केन्द्र और एमपी सरकार ने कर दिया DA का एलान, क्या दीपावली से पहले छत्तीसगढ़ के कर्मचारियों को भी मंहगाई भत्ता देकर अपना वादा निभाएंगे CM भूपेश बघेल..?

रायपुर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा केन्द्रीय कर्मचारियों को 1 जुलाई 2021 से देय 3 प्रतिशत् मंहगाई भत्ता के दिपावली पूर्व भुगतान करने की धोषणा करने तथा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह द्वारा 1 जुलाई 2019 एवं 1 जनवरी 2020 के मंहगाई भत्ता के दो किश्त क्रमशः 5 प्रतिशत् एवं 3 प्रतिशत् का भुगताान दिपावली पूर्व किए जाने की धोषणा के बाद अब छत्तीसगढ़ के शासकीय सेवकों को मुख्यमंत्री भूपेश बधेल द्वारा छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के प्रतिनिधि मण्डल से हुए चर्चा व आश्वासन के अनरूप अब 11 प्रतिशत् के स्थान 14 प्रतिशत् मंहगाई भत्ता दिपावली पूर्व दिए जाने की धोषणा किए जाने की अपेक्षा है । ताकि प्रदेश लाखों कर्मचारी व उनके परिजन विगत् दो वर्षो से करोना काल में दिवाली नहीं मना पाएं थे। अब इस वर्ष अच्छी फसल के साथ उत्साहपूर्वक दिपावली मना सकेगें।
छत्तीसगढ़ तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के प्रांतीय अध्यक्ष विजय कुमार झा एवं जिला शाखा अध्यक्ष इदरीश खॉन ने बताया है कि छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के आव्हान पर पिछले3 सितंबर को सामूहिक अवकाश लेकर शासन का ध्यान आकृष्ट किया था। इसके तत्काल बाद मुख्यमंत्री निवास से फेडरेशन के प्रतिनिधियों की चर्चा हुई थीं। मुख्यमंत्री भूपेश बधेल ने स्वयं 1 जुलाई 2019 का लंबित 5 प्रतिशत् मंहगाई भत्ता देने की धोषणा की थी तथा शेष 11 प्रतिशत् के लिए दिपावली का इंतजार करने कहा था। चूंकि अब केन्द्रीय कर्मचारी का 1 जुलाई 2021 से 3 प्रतिशत् मंहगाई भत्ता दिपावली पूर्व देने की धोषणा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किए जाने से केन्द्रीय कर्मचारियों मंहगाई भत्ता 28 प्रतिशत् से बढ़कर 31 प्रतिशत् हो जावेगा। इसी प्रकार मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह द्वारा 1 जुलाई 2019 एवं 1 जनवरी 2020 के मंहगाई भत्ता के दो किश्त क्रमशः 5 प्रतिशत् एवं 03 प्रतिशत् का भुगताान दिपावली पूर्व किए जाने की धोषणा के बाद मध्यप्रदेश के कर्मचारियों का मंहगाई भत्ता 12 प्रतिशत् से 8 प्रतिशत् वृद्वि होने के कारण अब 20 प्रतिशत् जावेगा। छत्तीसगढ़ राज्य के कर्मचारियों को 1 जुलाई 2019 से 12 प्रतिशत् के स्थान पर 5 प्रतिशत् वृद्वि किए जाने के बाद 17 प्रतिशत ही है। इस प्रकार केन्द्रीय कर्मचारियों से 11 प्रतिशत् कम पाने वाला छत्तीसगढ़ का कर्मचारी अब 14 प्रतिशत् पीछे तथा मध्यप्रदेश के कर्मचारियों से 17 प्रतिशत् पाने वाला छत्तीसगढ़ का कर्मचारी 3 प्रतिशत् पीछे हो जावेगा।

दिपावली के पर्व में छत्तीसढ़ का कर्मचारी केन्द्रीय कर्मचारियों एवं मध्यप्रदेश के कर्मचारियों से पीछे रहेगा। प्रदेश के कर्मचारियों के लिए गौरव का विषय है कि पूरे देश में छत्तीसगढ़ राज्य नंबर 1 पर आया है। इसलिए मंहगाई भत्ते के मामले में भी नंबर 1 आने की अपेक्षा मुख्यमंत्री से की है। चूंकि निरंतर डीजल, पेट्रोल, रसोई गैस की कीमतों में बेतहाशा वृद्वि से प्रदेश का कर्मचारी मंहगाई के मार को झेल नहीं पा रहा है। इसलिए मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए आश्वासन के अनुरूप दिपावली पूर्व मंहगाई भत्ता भुगतान हो जाने से बढते हुए मंहगाई से प्रदेश का कर्मचारी संघर्ष कर सकेगा। संघ के कार्यकारी अध्यक्ष अजय तिवारी, महामंत्री उमेश मुदलियार, संभागीय अध्यक्ष संजय शर्मा, पीएचई.संयोजक विमल चन्द्र कुण्डू, सुरेन्द्र त्रिपाठी, आलोक जाधव, संजय झड़बड़े, डॉ. अरूंधति परिहार, रामचंद्र ताण्डी, मनोहर लोचनम्, नरेश वाढ़ेर, सुंदर यादव, रविराज पिल्ले, राजू मुदलियार, कुंदन साहू एस.पी.यदु, के.आर..वर्मा, प्रकाश ठाकुर, सुनील शर्मा, दिनेश मिश्रा, प्रदीप उपाध्याय, विजय डागा, ए.जे.नायक, शेखर सिंह ठाकुर, कृष्णकांत मिश्रा, राजकुमार देशलहरे, दिनेश साहू, प्रवीण ढिढवंशी, भजन बाध, राज कुमार देशलहरे, संत राम साहू, आदि नेताओं ने दिपावली पूर्व लंबित 14 प्रतिशत् मंहगाई भत्ता दिए जाने की मांग मुख्यमंत्री भूपेश बधेल से की है।

Tags:,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *