रॉनिक मेन्यूफेक्चरिंग कलस्टर में 286 करोड़ रूपए की पंूजी लगाकर मोबाइल फोन, स्मार्ट फोन, कम्प्यूटर टेबलेट, डेस्कटाप पर्सनल कम्प्यूटर, बायोमेट्रिक डिवाईस आदि इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के उद्योग लगाए जाएंगे।

                                     एक अन्य कम्पनी द्वारा राज्य में खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में 100 करोड़ रूपए की लागत से तरल ग्लूकोज और अन्य संबंधित उत्पादों की फैक्ट्री लगाई जाएगी। इन सभी उद्योगों में राज्य के दो हजार 800 लोगों को रोजगार मिलेगा। इसके अलावा बड़ी संख्या में स्थानीय युवाओं को रोजगार के नये अवसर भी मिलेंगे।

                                  मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने इन औद्योगिक समझौतों पर खुशी जताई। उन्होंने निवेशकों का स्वागत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ’मेक-इन-इंडिया’ अभियान में छत्तीसगढ़ की भागीदारी काफी महत्वपूर्ण है। इस अभियान में छत्तीसगढ़ उत्प्रेरक की भूमिका निभा रहा है। डॉ. सिंह ने कहा-राज्य सरकार ने छत्तीसगढ़ में व्यापार-व्यवसाय लगाने की प्रक्रिया का सरलीकरण करते हुए ’ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ में राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बनाई है।छत्तीसगढ़ सरकार की पंचवर्षीय उद्योग नीति (वर्ष 2014-2019) भी इसमें काफी सहायक साबित हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा-औद्योगिक पंूजी निवेश की दृष्टि से छत्तीसगढ़ विगत लगभग 14 वर्षों में निवेशकों के बीच एक पसंदीदा राज्य के रूप में पहचाना जाने लगा है।

                               प्रदेश में अब तक कोर सेक्टर के अंतर्गत स्टील, एल्युमिनियम और सीमेंट उद्योग के लिए ही निवेश आ रहा था, लेकिन अब नॉन कोर सेक्टर के अंतर्गत इलेक्ट्रॉनिक्स, सौर ऊर्जा, खाद्य प्रसंस्करण, ऑटो मोबाइल आदि सेक्टरों में भी छत्तीसगढ़ में पूंजी लगाने के लिए निवेशक आकर्षित हो रहे हैं। राज्य सरकार उन्हें अपनी उद्योग नीति के तहत हर प्रकार की जरूरी सुविधाएं देने के लिए तत्पर हैं।

                                 मुख्यमंत्री ने कहा कि नया रायपुर में इलेक्ट्रॉनिक मेन्यूफेक्चरिंग कलस्टर की स्थापना से इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में पूंजी निवेश को काफी बढ़ावा मिल रहा है। वहां पर मोबाइल फोन, स्मार्ट फोन बनाने के भी उद्योग लगेंगे। राज्य सरकार ने संचार क्रांति योजना (स्काई) के तहत छत्तीसगढ़ के 45 लाख युवाओं और महिलाओं को स्मार्ट फोन देने का निर्णय लिया है। इस योजना के तहत 1700 मोबाइल टावर भी लगाए जाएंगे। डॉ. सिंह ने कहा कि खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों की स्थापना से प्रदेश के किसानों को उनकी उपजों के लिए अच्छा बाजार मिलेगा।

                                 इन समझौता ज्ञापनों पर छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से वाणिज्य और उद्योग विभाग के अपर मुख्य सचिव एन.बैजेन्द्र कुमार, मेसर्स र्स्माट्रोन की ओर से कम्पनी के अध्यक्ष महेश लिंगारेड्डी, मेसर्स फोरस्टार की ओर से कम्पनी के निदेशक के.पी. रॉय, वाट्सन इलेक्ट्रॉनिक्स की ओर से विक्रम देवांगन और मेसर्स अरकास बायोकॉन की ओर से निदेशक अरविंद जैन ने हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर उद्योग विभाग के विशेष सचिव व्ही.के. छबलानी और संचालक अलरमेल मंगई डी. तथा छत्तीसगढ़ राज्य औद्योगिक विकास निगम (सीएसआईडीसी) के प्रबंध संचालक सुनील मिश्रा भी मौजूद थे।

                                 मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में आज हुए एम.ओ.यू. के तहत र्स्माट्रोन इंडिया प्राईवेट लिमिटेड, फोरस्टार टेक्नो सॉल्यूशंस प्राईवेट लिमिटेड और वाट्सन इलेक्ट्रॉनिक कम्पनियों द्वारा नया रायपुर में अपने उद्योगों की स्थापना की जाएगी। इनमें से र्स्माट्रोन इंडिया प्राईवेट लिमिटेड द्वारा स्मार्टफोन और अन्य स्मार्ट डिवाईस जो ट्रोननएक्स तथा एआई पावर्ड आईओटी प्लेटफार्म पर कार्य करते हैं, का निर्माण किया जाएगा। फोरस्टार टेक्नो सॉल्यूशंस प्राईवेट लिमिटेड द्वारा कम्प्यूटर टेबलेट, डेस्कटाप पीसी, स्मार्ट फोन, बायोमेट्रिक डिवाईय, नेटबुक और नोटबुक की असेम्बली के लिए प्लांट लगाया जाएगा। वाट्सन इलेक्ट्रॉनिक्स द्वारा भी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का उद्योग लगाया जाएगा। मेसर्स अरकास बायोकॉन इंडिया प्राईवेट लिमिटेड (बीईसी फूड्स) के साथ हुए एमओयू के तहत इस कम्पनी द्वारा छत्तीसगढ़ में तरल ग्लूकोज और अन्य संबंधित उत्पादों की फैक्ट्री लगाई जाएगी।

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...