6 महीने फरारी के बाद पकड़ाया हमलावर..आरोपी और सामान जब्त ..मरीज की हालत आज भी गंभीर..

बिलासपुर—- पुलिस ने 6 महीने पहले सत्यानन्द पर जानलेवा हमला करने वाले आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। निशानदेही पर डंडा और अन्य हथियार को भी जब्त कर दिया गया है। आरोपी को न्यायिक रिमाण्ड में लिया गया है। परिजनों के अनुसार पीड़ित की हालत आज भी गंभीर बनी हुई है।

               घटना सिरगिट्टी थाना क्षेत्र के तिपरा की है। 20 अगस्त 2020 को पीड़ित का भाई शैलेन्द्र सिंह ने थाना में सत्यानन्द सिंह पर जानलेवा हमला का नामजद रिपोर्ट कराया। प्रार्थी शैलेन्द्र सिंह ने बताया कि सत्यानन्द अपने दोस्त सोनू ऊर्फ रामकुमार यादव और मुखी वर्मा के साथ बाजार चौक तिफरा में बैठे थे।

        इसी दौरान सत्यानन्द के पूर्व परिचित जितेन्द्र शर्मा ऊर्फ जित्तु कार से उतरा और भाई सत्यानन्द सिंह को मां बहन की गाली के साथ जान से मारने की धमकी देने लगा। और फिर कालर पकड़ कर लात घूंसा से हमला भी कर दिया ।

                  प्रार्थी ने बताया कि जित्तु शर्मा के साथ सत्यानन्द के साथ बैठे उसका दोस्त सोनू ऊर्फ रामकुमार और नेवला ने भी हमला कर दिया। सभी ने मिलकर सत्यानन्द को डण्डा और बेल्ट से मारना शुरू कर दिया। इसी बीच नेवला और सोनू ने पीछे से सत्यानन्द के सिर पर पूरी ताकत से सिर पर चोट किया। इसके बाद सत्यानन्द मौके पर ही गिर गया। तीनों सत्यानन्द को मरा समझकर फरार हो गए। बाद में जानकारी मिली कि तीनों उसे जान से मारने चाहते थे। 

         घटना के बाद परिजनों ने पुलिस को बताया कि पीड़ित को पहले सिम्स उसके बाद मेकाहारा में भर्ती किया गया। डाक्टरों ने इलाज के दौरान बताया कि सत्यानन्द की हालत सिर पर चोट लगने के कारण गंभीर है। भविष्य में भी खतरा बना रहेगा।

             प्रार्थी की रिपोर्ट पर तीनों आरोपियों के खिलाफ आईसीपी की धारा 307, 294, 506, 323 और 34 का अपराध दर्ज किया। पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए आरोपियों के ठिकानों पर धावा बोला। लेकिन इस दौरान आरोपी पुलिस के पहुंचने से पहले ही फरार होने में कामयाब रहे।

                 पुलिस को लगातार कार्रवाई के बाद 17 मार्च 2021 को सोनू ऊर्फ राजकुमार यादव को पतासाजी के बाद गिरफ्तार करने में सफलता मिली है। पूछताछ के दौरान आरोपी ने अपराध कबूल किया। निशानदेही पर डण्डा और बेल्ट को बरामद किया गया है। आरोपी को पुलिस ने न्यायिक रिमाण्ड में भेज दिया है।

          इसके पहले  दौरान पीड़ित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *