‘जिन जिलों में पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा वहां लागू हो दोबारा लॉकडाउन’, केंद्र ने राज्यों को दिए यह निर्देश

Shri Mi
3 Min Read

दिल्ली।केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने शनिवार को उन 10 राज्यों के साथ एक हाईलेवल बैठक की जहां या तो कोरोना के नए मामलों में बढ़ोतरी हो रही है या पॉजिटिविटी रेट बढ़ रही है. राजेश भूषण ने कहा है कि पिछले कुछ हफ्तों में जिन जिलों में पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा उन्हें सख्ती से लॉकडाउन के नियमों का पालन करना होगा. केरल, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, ओडिशा, असम, मिजोरम, मेघालय, आंध्र प्रदेश और मणिपुर इस बैठक में शामिल हुए थे.बैठक में ये भी बताया गया कि ऐसे हालातों में किसी भी तरह की लापरवाही स्थिति को और भी खराब कर सकते हैं. भारत के लगभग 46 जिलों में 10 प्रतिशत से ज्यादा सकारात्मकता दर हैं और 53 जिले खतरे की ओर बढ़ रहे हैं क्योंकि उनकी सकारात्मकता दर 5 प्रतिशत से 10 प्रतिशत के बीच है.

राज्यों को दिए गए 4 अहम दिशा निर्देश

बैठक में शामिल राज्यों को राज्यों को चार सूत्री दिशानिर्देश दिए गए हैं.

1. उन क्षेत्रों पर नियंत्रण और निगरानी रखना जहां कोरोना के सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए जा रहे हों.
2. मामलों की मैपिंग,संक्रमितों से जुड़े संपर्कों का पता लगाना और कंटेनमेंट जोन को परिभाषित करना
3.बाल चिकित्सा देखभाल पर ध्यान देने के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में सुधार करना
4. ICMR गाइडलाइन के अनुसार मृत्यु गणना को दर्ज करना

बैठक में मौजूद भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के महानिदेशक डॉ बलराम भार्गव ने बैठक में मौजूद राज्यों से गैरजरूरी यात्रा और भीड़भाड़ से बचने के लिए कहा है.

80 प्रतिशत से अधिक सक्रिय मामले होम आइसोलेशन में

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक इन 10 राज्यों में, 80 प्रतिशत से अधिक सक्रिय मामले होम आइसोलेशन में हैं. इन लोगों पर नजर रखने की जरूरत पर जोर देते हुए मंत्रालय ने कहा कि इन मरीजों की निगरानी के लिए समुदाय, गांव मोहल्ला, वार्ड आदि के स्तर पर स्थानीय निगरानी होनी चाहिए ताकी ये पता चल सके कि क्या उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत है.

मंत्रालय ने कहा कि जिन जिलों में मामले की सकारात्मकता दर 5 से 10 प्रतिशत के बीच है, उन्हें भी सावधान रहना चाहिए. वह टीकाकरण अभियान पर ध्यान दे सकते हैं. केंद्र अब राज्यों को सूचित करता है कि उन्हें कितनी वैक्सीन की खुराक मिल रही है, ऐसे में राज्य इन जिलों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close