धरमलाल को शक की बीमारी..कांग्रेसियों का आरोप..भाजपा ने बनाया राम को वोट बैंक

बिलासपुर—छत्तीसगढ़ विधानसभा नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक के बयान को जमकर आड़े हाथ लिया। कांग्रेस नेताओं ने प्रेस नोट जारी कर धरमलाल कौशिक पर भ्रम फैलाने का आरोप लगाया है। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि भाजपा नेता और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक दरअसल शक की बीमारी से ग्रसित हैं। 
 
               ज़िला शहर कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष प्रमोद नायक ,प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संयुक्त महामंत्री राजेन्द्र शुक्ला ने प्रेस नोट जारी कर भारतीय जनता पार्टी नेता धरमलाल कौशिक के बयान पर जमकर निशाना साधा है। प्रमोद नायक और राजेन्द्र शुक्ला ने कहा कि भाजपा नेता भगवान राम का नाम राजनीतिक लाभ के लिए करते हैं। सच बात तो यह है कि भाजपा नेता अंतर्मन और भगवान के आदर्श से कोशों दूर हैं। दरअसल भाजपा नेताओं ने राम के नाम को केवल वोट लेने का साधन बना दिया है। यदि भाजपा राम अपने जीवन मे राम के आदर्श को उतार लें तो शक की बीमारी अपने आप ठीक हो जाएगी।
 
                   कांग्रेस नेताओं ने कहा कि भाजपा नेता हर घटना को  सन्देह की नजरों से देखते हैं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और सांसद राहुल गांधी का माँ वैष्णव देवी के दर्शन के लिए जाने से भाजपा परेशान हो रही है। उलूलजुलुल आरोप लगाने से चूक नही रही है। छत्तीसगढ़ के किसान का राहुल गांधी से  मुलाकात को भी नेता प्रतिपक्ष सन्देह और शक के चश्मे से देख रहे हैं। जबकि  छत्तीसगढ़ के हो या  देश का कोई भी आम आदमी राहुल गांधी से मिलने के लिए तीर्थ यात्रा का चयन क्यो करेगा। कोई भी आम आदमी दिल्ली जाकर  सहजता और सुगमता से राहुल गांधी से  मिल सकता है…जैसा कि हमेशा होता है।
 
              कांग्रेस नेताओं ने बताया कि किसी भी आम आदमी को राहुल गांधी से मिलने के लिए न तो कोई प्रतिबन्ध है और न ही किसी प्रकार की कठिनाई ही है। नेता प्रतिपक्ष अपने भाजपा संस्कार के हिसाब से बयान देते हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को भरे प्रेस वार्ता से किस तरह अमित शाह ने बेईज्जत कर कुर्सी से उठाया दुनिया देखी है।
 
                     कांग्रेसियों ने कहा कि भाजपा नेताओं की पहचान मुंह मे राम बगल में छुरी वाली है। जबकि कांग्रेस मजदूर ,किसान ,दलित ,आदिवासी ,शोषित और सर्वहारा समाज की पार्टी है। जिसके नेता नेहरू से लेकर राहुल गांधी तक सर्वहारा समाज के लोगो के घर जाते रहे और मिलते रहे हैं। लेकिन भाजपा उद्योग घरानों और पूँजीपत्तियो की पार्टी है। आम जन से वोट तो लेती है पर हमदर्दी नही रखती । 
 
                            भाजपा राम के नाम को आत्मसात करे ,भगवान के बताये मार्ग पर चले…तो शायद देश प्रेम जागृत हो जाए। और देश की संपत्ति बच जाए…।  नही तो आने वाली पीढ़ी पकौड़ा तलने की स्थिति में भी नही रहेगी। राजेन्द्र प्रमोदन ने बताया कि शक बुरी बीमारी है…इससे नेता प्रतिपक्ष को बचना चाहिए।
 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *