मेरा बिलासपुर

बिलासपुर की बेटी..हायर सेकन्डरी मेंं टॉपर..कहा..बनूंगी सरकारी कर्मचारी…शुभ ने बताया..सफलता में YouTube का योगदान

बिलासपुर— माध्यमिक शिक्षा मण्डल छत्तीसगढ़ ने गुरूवार दोपहर को हायर सेकेन्डरी और हाईस्कूल परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया है। टॉप 10 में 16 बच्चियों ने जगह बनाया है। 480 अंक के साथ बिलासपुर की बेटी वेदान्तिका ने पांचवा रैंक हासिल किया है। वेदान्तिका के पिता पेशे से अधिवक्ता हैं।

Join Our WhatsApp Group Join Now

वेदान्तिका ने कहा कि उसे टाप 10 में रैंक मिलने की उम्मीद नहीं थी। बहरहाल रिजल्ट के बाद परिवार में आनन्द का वातावरण है। इसके अलावा कटोघोरा के शुभ अग्रवाल ने भी सामान अंक हासिल कर वेदान्तिका की तरह प्रदेश में टाप पांचवा रैंक हासिल किया है। शुभ अग्रवाल अपने रिश्तेदार को देखने अपोलो आया हुआ। इसी दौरान रिजल्ट की जानकारी मिली। बातचीत के दौरान शुभ ने बताया कि उसरी सफलता में माता पिता,गुरूजनों के अलावा यू ट्यबू की भूमिका अहम है।

माध्यमिक शिक्षा मण्डल ने दोपहर रायपुर में हायर सेकेन्डरी परीक्षा परिणाम का एलान किया। टॉप 10 में कुल 20 छात्र छात्राओं ने स्थान बनाया है। इसमें 16 छात्राओं के साथ 4 छात्र भी शामिल हैं। इस बार टॉप 10 में बिलासपुर की वेदान्तिका ने टापर में पांचवा रैंक हासिल किया है। वेदान्तिका के पिता रमेश शर्मा पेशे से वकील हैं।

सरकारी कर्मचारी की चाहत

टाप 10 मैं स्थान बनाने वाली वेदान्तिका ने बताया कि वह साल भर लगातार मेहनत की है। सिटिंग पॉवर और सही दिशा निर्देश से सफलता निश्चित है। पढ़ाई के दौरान माता पिता का हमेशा सकारात्मक सहयोग रहा। वेदान्तिका ने कहा कि उसे उम्मीद नहीं थी कि टापर में स्थान बनायेगी। दसवी में बोर्ड में टाप में जगह नहीं मिलने से काफी मायूस थी। वेदान्तिका ने बताया कि कालेज में प्रवेश लूंगी..वह सरकारी कर्मचारी बनने का फैसला किया है। टापर ने बताया कि सेन्ट जोसेफ स्कूल की छात्रा है।

पहले सीए फिर पीएससी–शुभ

 टापर की सूची में कटघोरा निवासी शुभ अग्रवाल ने भी वेदान्तिका की तरह 480 अंक हासिल कर प्रदेश में टाप पांच रैंक हासिल किया है। शुभ ने बताया कि वह अपने रिश्तेदार को देखने माता पिता क साथ अपोलो आया है। इसी दौरान उसे रिजल्ट की जानकाीर मिली है। शुभ ने कहा कि स्कूल शिक्षक और ट्यूटर के प्रयास से टॉपर बना है। खासकर यू ट्यब से उसे पढ़ाई में विशेष सफलता मिली है। वह सीए बनना चाहता है। यद्यपि माता पिता पीएससी के लिए कहते हैं। लेकिन पहले सीएम इसके बाद पीएससी की तैयारी करेगा।

                   

Back to top button
close