Second Hand Car खरीदते है तो आपको करवाना पड़ेगा यह काम

Shri Mi

Second Hand Car : अगर आप मिडिल क्लास फैमिली में रहते है तो आपका भी सपना होगा कि आपके पास एक कार हो। लेकिन अगर आप मिडिल क्लास फैमिली में रहते है तो आप नई कार नहीं खरीद सकते और सेकंड हैंड कार (Second Hand Car) खरीदने के बारे में सोचते है।

अगर आप सेकंड हैंड कार खरीदते है तो आपको RC अपने नाम करवानी होती है। लेकिन पुरानी या सेकंड हैंड कार (Second Hand Car) खरीदते समय RC के अलावा और भी कई दस्तावेज भी अपने नाम करवाने होते है। आइये जानते है इनके बारे में….

आप कार खरीदने के अपने सपने को सेकंड हैंड कार (Second Hand Car) खरीद कर पूरा कर सकते है और आपको कम कीमत में कार भी मिल जाती है। इसीलिए आजकल बहुत सारे लोग सेकंड हैंड कार ले रहे है। लेकिन इसके बाद आपको कई दस्तावेज अपने नाम चेंज करवाने होते है।

समान्य तौर पर रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट जिसे आरसी (RC) कहा जाता है लोग उसे अपने नाम पर करवा लेते हैं। लेकिन सिर्फ आरसी ही नहीं, बल्कि कार का इंश्योरेंस भी अपने नाम करवाना होता है। ये भी एक बहुत ही जरूरी दस्तावेज माना जाता है। ऐसा इसलिए क्योंकि अगर कभी कार एक्सीडेंट हो जाता है तो आप इसके बिना इंश्योरेंस क्लेम नहीं कर पाएंगे।

इसके अलावा अगर आप सेकंड हैंड कार (Second Hand Car) ले रहे है तो इसकी सर्विस बुक भी आपको जरूर चेक करनी चाहिए। इससे आपको पता चल जाता है कि कार में क्या-क्या खराबी निकल सकती है? इसके अलावा गाड़ी के आपसे पहले वाले मालिक ने इसे लोन लेकर खरीदा है तो ये भी चेक कर लेना चाहिए कि लोन पूरा चुकाया गया है या नहीं?

इसके लिए आपको फॉर्म 35 जरूर चेक करना चाहिए। यह नो ऑब्जेक्शन सर्टिफिकेट (NOC) होता है जो बैंक की ओर से ऑनर को दिया जाता है। इसके अलावा आपको रोड़ टैक्स (Road Tax) की रसीद भी जरूर देखनी चाहिए। अगर आपसे पहले वाले ऑनर रोड टेक्स नहीं भरा होगा तो फिर आपको भरना पड़ जायेगा।

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close