साहित्यकारों ने दी श्रद्धांजलि…नवगीतकार अजय पाठक ने कहा…अटल ने कविता को बनाया मनुष्यता का आभूषण

बिलासपुर—साहित्यकारों ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धान्जलि दी है। रविवार को भारतेंदु साहित्य समिति के तत्वाधान में आयोजित श्रद्धांजलि सभा में साहित्यकारों ने उस्लापुर में आयोजित काव्यगोष्ठी के दौरान नम आखों से भारत रत्न को याद किया। कार्यक्रम में वरिष्ठ साहित्यकारों के अलावा राज्य स्तरीय युवा कलमकार खोज कार्यक्रम के प्रतिभागियों ने भी हिस्सा लिया।
                  उस्लापुर में मुख्य अतिथि नवगीतकार अजय पाठक की मौजूदगी में काव्य गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस दौरान विशिष्ट अतिथि के रूप में शायर राज़ मल्कापुरी, केवल कृष्ण पाठक, गीतकार विजय तिवारी विशेष रूप से मौजूद थे। वरिष्ठ साहित्यकार नंद किशोर तिवारी ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। संचालन का काम श्री कुमार ने किया।
                          सभी कवियों ने भारत रत्न अटल को श्रद्धाजंलि देकर जीवन पर प्रकाश डाला। मुख्य अतिथि डॉ पाठक ने अटल के जीवन के विभिन्न पहलुओं पर अपनी बातों को रखा। उन्होने बताया कि अटल जी के सम्पूर्ण व्यक्तित्व को उभारने में कविता का बड़ा योगदान रहा है। इससे स्पष्ट है कि कविता मनुष्य को महान बनाने का उपक्रम भी है। कविता मनुष्यता का आभूषण भी है। पाठक ने बताया कि उन्होंने युवा रचनाकारों को रचनाकर्म का कर्तव्य ईमानदारी से निर्वहन करना होगा।
                   डॉ मल्कापुरी,केवल कृष्ण पाठक,विजय तिवारी और  नंद किशोर तिवारी ने भी युवा कलमकारों को बहुमूल्य जानकारी दी। अटल जी पर केंद्रित  गोष्ठी कार्यक्रम में राज्य स्तरीय युवा कलमकार खोज कार्यक्रम में बिलासपुर जिले के प्रतिभागियों को युवा आयोग सह साँईं नाथ फाउंडेशन की तरफ से प्रमाण पत्र वितरित किया गया।
                        कार्यक्रम में सनत तिवारी,ओमप्रकाश भट्ट,हरवंश शुक्ल,नितेश पाटकर,अनु चक्रवर्ती,हनी चौबे मधुक्षरा,सुमित शर्मा,पूजा पाण्डेय,आदित्य भारती,गजानंद पात्रे,रानी साहू,दिनेश्वर जाधव,सन्नी यादव,पूर्णिमा तिवारी,विपुल तवारी समेत अन्य साहित्यकारों ने शानदार प्रस्तुति दी। उपस्थित सभी साहित्यकारों ने अटल बिहारी वाजपेयी की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन भी रखा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *